scriptWeather News Rajasthan, Cold wave in Rajasthan, damage to crops | Weather News : सर्दी का सितम, कोटा में शीत कहर | Patrika News

Weather News : सर्दी का सितम, कोटा में शीत कहर

मौसम का सख्त मिजाज

जनजीवन प्रभावित, दिनचर्चा बदली, ऊनी कपड़ों में भी राहत नहीं, अलाव ही सहारा
कोटा स्टेशन पर न्यूनतम तापमान 5.5 डिग्री पर पहुंचा, दिन में जले अलाव
सर्दी के हिसाब से बदल गया जायका

कोटा

Published: January 10, 2022 11:18:46 pm

कोटा. कोटा संभाग में पिछले दिनों हुई बारिश व ओलावृष्टि के बाद सोमवार को शीतलहर का कहर बरपा। सर्दी से राहत पाने के लिए दिन में अलाव जल उठे। कोटा में सुबह 7 बजे धूप खिली, लेकिन कुछ देर बाद काले घने बादल छा गए, लेकिन बरसे नहीं। उसके बाद शीतलहर कहर बरपाने लगी।
Weather News : सर्दी का सितम, कोटा में शीत कहर
Weather News : सर्दी का सितम, कोटा में शीत कहर
शीतलहर के कारण हाड़ कंपकंपा गए। घरों व दुकानों के बाहर अलाव जलाकर सर्दी से बचने का जतन किया। शीतलहर के कारण हालात यह थे कि लोग घरों में रहे। जरूरी कार्य पर ही बाहर निकले। लोगों की दिनचर्या भी देरी से शुरू हुई। बाइक पर चालकों को ठंडी हवा शूल सी चुभती रही। दोपहर 2 बजे तेज धूप खिली। उससे थोड़ी राहत मिली, लेकिन ठंडी हवा चलने से वह बेअसर साबित हुई। शाम ढलने के बाद गलन बढ़ गई।
मौसम विभाग के अनुसार, स्टेशन पर न्यूनतम तापमान 5.5 डिग्री पर पहुंच गया। जबकि नए कोटा में न्यनूतम तापमान 4 डिग्री गिरकर 8.0 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। विजिबिलिटी 1 हजार मीटर रही। हवा की रफ्तार 3 किमी प्रति घंटे की रही।
पाला पडऩे की चेतावनी
कृषि विभाग ने पाला पडऩे की आश्ंाका जताते हुए किसानों के लिए एडवाजरी जारी की है। इसमें खेतों की मेड पर धुंआ करने की सलाह दी है।


बादलों की आवाजाही
सोमवार को झालावाड़ जिला शीतलहर की चपेट में रहा। सुबह घना कोहरा छाया रहा। इसके बाद दिनभर शीतलहर चलती रही। इससे ठिठुरन बढ़ गई है। बूंदी जिले में दिनभर बादलों की आवाजाही बनी रही। अलसुबह सर्द हवाओं ने लोगों को ठिठुराए रखा। तापमान में गिरावट दर्ज की गई। लोग अलाव जलाकर तापते नजर आए। अधिकतम तापमान 15 व न्यूनतम 11 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। बारां में भी शीतलहर ने आमजन को जकड़ लिया।

ठिठुर गया पोर-पोर
सांगोद. क्षेत्र में सर्दी बीते कई दिनों से पूरे रंग में है। तापमान में गिरावट से गलन का असर सोमवार को भी रहा। दिनभर सूर्यदेव काले बादलों की ओट में छिपे रहे। सर्द हवा से दिनभर गलन से आम जनजीवन प्रभावित रहा और लोगों की दिनचर्या पर भी इसका असर नजर आया। हालांकि शाम को कुछ समय के लिए धूप खिली, लेकिन सर्द हवाओं व गलन के असर से धूप भी बेअसर रही। लोग दिनभर गर्म कपड़ों में भी धूजते नजर आए।
गलन के चलते सूर्यास्त के बाद लोगों ने अलाव की शरण में जाना मुनासिब समझा। बीते चार दिनों से तापमान में गिरावट से सर्दी की चमक बढ़ गई। सर्दी का असर यह है कि सुबह देर तक लोग रजाइयों में दुबक रहे हैं तो बाजारों में भी लोगों की आवाजाही देर से ही शुरू हो रही है। शाम को बाजार लोगों की आवाजाही को तरस जाते हैं। दुकानदार भी दुकानों पर समय व्यतीत करने के बजाय घरों पर जाकर सर्दी से राहत का जतन करना मुनासिब समझ रहे हैं। सर्दी का आलम यह है कि सुबह फसलों पर ओस की बूंदें जमने लगी है। तेज सर्दी से पशु पक्षियों के हाल भी बेहाल हंै। जहां अलाव जलते दिखते हंै वहां आसपास पशु खड़े हो जाते हैं। दुपहिया वाहनों में सफर करना लोगों के लिए चुनौती बन रहा है। नकाबपोश बनने के बाद भी लोगों की हालत खस्ता हो रही है। चौपहिया वाहनों में भी हालत कुछ ऐसी ही है।

दिनभर चली सर्द हवा
चेचट. मौसम खुलने के साथ ही सोमवार को चली सर्द हवा से जनजीवन प्रभावित हो गया। सर्दी के तेवर और तीखे हो गए। बचाव के लिए लोग दिनभर ऊनी कपड़े पहने रहे। अलाव के आगे बैठे रहे। आसमान में बादल छाए रहे। दिनभर सर्द हवा का दौर चला। इससे धूजणी छूट गईद्ध शाम ढलते ही सर्दी का असर तेज हो गया। दुकानदार भी दुकानों के सामने अलाव जलाकर सर्दी से बचाव करते दिखे। तड़के कोहरे के कारण लोगों को दुपहिया वाहनों पर निकलना मुश्किल हुआ।
ओलावृष्टि ने खेतों में बरपाया कहर
कुंदनपुर. क्षेत्र में गत दिनों बारिश व ओलावृष्टि से फसलों में हुए खराबे का जिला प्रमुख मुकेश मेघवाल, भाजपा नेता प्रेमचंद गुर्जर व कालूलाल मीणा ने जायजा लिया। उन्होंने क्षेत्र के कई गांवों में पहुंचकर फसलों में हुए खराबे की स्थिति देखी तथा किसानों से चर्चा की। जिला प्रमुख ने फसलों में हुए नुकसान का शीघ्र सर्वे कर किसानों को तत्काल राहत देने को कहा। उल्लेखनीय है कि शुक्रवार रात क्षेत्र में हुई बारिश व ओलावृष्टि से क्षेत्र के थूनपुर, गुड़ला, गुहावदा, खेड़ली, कैलाशपुरा, हरिपुरामांजी, जनकपुर आदि गांवों में फसलों को खासा नुकसान पहुंचा। वहीं लहलहाती फसल खेतों में आड़ी पड़ गई तो कई गांवों में ओलावृष्टि ने खेतों में कहर बरपाया। जिला प्रमुख ने किसानों के साथ खेतों में पहुंचकर फसलों में हुए खराबे को देखा तथा किसानों से चर्चा कर हर संभव मदद दिलाने का भरोसा दिलाया।
बर्फीली हवा ने छुड़ा दी लोगों की धूजणी
रामगंजमंडी.सुकेत. उपखण्ड क्षेत्र में पिछले दो दिनों से चल रही बर्फीली हवा ने जनजीवन को प्रभावित कर दिया है। लोगों की दिनचर्या बदल गई है। सर्दी का सितम ऐसा है कि ऊनी कपड़े पहनने के बाद भी राहत नहीं मिल रही है। अलाव ही एकमात्र सहारा है। सर्द हवा के झौंकों ने लोगों को धूजणी छुड़ा दी है। सर्दी के कारण बाजारों की रौनक प्रभावित हो रही है। सुकेत में दो दिन पूर्व हुई तेज बारिश के बाद कस्बे सहित क्षेत्र में सोमवार को मौसम एकदम सद रहा। दिनभर कस्बेवासी धूप में बैठे रहे। वहीं शाम 4 बजे बाद कई जगह लोगों ने अलाव जलाकर निजाद पाने का प्रयास किया।

सातलखेड़ी. मावठ के बाद क्षेत्र में जारी शीतलहर से जनजीवन प्रभावित है। सोमवार सुबह से आसमान में बादल छाए रहे तथा बर्फानी हवाओं का दौर जारी रहा। जरूरी कामकाज के सिलसिले में घरों से बाहर निकले लोग ऊनी कपड़ों में दिखे। लोग अलाव जलाकर राहत का जतन करते रहे। दोपहर बाद धूप खिलने से लोगों को कुछ राहत मिली, लेकिन दिन ढलते ही शीतलहर का प्रकोप बढ़ गया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022: परम विशिष्ट सेवा मेडल के बाद नीरज चोपड़ा को पद्मश्री, देवेंद्र झाझरिया को पद्म भूषणRepublic Day 2022: 939 वीरों को मिलेंगे गैलेंट्री अवॉर्ड, सबसे ज्यादा मेडल जम्मू-कश्मीर पुलिस कोस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयमुख्यमंत्री नितीश कुमार ने छोड़ा BJP का साथ, UP चुनावों में घोषित कर दिये 20 प्रत्याशीAloe Vera Juice: खाली पेट एलोवेरा जूस पीने से मिलते हैं गजब के फायदेगणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस पर झंडा फहराने में क्या है अंतर, जानिए इसके बारे मेंRepublic Day 2022: गणतंत्र दिवस परेड में हरियाणा की झांकी का हिस्सा रहेंगे, स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.