ऐसा क्या हुआ कि कांग्रेस ने रखी कफ्र्यू हटाने की मांग

जिला प्रशासन की ओर से घोषणा की जा चुकी है कि कफ्र्यू हटाने से पहले रेंडम नमूने लेकर जांच की जाएगी। कोविड के नए रोगी सामने नहीं आने पर ही कफ्र्यू से छूट दी जा सकेगी।

By: Jaggo Chand Singh

Updated: 10 May 2020, 04:45 PM IST


कोटा. कांग्रेस की ओर से जिन थाना क्षेत्रों में कोविड-19 के रोगी ठीक हो चुके हैं और नए रोगी सामने नहीं आए हैं, वहां कफ्र्यू से छूट देने की मांग रखी है। शहर जिला कांग्रेस कमेटी का एक प्रतिनिधि मंडल रविवार को शहर अध्यक्ष रविन्द्र त्यागी के नेतृत्व में जिला कलक्टर ओम कसेरा से मिला।
त्यागी ने कांग्रेस की ओर से बात रखते हुए बताया कि जहां अब हालात सुधर गए हैं वहां से कफ्र्यू हटाया जाना चाहिए। जिससे लोग अपना रोजगार शुरू कर सकें। लोग घरों में रहकर परेशान हो गए हैं, उन्हें रोजगार और कफ्र्यू से मुक्ति चाहिए। इससे पहले रेंडम नमूनों की जांच करा ली जाए। प्रतिनिधि मंडल ने भगत सिंह कालोनी, खेड़ली फाटक, गौरीहाउस अनंतपुरा, सुभाष नगर पत्थरमंडी, राधिका रेस्टोरेन्ट शिवपुरा, आकाशवाणी कालोनी, अमृत विहार बोरखेड़ा और रामपुरा में विक्रम चौक को छोड़कर जल्द कफ्र्यू से राहत देने की मांग रखी।
क्यों सील हुई राजस्थान की सीमा
प्रतिनिधि मंडल में पूर्व पार्षद ईश्वर गंभीर, विजय सिंह और संजय यादव सहित कई प्रतिनिधि मौजूद रहे। उधर, जिला प्रशासन की ओर से पहले की घोषणा की जा चुकी है कि कफ्र्यू हटाने से पहले रेंडम नमूने लेकर जांच की जाएगी। कोविड के नए रोगी सामने नहीं आने पर ही कफ्र्यू से छूट दी जा सकेगी। यही बात जिला कलक्टर ने प्रतिनिधि मंडल ने बताई। कलक्टर ने कहा, लोगों के स्वास्थ्य की संक्रमण से रक्षा करना पहली प्राथमिकता है। प्रशासन लोगों की हर संभव मदद कर रहा है। गाइडलाइन की पालना करते हुए ही कफ्र्यू में ढील दी जाएगी।

Jaggo Chand Singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned