क्या है बॉम्बे ब्लड ग्रुप और क्यों होता है रेयरेस्ट, पढि़ए, दुनिया के सबसे दुर्लभ खून की कहानी...

क्या है बॉम्बे ब्लड ग्रुप और क्यों होता है रेयरेस्ट, पढि़ए, दुनिया के सबसे दुर्लभ खून की कहानी...

Zuber Khan | Updated: 22 Apr 2019, 10:52:14 AM (IST) Kota, Kota, Rajasthan, India

आप और हम ब्लड ग्रुप ओ निगेटिव को अमूमन रेयर ब्लड ग्रुप मानते हैं लेकिन आपको ये जानकर हैरानी होगी कि एक ऐसा ब्लड ग्रुप भी है जो ओ निगेटिव से भी ज्यादा रेयरेस्ट ब्लड ग्रुप है

कोटा. आप और हम ब्लड ग्रुप ओ निगेटिव को अमूमन रेयर ब्लड ग्रुप मानते हैं लेकिन आपको ये जानकर हैरानी होगी कि एक ऐसा ब्लड ग्रुप भी है जो ओ निगेटिव से भी ज्यादा रेयरेस्ट ब्लड ग्रुप है। शायद आपने इसका नाम भी नहीं सुना होगा। इस ब्लड ग्रुप का नाम 'बॉम्बे ब्लड ग्रुप' है।

Read More: बॉम्बे ब्लड ग्रुप: बारां की मनभर के लिए पुणे से फ्लाइट में कोटा आया खून

क्या होता है बॉम्बे ब्लड गु्रप
Bombay Blood Group 'ओ' पॉजिटिव रक्त समूह से एक ऐसा दुर्लभ रक्त समूह है जो लाखों लोगों में से किसी एक में पाया जाता है। इस रक्त समूह को रेयर ऑफ द रेयरेस्ट रक्त समूह भी कहते है। यह सिर्फ अपने ही Blood Group यानी एचएच ब्लड टाइप वालों से ही ब्लड ले सकता हैं। भारत में इस ब्लड गु्रप के 279 सदस्य हैं। इस ब्लड ग्रुप के शख्स किसी भी एबीओ फेनोटाइप रिम में आने वाले सदस्य को रक्त दे सकते हैं, लेकिन खुद के लिए रक्त लेना संभव नहीं है। वे सिर्फ अपने ग्रुप के सदस्यों का ही रक्त ले सकते है।

Read More: नलकूप खुदाई के दौरान जमीन से 40 फीट ऊंचा चला पानी का फव्वारा, आसमान से पत्थरों की हुई बरसात

दुर्लभ है यह ब्लड ग्रुप
बॉम्बे ब्लड ग्रुप को Rare of the Rarest Blood group माना जाता है। विश्व की कुल जनसंख्या में सिर्फ 0.0004 फीसदी लोगों में ही यह ब्लड पाया जाता है। इसे सबसे पहले साल 1952 में डॉक्टर वाई जी भिड़े ने खोजा था। मरीज के लिए इस ब्लड ग्रुप का इंतजाम करना काफी मुश्किलभरा रहता है। कई बार यह ग्रुप का इंतजाम करने में ही इतना समय बीत जाता है की मरीज की जान तक चली जाती है।

BIG NEWS: कोटा के शिक्षक की खोज: अब 700 डिग्री टेंप्रेचर पर भी नहीं फटेगी ट्यूब

भारत से म्यांमार पहुंचा था बॉम्बे ब्लड ग्रुप
गत वर्ष म्यांमार में दिल की सर्जरी के लिए एक &4 वर्षीय महिला को खून की जरूरत थी। उसके ब्लड ग्रुप का ब्लड मिलना काफी दुर्लभ था। म्यांमार में महिला के ग्रुप का ब्लड काफी खोजा गया लेकिन निराश ही हाथ लगी। फिर मीलों दूर भारत की तरफ से मदद का हाथ बढ़े। बेंगलुरु के देवनगरे ब्लड बैंक ने दुर्लभ bombay blood group खून की दो यूनिट कूरियर के जरिए म्यांमार भेजीं। तब जाकर महिला की जान बच सकी। बेंगलुरु की संकल्प इंडिया फाउंडेशन बॉम्बे ब्लड ग्रुप की एक एक्सक्लूसिव रजिस्ट्री चलाता है। यह फाउंडेशन दुर्लभ ब्लड ग्रुप की यूनिट्स का इंतजाम करता है और जरूरतमंदों को पहुंचाता है। इसी के जरिए म्यांमार के डॉक्टरों ने फाउंडेशन से सम्पर्क कर खून मंगवाया था।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned