पिता की सांसें उखडऩे लगी तो बेटे ने ऑक्सीजन सिलेंडर लगाकर बचाई जान

मरीज तड़पने लगा तो पत्नी और बहन करने लगी पम्पिंग

By: Ranjeet singh solanki

Published: 12 May 2021, 10:47 PM IST

Jhalawar.पिड़ावा. झालावाड़ जिले के पिड़ावा उपखण्ड के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में मंगलवार रात भर्ती एक मरीज की ऑक्सीजन सिलेण्डर खत्म होने के बाद सांसें उखडऩे लग गई। यह देखकर बेटा दौड़कर ड्यूटी डॉक्टर के पास गया तो बोले दूसरे मरीज को देखकर आ रहे हैं। काफी देर तक डॉक्टर नहीं आए तो मरीज बुरी तरह तड़पने लग गया। मरीज की सांसें उखड़ती देखकर उसकी पत्नी और बहन पम्पिंग देने लगी और बेटा दौड़कर खुद ही भरा हुआ ऑक्सीजन सिलेण्डर लेकर आया और आनन-फानन में उसने ही सिलेण्डर लगाकर ऑक्सीजन की सप्लाई चालू कर दी। इस समूचे घटनाक्रम का बुधवार को सोशल मीडिया पर वीडियो जमकर वायरल हुआ। इसमें अस्पताल प्रशासन की लापरवाही सामने आ रही है। सरवर गांव निवासी मरीज रतनलाल को चार दिन पहले बुखार व सांस लेने में तकलीफ के चलते पिड़ावा स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती करवाया गया था। मरीज की रिपोर्ट भी कोरोना पॉजिटिव पाई गई । वायरल वीडियो में मरीज ऑक्सीजन की कमी के चलते तड़पता हुआ दिखाई दिया। जिसमें दो महिलाएं मरीज की पत्नी सुमित्रा बाई तथा बहन प्रेम बाई अपनी आंखों के सामने तड़पते हुए रतनलाल के सीने पर मालिश कर जान बचाने के लिए संघर्ष कर रही है । वहीं मरीज के पुत्र सहित अन्य परिजन स्वयं ऑक्सीजन खत्म होने पर ऑक्सीजन लगा रहे थे । इस दौरान डॉक्टर, नर्सिंग स्टॉफ कोई मौजूद नहीं था। इस गंभीर घटना का पिड़ावा निवासी अजीम परवेज ने वीडियो बनाकर वायरल किया। मरीज के पुत्र गोविन्द मेघवाल ने बताया की मंगलवार रात लगभग साढ़े बजे ऑक्सीजन सिलेंडर खत्म हो गया था । जिसके चलते उनको ऑक्सीजन लेने में तकलीफ होने लगी और वह तड़पने लगे। इस दौरान चिकित्सक राउंड पर आए हुए थे डॉक्टर साब को पिता को देखने की गुहार लगाई । चिकित्सक ने थोड़ी देर में आने की बात कही। जिसके बाद राउंड पूरा होने के बाद बिना देखते ही चिकित्सक नीचे चले गए और में इंतजार ही करता रह गया । जब मुझे पता चला कि चिकित्सक नीचे चले गए तो में दौड़ कर नीचे आया। जहां एक चिकित्साकर्मी मिला मैंने उनसे बोला कि मेरे पिता के यहां लगा हुआ ऑक्सीजन सिलेंडर खत्म हो गया है । मुझे एक सिलेंडर चाहिए। जिसके बाद कर्मचारी चिकित्सक से ऑक्सीजन सिलेंडर देने की पूछने गए । वहां से आने के बाद नाइट ड्यूटी पर लगे कर्मचारी से सिलेंडर देने की बोला गया । जिस पर कर्मचारी ने सिलेंडर देने को कहा । फि र कर्मचारी कमरे की चाबी लेकर आया । वहां से सिलेंडर निकाला सिलेंडर को में खुद लेकर आया और मेरे पिता के मैंने खुद ने ऑक्सीजन सिलेंडर लगाया ।
55 कर्मचारी कार्यरत है चिकित्सालय में
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पिड़ावा में 20 स्थाई कर्मचारी सहित 35 कर्मचारी संविदा पर लगे हुए हैं। चिकित्सा विभाग ने राजनेताओं की अनुशंसा पर कई दजऱ्नो संविदा कर्मी लगा रखे है। फि र भी चिकित्सालय में व्यवस्था बनाने वाला कोई नही है। मरीज तपडता रहे । परिजन परेशान होते रहे। किसी को कोई फर्क नही पड़ता है। चिकित्सालय में 11 चिकित्सकों के पद स्वीकृत है, लेकिन वर्तमान समय में ओपीडी में एकमात्र चिकित्सक मरीजों को देख रहा है । इस चिकित्सालय में बहुत लंबे समय से चिकित्सकों का टोटा चल रहा है ।
निरीक्षण किया
चिकित्सालय की व्यवस्था पर सवाल उठाता वीडियो तेजी से वायरल होने के बाद उपखंड अधिकारी के निर्देश पर सुनेल नायाब तहसीलदार महेश शर्मा व रघुवीर स्वामी ने बुधवार को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का निरीक्षण किया । इस दौरान पत्रिका संवाददाता ने जब नायब तहसीलदार महेश शर्मा से निरीक्षण में पाई जाने वाली कमी के बारे में पूछा तो उन्होंने पल्ला झाड़ते हुए बताया कि मैंने रिपोर्ट अधिकारियों को को दे दी है ।
& जब यह घटनाकम हुआ, उसी दौरान इमरजेन्सी रूम में मेडिकल इमरजेंसी आई हुई थी । डॉक्टर व स्टाफ उसके इलाज में लगे हुए थे । जैसे ही ऊपर ऑक्सीजन खत्म होने की सूचना मिली वैसे ही स्टॉफ ने जाकर ऑक्सीजन लगा दी । अंकुर सोमानी, बीसीएमओ

BJP Congress
Show More
Ranjeet singh solanki
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned