scriptwho went to save the dogs were trapped between floods and crocodiles | Salute : श्वानों को बचाने गए तीन जने बाढ़ व मगरमच्छों के बीच पांच घंटे फंसे रहे | Patrika News

Salute : श्वानों को बचाने गए तीन जने बाढ़ व मगरमच्छों के बीच पांच घंटे फंसे रहे

खुद का जीवन संकट में डाल बेजुबानों को बचा लाए

कोटा

Updated: August 04, 2021 10:39:16 pm

कोटा.

भारी बरसात के कारण बुधवार सुबह कोटा शहर में पानी ही पानी नजर आ रहा था। इस विकट समय में कुछ लोग ऐसे भी थे, जो बेसहाराजीवों की करुण पुकार महसूस कर उन्हें बचाने के लिए चले गए। श्वानों को बचाने गए तीन जने तो खुद पानी व मगरमच्छों के बीच फंस गए, लेकिन नगर निगम व एसडीआरएफ की रेस्क्यू टीम को बुलाकर श्वानों को बचा लिया।
Salute :  श्वानों को बचाने गए तीन जने बाढ़ व मगरमच्छों के बीच पांच घंटे फंसे रहे
Salute : श्वानों को बचाने गए तीन जने बाढ़ व मगरमच्छों के बीच पांच घंटे फंसे रहे
हिम्मत नहीं हारी
बोरखंडी क्षेत्र में बुधवार सुबह चंद्रलोई नदी के उफान पर शेल्टर में श्वानों को बचाने गए नवनीत हाड़ा सहित तीन जने पानी में फंस गए। उन्होंने करीब 12 श्वानों को पानी में डूबने से बचा लिया। सभी श्वानों को शेल्टर के टीन शेड पर चढ़ा दिया। इस बीच नदी का पानी ज्यादा बढ़ गया और मगरमच्छ दिखाई देने पर तीनों ने भी शेल्टर पर चढ़कर अपना बचाव किया। पानी का स्तर बढ़ता ही चला गया। इस पर नवनीत ने बेसहारों की मेजर प्रमिलासिंह के जरिए राजस्थान पत्रिका तक सूचना पहुंचाई। पत्रिका ने जिला कलक्टर उज्ज्वल राठौड़ और महापौर मंजू मेहरा को अवगत कराया। उन्होंने एसडीआरएफ की रेस्क्यू टीम भेजी। अजमेर एसडीआरएफ टीम के लीडर विमल कुमार ने मौके पर पहुंचकर तीनों को श्वानों के साथ सुरक्षित निकाल लिया। करीब पांच घंटे से ज्यादा समय तक बरसात में भीगने के कारण तीनों की तबीयत भी खराब हो गई।
READ MORE : पीएम की पाती : पिता के संस्कारों की राह चली कोटा की मेजर बेटी, PM Modi ने की तारीफ

Salute : श्वानों को बचाने गए तीन जने बाढ़ व मगरमच्छों के बीच पांच घंटे फंसे रहेबेटी व पिता ने 30 श्वानों को बचाया-
कोटा के श्रीनाथपुरमनगर निवासी सेवानिवृत मेजर प्रमिलासिंह व उसके पिता श्यामवीरसिंह बुधवार सुबह बरसात के दौरान बेसहारा श्वानों को बचाने सड़कों पर निकले। उन्होंने दादाबाड़ी क्षेत्र में जलभराव के बीच परेशान श्वानों को देखा। श्वान बरसात से बचने के लिए लोहे पाइप और पेड़ों के तनों का सहारा लेने की कोशिश कर रहे थे। मेजर प्रमिला ने अपने पिता के साथ उन सभी श्वानों को सहारा दिया और पास ही खाली पड़े सरकारी आवासों में सुरक्षित जगह सूखी जगह पर बैठाया और उनको भोजन खिलाया। शाम तक करीब 30 बेसहारा श्वानों को सुरक्षित जगह पहुंचाया। गौरतलब है कि मेजर व उनके पिता पिछले कई वर्षों से कोटा में बेसहारा जीवों का सहारा बने हुए हैं। कोरोनाकाल में भी बेजुबानों को खाना-पानी देकर उन्हें बचाया था। कुछ समय पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने एक पत्र जारी कर कोटा की बेटी मेजर प्रमिलासिंह व उनके पिता श्यामवीरसिंह के सेवा कार्यों की सराहना की थी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कम उम्र में ही दौलत शोहरत हासिल कर लेते हैं इन 4 राशियों के लोग, होते हैं मेहनतीबाघिन के हमले से वाइल्ड बोर ढेर, देखते रहे गए पर्यटक, देखें टाइगर के शिकार का लाइव वीडियोइन 4 राशि की लड़कियों का हर जगह रहता है दबदबा, हर किसी पर पड़ती हैं भारीआनंद महिंद्रा ने पूरा किया वादा, जुगाड़ जीप बनाने वाले शख्स को बदले में दी नई Mahindra BoleroFace Moles Astrology: चेहरे की इन जगहों पर तिल होना धनवान होने की मानी जाती है निशानीइन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशदेश में धूम मचाने आ रही हैं Maruti की ये शानदार CNG कारें, हैचबैक से लेकर SUV जैसी गाड़ियां शामिल

बड़ी खबरें

Republic Day 2022 LIVE updates: राजपथ पर दिखी संस्कृति और नारी शक्ति की झलक, 7 राफेल, 17 जगुआर और मिग-29 ने दिखाया जलवारेलवे का बड़ा फैसला: NTPC और लेवल-1 परीक्षा पर रोक, रिजल्‍ट पर पुर्नविचार के लिए कमेटी गठितRepublic Day 2022: गणतंत्र दिवस पर दिल्ली की किलेबंदी, जमीन से आसमान तक करीब 50 हजार सुरक्षाबल मुस्तैदUP Assembly Elections 2022 : सपा सांसद आजम खां जेल से ही करेंगे नामांकन, कोर्ट ने दी अनुमतिरायबरेली में जहरीली शराब पीने से 6 की मौत, कई गंभीर, जांच के आदेशक्या योगी आदित्यनाथ फिर बनेंगे यूपी के मुख्यमंत्री? जानिए क्या कहती हैं ज्योतिषीयों की भविष्यवाणीकांग्रेस युक्त भाजपा! कविता के जरिए शशि थरूर ने पार्टी छोड़ रहे नेताओं और बीजेपी पर कसा तंजRPN Singh के पार्टी छोड़ने पर बोले CM गहलोत, आने वालों का स्वागत तो जाने वालों का भी स्वागत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.