शमशान तक पहुंचा कोरोना का कहर, कोटा में हुई गंभीर लापरवाही

कोटा/सुल्तानपुर. कोरोना महामारी के बीच गुरुवार को एमबीएस अस्पताल की एक बड़ी गंभीर लापरवाही सामने आई है। अस्पताल प्रशासन ने एक मरीज की कोरोना रिपोर्ट आने से पहले ही परिजनों को शव सौपा दिया। मेडिकल कॉलेज की लैब से जारी रिपोर्ट में मरीज के कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई तो प्रशासन के हाथ-पांव फूल गए। मरीज का पता किया तो सामने आया कि परिजनों ने शव का अंतिम संस्कार कर दिया।

By: Deepak Sharma

Updated: 13 Aug 2020, 08:41 PM IST

कोटा/सुल्तानपुर. कोरोना महामारी (Corona epidemic) के बीच गुरुवार को एमबीएस अस्पताल की एक बड़ी गंभीर लापरवाही सामने आई है। अस्पताल प्रशासन ने एक मरीज की कोरोना रिपोर्ट आने से पहले ही परिजनों को शव सौपा दिया। परिजन व रिश्तेदार भी मुक्तिधाम पर अंतिम संस्कार करने पहुंच गए। इस बीच कोटा मेडिकल कॉलेज ( kota medical college ) की लैब से जारी रिपोर्ट में मरीज के कोरोना पॉजिटिव ( corona positive ) होने की पुष्टि हुई तो प्रशासन के हाथ-पांव फू ल गए। आनन-फ ानन में मरीज का पता किया तो सामने आया कि परिजनों ने शव का तो अंतिम संस्कार कर दिया।

read more : साइको किलर की फांसी की सजा बरकरार

यह है मामला

जिले के सुल्तानपुर क्षेत्र के किशोरपुरा निवासी 40 वर्षीय युवक की तबीयत खराब होने पर परिजनों ने 7 अगस्त को एमबीएस अस्पताल में भर्ती करवाया था। वह कैंसर ( cancer ) से पीडि़त था। 12 अगस्त की रात को इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। उसका कोविड जांच के लिए सेम्पल लिया गया और शव को नए अस्पताल में शिफ्ट करने के बजाय परिजनों को सौंप दिया। परिजन शव लेकर गुरुवार सुबह मुक्तिधाम पहुंच गए। शव का अंतिम संस्कार चल रहा था, तब मरीज के कोरोना संक्रमित होने का पता चला तो हड़कम्प मचा गया। उधर, चिकित्सा विभाग का कहना है कि मुक्तिधाम में आए करीब 15 लोगों को क्वारेंटाइन (quarantine) किया है। अन्य की स्क्रीनिंग की गई।

read more : food poisioning : परिवार के लिए खाना बन गया जहर, एक की मौत, चार अस्पताल में भर्ती

यह होना चाहिए था

कोविड 19 गाइड लाइन (covid 19 guideline) के तहत मरीज की मौत के बाद सेम्पल लिया गया है तो जांच रिपोर्ट आने तक उसे अस्पताल में रखा जाता है। नेगेटिव रिपोर्ट आने पर ही परिजनों को शव सुपुर्द किया जाता है। पॉजिटिव आने पर जिला प्रशासन की देखरेख में शव का अंतिम संस्कार किया जाता है। इस मामले में अस्पताल प्रशासन की ओर से गाइड लाइन की पालना नही की गई।

read more : बहुत कसाई आदमी है, बिना रुपए के काम नहीं करता

coronavirus COVID-19
Show More
Deepak Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned