खाद्य सुरक्षा में वापस पुरानी प्रक्रिया लागू, आमजन को काटने पड़ेंगे चक्कर

खाद्य सुरक्षा में वापस पुरानी प्रक्रिया लागू, आमजन को काटने पड़ेंगे चक्कर

Kamlesh Meena | Publish: Apr, 16 2018 05:35:27 PM (IST) Kuchaman City, Rajasthan, India

पहले की तरह विकास अधिकारी के मार्फत भेजे जाएंगे आवेदन

कुचामनसिटी. खाद्य सुरक्षा में वापस पुरानी प्रक्रिया लागू होने से पात्र लोगों के लोगों के सामने फिर से संकट खड़ा हो गया है। अब उन्हें फिर से कार्यालयों के चक्कर काटने पड़ेंगे। नए निर्देशों के अनुसार खाद्य सुरक्षा में आवेदक का नाम पुराने तरीके से जोड़ा जाएगा। वर्तमान में खाद्य सुरक्षा में अपीलीय अधिकारी उपखंड अधिकारी है। पटवारी रिपोर्ट के आधार पर उपखंड अधिकारी पात्र लोगों को सूची में शामिल करते हैं। जबकि पहले सूची में नाम जुड़वाने की प्रक्रिया काफी लम्बी थी। प्रक्रिया के तहत सरपंच, ग्रामसेवक, पटवारी व विकास अधिकारी की अनुशंसा पर पंचायत समिति द्वारा ही जिला रसद अधिकारी के यहां पात्र व्यक्तियों को सूची में शामिल किया जाता था। हालांकि बाद में जनप्रतिनिधियों की मांग के आधार पर इस प्रक्रिया का सरलीकरण करते हुए केवल पटवारी की रिपोर्ट के आधार पर उपखंड अधिकारी को अपीलीय अधिकारी मानते हुए सरकार ने आदेश प्रदान किए थे, लेकिन कुचामन प्रशासन ने नियमों में बदलाव करते हुए दुबारा विकास अधिकारी के मार्फत ग्राम पंचायत द्वारा सर्वे मांगा गया है, जिससे आमजन को परेशानी होगी। लोगों का मानना है कि पात्र व्यक्ति एसडीएम, विकास अधिकारी व ग्राम पंचायतों के चक्कर लगाता रहेगा।

हर माह जुड़ते हैं कई नाम
खाद्य सुरक्षा योजना (एनएफएसए) में नाम जुड़वाने के लिए प्रत्येक माह सैंकड़ों में आवेदन आते हैं। पहले की प्रक्रिया के अनुसार पटवारी की रिपोर्ट के आधार पर एसडीएम पात्र व्यक्ति को योजना की सूची में शामिल करते थे, लेकिन अब वापस पुरानी प्रक्रिया के चलते लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

प्रक्रिया बदलने से आमजन की परेशानी बढ़ेगी व पात्र व्यक्ति पंचायत समिति, एसडीएम कार्यालय व ग्राम पंचायत के चक्कर लगाते रहेंगे, जिससे पात्र व्यक्ति समय पर सूची में नहीं जुड़ पाएगा। ऐसे में सरकार के पूर्व आदेश के अनुसार ही इस प्रक्रिया को चलाना चाहिए।
- लालाराम अणदा, ब्लॉक अध्यक्ष, सरपंच संघ कुचामनसिटी

विभाग चाहता है कि व्यक्ति दो जगह अपील करें। सरकार के पहले के आदेश के अनुसार अपीलीय अधिकारी उपखंड अधिकारी व जिला रसद अधिकारी को माना गया है। अत: जांच का एक पहलु विकास अधिकारी को नहीं माना जाना चाहिए। अन्यथा आमजन पंचायत समिति में चक्कर लगाता रहेगा।
- मदनलाल कांसोटिया, प्रभारी, खाद्य सुरक्षा, कुचामनसिटी

ग्राम पंचायतों में 20 से 25 तक होगी ग्राम सभाएं
इधर, प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण की स्थायी वरीयता सूची में अतिरिक्त पात्र लाभार्थियों की पहचान कर उनको शामिल करने के लिए ब्लॉक की ग्राम पंचायतों में 20 से 25 अप्रेल तक ग्राम सभाओं का आयोजन किया जाएगा। इसके लिए पंचायत समिति प्रशासन ने कार्यक्रम निर्धारित कर दिया है। ग्राम सभाओं के लिए प्रभारी अधिकारियों की भी नियुक्ति की गई है, जो ग्राम सभाओं का आयोजन करवाएंगे। पंचायत समिति के के सूत्रों के मुताबिक पूर्व 18 अप्रेल को भी ग्राम सभाओं के आयोजन का कार्यक्रम निर्धारित किया गया था, लेकिन उस दिन राजकीय अवकाश घोषित करने के कारण अब उस दिन आयोजित होने वाली ग्राम सभाएं 24 अप्रेल को आयोजित की जाएंगी। 20 अप्रेल को चावण्डिया, जीजोट, नारायणपुरा, मंडावरा, जिलिया, खारिया व टोडास में, 23 को खोरण्डी, घाटवा, सरगोठ, कुकनवाली, रूपपुरा, भावंता, शिव व दीपपुरा, 24 को ईण्डाली, उगरपुरा, पांचवा, हिराणी, हुडील, लालास, चारणवास व नगवाड़ा तथा 25 अप्रेल को आनन्दपुरा, चितावा, परेवड़ी, प्रेमपुरा, रसाल, नालोट, पलाड़ा व अडक़सर में ग्राम सभाओं का आयोजन किया जाएगा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned