जनमत से पहले बांट रहे ‘रेवडिय़ां’

जनमत से पहले बांट रहे ‘रेवडिय़ां’

Kamlesh Kumar Meena | Publish: Sep, 05 2018 11:17:49 AM (IST) Kuchaman City, Rajasthan, India

ऋण माफी शिविरों के बाद फसली ऋण का वितरण जारी, किसानों की दि सेंट्रल कॉपरेटिव बैंक में लग रही भीड़

कुचामनसिटी. एक ओर प्रदेश में विधानसभा चुनाव नजदीक है। वहीं दूसरी ओर किसानों को इससे पहले रेवडिय़ां बांटी जा रही है। जुलाई से अब तक कुचामन ब्लॉक की 23 ग्राम सेवा सहकारी समितियों के 7 हजार 224 किसानों को 17 करोड़ 62 लाख रुपए का ऋण वितरित किया जा चुका है। यही नहीं ऋण पाने के लिए कुचामन के दि सेंट्रल कॉपरेटिव बैंक में किसान उमड़ रहे हैं। स्थिति यह है कि बैंक परिसर में किसानों की भीड़ उमड़ रही है। किसानों की लम्बी कतार लगी हुई है। वहीं बैंक स्टाफ की कमी से जूझ रहा है। सहकारिता विभाग के आधिकारिक सूत्रों के अनुसार प्रदेश में 4 जून से 29 जुलाई तक ऋणमाफी शिविरों का आयोजन कर किसानों को ऋण माफी प्रमाण पत्र जारी किए गएथे। इसके बाद किसान द्वारा मूल ऋणमाफी के बाद शेष बकाया राशि जमा कराने पर एवं ऋण के लिए आवेदन करने पर पूर्व में जितना ऋण स्वीकृत था, उतना ऋण किसानों को उपलब्ध करवाया जा रहा है। किसानों को फसली ऋण खरीफ सीजन का दिया जा रहा है। नया फसली ऋण भी वितरित किया जा रहा है। गौरतलब है कि राज्य सरकार की ओर से ग्राम सेवा सहकारी समितियों के किसानों के 50 हजार तक ऋण माफ करने की घोषणा की गई थी। इसके बाद पात्र किसानों की सूची मुख्यालय पर मांगी गई थी। कुचामन ब्लॉक से भी ऋण माफी के पात्र 10569 किसानों की सूची भिजवाई गई। इसके बाद 26.80 लाख रुपए का ऋण माफ किया गया। इसके बाद ब्लॉक की विभिन्न ग्राम सेवा सहकारी समितियों में ऋण माफी शिविर आयोजित किए गए। किसानों को खरीफ सीजन में ऋण केन्द्रीय सहकारी बैंक की ओर से वितरित किया जा रहा है। जानकारी के अनुसार ऋण माफी के बाद किसानों ने नए ऋण के लिए ग्राम सेवा सहकारी समितियों में आवेदन किए थे। बाद में यह आवेदन दि सेंट्रल कॉपरेटिव बैंक कुचामन शाखा में पहुंचे, जहां से नए ऋणों को स्वीकृति जारी की गई।

देर करने वाले रह गए वंचित
जानकारी के अनुसार ऋण माफी शिविरों में उन किसानों के ही ऋण माफ किए गए, जिन्होंने निर्धारित समय पर ऋण का लेन-देन किया था। डिफॉल्टर किसानों का ऋण माफ नहीं किया गया। यही नहीं ऋण माफी से पूर्व शिविरों में किसानों से पूरी ऋण की राशि जमा करवाई गई। इसके बाद ऋणमाफी का प्रमाण पत्र सौंपा गया। इधर, कई किसान ऐसे थे, जिन्होंने समय पर ऋण नहीं चुकाया था या ऋणमाफी शिविरों में अपने ऋण की राशि जमा नहीं कराई। ऐसे किसान ऋण माफी योजना से वंचित रह गए।

इनका कहना है
ऋण माफी शिविरों में कुचामन सेंट्रल कॉपरेटिव बैंक क्षेत्र की सहकारी समितियों के किसानों के 26.80 लाख रुपए की राशि माफ की गई। अब निर्देशानुसार वापस किसानों को ऋण वितरण किया जा रहा है। ऋण की राशि किसानों के खाते में जमा करवाई जा चुकी है।
- विमल महर्षि, प्रबंधक, सेंट्रल कॉपरेटिव बैंक, कुचामनसिटी

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned