कुचामन के पास इस तालाब पर लगी शहरवासी और ग्रामीणों की भीड़...

कुचामन के पास इस तालाब पर लगी शहरवासी और ग्रामीणों की भीड़...
अमृतं जलम् अभियान

Hemant Kumar Joshi | Updated: 27 May 2019, 12:45:26 PM (IST) Kuchaman City, Nagaur, Rajasthan, India

रविवार की सुबह निकटवर्ती ग्राम हनुमानपुरा स्थित त्रिसिंगिया नाडी में श्रमदान किया गया। जिसमें प्रशासनिक अधिकारी, सरकारी कर्मचारी, विभिन्न सामाजिक संगठनों के पदाधिकारी, पुलिस विभाग के कर्मचारी, कार्यकर्ताओं सहित मातृ शक्ति ने भाग लेकर पसीने की बूंदे बहाते हुए तालाब की खुदाई की।

कुचामनसिटी. पारम्परिक जल स्त्रोतों की साफ-सफाई, सौंदर्यकरण एवं जीर्णोद्वार के साथ जल का महत्व बताने और जल संरक्षण की अलख जगाने के लिए राजस्थान पत्रिका के अमृतं जलम् अभियान के तहत रविवार की सुबह निकटवर्ती ग्राम हनुमानपुरा स्थित त्रिसिंगिया नाडी में श्रमदान किया गया। जिसमें प्रशासनिक अधिकारी, सरकारी कर्मचारी, विभिन्न सामाजिक संगठनों के पदाधिकारी, पुलिस विभाग के कर्मचारी, कार्यकर्ताओं सहित मातृ शक्ति ने भाग लेकर पसीने की बूंदे बहाते हुए तालाब की खुदाई की। श्रमदान के दौरान युवा से लेकर बुजूर्ग तक पीछे नहीं रहे। यहां तक कि महिलाओं ने भी उत्साह के साथ खुदाई कार्य में हाथ से हाथ बंटाती नजर आई। करीब दो घण्टे तक गेती व पावड़े चले। श्रमदान का आगाज पूर्व राज्य मंत्री हरीशचन्द कुमावत, तहसीलदार महावीर प्रसाद शर्मा, कुचामन विकास समिति के अध्यक्ष ओमप्रकाश काबरा, ग्राम पंचायत सरगोठ-पदमपुरा के सरपंच चुका देवी, समाजसेवी नरसीराम, उपसरपंच प्रहलाद गुजर्र, ग्राम विकास अधिकारी यशवंत कुमार ने पावड़े से मिट्टी की खुदाई कर किया। श्रमदान के दौरान देखते ही देखते लोगों का हुजुम उमड़ पड़ा। किसी ने गेती व पावड़े से खुदाई की तो किसी मिट्टी से भरी हुई तगारी लेकर मिट्टी को बाहर फेंकने का कार्य किया। स्वंय तहसीलदार महावीर शर्मा ने भी शुरू लेकर अंतिम समय तक श्रमदान किया। करीब दो घण्टे तक चले श्रमदान कार्य के दौरान तीन ट्रोली मिट्टी बाहर डाली गई। गौरतलब है कि राजस्थान पत्रिका के इस अभियान के तहत पिछले वर्ष भी श्रमदान करवाया गया था। जिसके कारण काफी गहराई तक खुदाई कार्य किया जा सका।
इस दौरान उपस्थित लोगों को जल की महत्ता बताते हुए तहसीलदार महावीर प्रसाद शर्मा ने कहा कि राजस्थान पत्रिका के इस अभियान की जितनी प्रशंसा की जाए, उतनी ही कम है। क्योंकि इस पुनित कार्य के लिए लोगों को जागरूक करने का कार्य पत्रिका ने किया है। पूर्व राज्य मंत्री हरीशचन्द कुमावत ने भी ‘जल ही जीवन है’ का मंत्र बताते हुए बारिश का पानी बचाने एवं बूंद बूंद संजोने की शपथ दिलाई। कुचामन विकास समिति के अध्यक्ष ओमप्रकाश काबरा ने त्रिसिंगिया गांव के ग्रामीणों को इस कार्य में सहभागिता निभाने की बात कही।

इन्होंने भी किया श्रमदान

ग्राम पंचायत पदमपुरा-सरगोठ के ग्राम त्रिसिंगिया नाडी में श्रमदान कार्यक्रम में ग्राम पंचायत के ग्रामीणों के साथ-साथ सरपंच संघ के पदाधिकारी, कुचामन विकास समिति, लॉयन्स क्लब, महावीर इंटरनेशनल, डिफेंस एसोसिएशन, केमिस्ट एसोसिएशन, वैश्य समाज सहित कई सामाजिक संगठनों के पदाधिकारियों ने श्रमदान किया। वही सहायक थानाधिकारी कृष्णकांत, कुचामन विकास समिति के अध्यक्ष ओमप्रकाश काबरा, श्यामसुन्दर मंत्री, साक्षरता समन्वयक चम्पालाल कुमावत, लांयस क्लब के राम काबरा, गजानन्द स्वामी, सुरेन्द्र सिंह दीपपुरा, टैगोर कोचिंग सेन्टर के सुल्तानसिंह, इण्डियन डिफेंस के भूराराम शेषमा, राजू मूण्ड, गुरूकुल डिफेंस के जीवणराम जाखड़, राजस्थान डिफेंस एकेडमी के राकेश बोचलिया, लोकेश कुमार मांझी, कुचामन डिफेंस एकेडमी के विनोद कुमार चौधरी, मुरली मनोहर स्नेही, पार्षद बनवारीलाल मोर सहित कुचामन शहर के कई गणमाण्य लोगों ने श्रमदान किया।

सुधारा जाएगा तालाब का स्वरूप
श्रमदान के बाद ग्राम पंचायत प्रशासन, ग्रामीणों एवं जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक आयोजित हुई। जिसमें सभी लोगों ने इस तालाब के स्वरूप को सुधारने एवं विकास को लेकर चर्चा की। पंचायत प्रशासन के अधिकारियों ने कहा कि इस तालाब की खुदाई होने के बाद चहुंओर दीवार, पक्का आंगन, सीढिय़ां आदि का निर्माण करवाया जाएगा। जिससे बारिश के दिनों में एकत्रित हुआ पानी लम्बे समय तक ग्रामीणों के लिए काम आ सके। ग्रामीणों को भी इस बात की खुशी है उनके गांव में जल स्त्रोत के लिए भटकना नहीं पड़ेगा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned