यूपी के कुशीनगर में किसान ने पूरे परिवार के साथ खाया जहर, दो की मौत

यूपी के कुशीनगर में किसान ने पूरे परिवार के साथ खाया जहर, दो की मौत
Farmer Suicide

अहिरौली थाने के जगदीशपुर (बिचला टोला) का मामला।

कुशीनगर. अहिरौली बाजार थाना क्षेत्र के जगदीशपुर गांव में गरीबी की बोझ से दबे किसान ने अपने कुनबे के साथ जहर खा लिया है. बीआरडी मेडिकल कॉलेज गोरखपुर में सोमवार को पति- पत्नी की मौत हो गई. दो मासूम जिंदगी और मौत के बीच झूल रहे हैं. पुलिस इस घटना की वजह आपसी विवाद बता रही है.क्षेत्रीय विधायक रामानंद बौद्ध ने गांव का दौरा कर पीड़ित परिवार का हाल जाना और अधिकारियों से इस कुनबे को हर संभव सहायता देने को कहा.




मिली जानकारी के मुताबिक, कुशीनगर जनपद के अहिरौली बाजार थाना के गांव जगदीशपुर (बिचला टोला) निवासी पिंटू के पास कहने के लिए कुछ डिस्मिल जमीन थी. निहायत ही गरीबी में जीवन काट रहे पिंटू की आय का एकमात्र जरिया मजदूरी हुआ करती थी. हाड़तोड़ मेहनत करने के बाद वह  अपनी पत्नी चंदा, पुत्र नसीब व अरमान के लिए ठीक से दो वक्त की रोटी नहीं जुटा पाता था. अक्सर उपवास के सहारे रात बीतानी पड़ती थी. गरीबी का दंश झेलते - झेलते बेजार हो चुका पिंटू के सामने जब कोई रास्ता नहीं दिखाई दिया तो वह रविवार की शाम को अपनी पत्नी चंदा के साथ जहर खा लिया और अपने दोनों मासूम बच्चों को भी जहर खिला दिया.




गंभीर हालत मे चारों को गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया. जहां पति- पत्नी की मौत हो गई. तीन वर्षीय अरमान व पांच वर्षीय नसीब जिंदगी और मौत के बीच झूल रहें हैं. अल्पसंख्य समुदाय से ताल्लूक रखने वाले पति- पत्नी की मौत ने सरकारी योजनाओं की पोल खोलकर रख दी है. पिंटू एक छोटे से टिनशेड में अपने कुबने साथ रह रहा था. गरीबी का आलम यह था कि सोने के लिए एक अदद चारपाई तक इस कुनबे के पास नहीं थी. इस परिवार की गरीबी दूर से ही दिखाई दे रही थी. इसके बावजूद पिंटू को न तो मनरेगा का जॉबकार्ड मिला था न ही राशन कार्ड.
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned