प्रशासन के इस कदम ने ले ली मासूम की जान...

जिला प्रशासन ठंड से मौत की बात को कर रहा सिरे से खारिज

कुशीनगर. जनपद में हाड़ कंपाती सर्दी पड़ रही है। विभिन्न जनपदों के प्राथमिक विद्यालयों में जहां अवकाश घोषित किए जाने का सिलसिला शुरू हो चुका है, वहीं जनपद का प्रशासन अवकाश पर मौन है। जिसके परिणाम स्वरूप मासूम बच्चे ठिठुरन की मार झेलते हुए विद्यालय जाने को विवश है। मंगलवार को सुकरौली विकास खंड के गांव हरपुर सुखल निवासी एक छात्रा की मंगलवार को ठंड लगने से मौत हो गई। मृतका प्राथमिक विद्यालय हरपुर सुखल में कक्षा दो की छात्रा थी। वहीं, जिला प्रशासन ठंड से मौत की बात को सिरे से खारिज कर रहा है।

 

 

मिली जानकारी के मुताबिक, हाटा तहसील के गांव हरपुर सुखल निवासी शिवाजी राजभर की सात वर्षीय पुत्री कुमारी सुधा गांव के ही परिषदीय विद्यालय में कक्षा दो की छात्रा थी। मंगलवार की सुबह वह प्रतिदिन की तरह स्कूल जाने की तैयारी कर रही थी। परिजनों के अनुसार सुधा की तबीयत अचानक बिगड़ गई और वह ठंड से कांपने लगी। परिजन जब तक कुछ समझ पाते, चंद मिनटों के अंदर ही उसकी तबीयत काफी बिगड़ गई। परिजन सुधा को उपचार के लिए किसी अस्पताल में ले जा पाते, इससे पहले ही उसकी मौत हो गई। सुधा की मौत से परिवार में कोहराम मच गया।

 

 

शोक में बंद रहा विद्यालय
कड़ाके की सर्दी में छोटे-छोटे मासूम बच्चों की परेशानियों से अनभिज्ञ संवेदनहीन जिला प्रशासन सुधा के मौत की वजह ठंड लगने को मानने से ही इनकार कर दिया, वहीं विद्यालय के अध्यापकों ने एक दिन की छुट्टी कर अपना फर्ज अदा करने की कोशिश जरूर की। सुधा के मौत की खबर मिलते ही प्रधानाध्यापक ने शोक में प्राथमिक विद्यालय हरपुर सुखल को बंद कर दिया।

 

 

शीतलहर की चपेट में है जिला
मालूम रहे कि पूरा कुशीनगर जनपद शीतलहर की चपेट में है। मंगलवार को बहुत सर्दी थी। सुबह तापमान छह डिग्री सेल्सियस तक लुढ़क गया था।

वाराणसी उत्तर प्रदेश
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned