पांच सौ और एक हजार रूपये के पुराने नोट बरामद, दो तस्कर गिरफ्तार

पांच सौ और एक हजार रूपये के पुराने नोट बरामद, दो तस्कर गिरफ्तार

इन रूपयों को नेपाल भेजने की थी तैयारी

कुशीनगर. कुशीनगर जनपद की स्वॉट व पडरौना कोतवाली की पुलिस ने 18 लाख के पुराने नोटों के साथ दो लोगों को गिरफ्तार किया है। बरामद रुपये बंद हो चुके 500  के नोट की 28 गड्डी और 1 हजार रुपये के नोट की 4 गड्डी के शक्ल में हैं। गिरफ्तार तस्कर रुपयों को कुशीनगर जनपद के खड्डा थाना के रास्ते नेपाल ले जा रहे थे.गिरफ्तार दोनों व्यक्ति गोरखपुर नगर के निवासी हैं।


मिली जानकारी के मुताबिक, संदिग्ध व्यक्तियों को पकड़ने की नियत से पडरौना कोतवाली के उप निरीक्षक अरुण चौबे व स्वॉट के संजय मिश्र अपने सहयोगियों के साथ रवींद्रनगर में वाहनों की जांच कर रहे थे. मुखबीर की सूचना पर पुलिस ने दो व्यक्तियों को रोक कर तलाशी ली तो उनके पास से बंद हो चुके 5 सौ व 1 हजार के पुराने नोटों की  शक्ल में 18 लाख रुपये बरामद हो गये। पुलिस ने इन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की तो बंद हो चुके पुराने नोटों को नेपाल में बदलने के एक बड़े खेल का खुलासा हो गया।


पुलिस के हत्थे चढ़े गोरखपुर नगर के हजारीपुर मोहल्ला निवासी जमाल अहमद व बडे काजीपुर मोहल्ला निवासी परवेज आलम ने बताया कि इन रुपयों को कुशीनगर जनपद के खड्डा थाना क्षेत्र के रास्ते नेपाल देश में ले जाकर बदल दिया जाता। बता दें कि विदेशों में रह रहे अप्रवासी भारतीयों को 30 जून तक बंद करेंसी को बदलने की सुविधा मिली हुई है, इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए चालाक किस्म के लोग सक्रिय हो गए हैं। भारतीय मुद्रा को नेपाल में बदलने के लिए कई रैकेट सक्रिय हैं। नेपाल में भारतीय मुद्रा करीब- करीब डेढ़ गुनी हो जाती है। कुशीनगर, गोरखपुर,सिद्धार्थ नगर, महराजगंज के लोग बड़ी संख्या में नेपाल मे रहते है, इससे नोट भी आसानी से बदल जा रहा है। यही नहीं कुशीनगर से नेपाल जाने के लिए तमाम एेसे रास्ते हैं जिनपर आज भी कोई जांच नहीं होती है। 

यह भी पढ़ें:

यूपी के लाल का कमाल, गोल्डेन बुक ऑफ अवार्ड में दर्ज हुआ नाम



सूत्रों के मुताबिक, इन सुविधाओं का फायदा उठाने में चालाक किस्म के लोग कोई कोर कसर नही छोड़ रहे हैं। इस अवैध कारोबार में जुड़े लोग संपर्क साधते हैं और 50 प्रतिशत कमीशन पर रुपये ले लेते है और फिर उसे नेपाल में खपा देते हैं। नेपाल में भारतीय मुद्रा की मांग व अन्य सुविधाओं के चलते बंद करेंसी आसानी से खप जाती है। गिरफ्तार दोनों ने भी इसकी पुष्टि करते बताया कि उन्हे 18 लाख के एवज में उन्हें 24 लाख रुपये मिल जाते। गिरफ्तार दोनों लोगों को पुलिस ने जेल भेज दिया है |

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned