अपने से दो साल बड़ी लड़की से करने लगा प्यार.. भाइयों ने कर दी हत्या

अपने से दो साल बड़ी लड़की से करने लगा प्यार.. भाइयों ने कर दी हत्या

By: Ruchi Sharma

Updated: 15 Nov 2018, 06:00 PM IST

लखीमपुर-खीरी. नीमगांव थाना क्षेत्र में प्रेम प्रसंग के चलते एक युवती के भाई ने 16 साल के किशोर को घर ले जाकर साथियों के साथ कुल्हाड़ी से बुरी तरह काट डाला। लहूलुहान किशोर घर का दरवाजा खुलने पर चीखता-चिल्लाता अपने घर पहुंचा। परिजन वाहन की व्यवस्था कर उसे लेकर जिला अस्पताल पहुंचे जहां हालत गंभीर देख चिकित्सकों ने तुरंत ट्रामा सेंटर लखनऊ के लिए रेफर कर दिया। वहां उपचार के दौरान किशोर की मौत हो गई। मृतक की मां ने आरोपी सहित तीन के खिलाफ तहरीर दी है। पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर ली। आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है।


नीमगांव थाना क्षेत्र के ग्राम सुनौरी निवासी जुनैद (16) पुत्र शफीक बुधवार/बृहस्पतिवार की रात 12ः30 बजे लघुशंका करने के लिए उठा था। मकान के सामने लघुशंका करने लगा। इसी बीच पहले से घात लगाए बैठे पड़ोसी जामिद पुत्र मुश्ताक ने उसके सिर पर किसी भारी चीज से वार कर दिया। गिरते ही उसे अपने साथियों की मदद से उठाकर घर ले गया। दरवाजा बंद कर उस पर कुल्हाड़ी से ताबड़तोड़ प्रहार शुरू कर दिए। इससे सिर का पिछला हिस्सा बुरी तरह लहूलुहान हो गया। वहीं बचाव में हाथ व पैर पर भी कुल्हाड़ी से कई जख्म हो गए। उसके चीखने-चिल्लाने अंदर सो रहे आरोपी के पिता मुश्ताक निकल आए। उन्होंने बाहर का दरवाजा खोल दिया। जिस पर जुनेद चीखता-चिल्लाता भाग खड़ा हुआ। आवाज सुनकर जुनेद के परिजन व आस-पास के लोग बाहर निकल आए। यह देख जामिद, उसके साथी और परिवार के लोग घर छोड़कर भाग गए।

बेटे को करीब ढाई बजे के बाद परिजन वाहन की व्यवस्था कर लेकर जिला अस्पताल पहुंचे। वहां हालत गंभीर देख परिजनों ने लखनऊ ट्रामा सेंटर के लिए रेफर कर दिया। ट्रामा सेंटर में कुछ देर चले उपचार के बाद जुनेद की मौत हो गई। मौत की खबर आने से घर में कोहराम मचा हुआ है। पुलिस ने मां की तहरीर पर जामिद व दो सहयोगियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। जामिद को गिरफ्तार कर लिया गया है।

ग्रामीणों के मुताबिक मृतक जुनैद का हत्यारोपी जामिद की बहन से प्रेम प्रसंग चल रहा था। जब इसकी जानकारी जामिद को हुई तो करीब महीने भर पहले दोनों में मारपीट भी हुई थी। विवाद के बाद जुनेद नौकरी करने हरियाणा चला गया था। 26 अक्टूबर को वह वापस आया था। तभी से जामिद उसकी ताक में था। कल मौका पाकर उसने अपने इरादों को अंजाम में बदल दिया। मौके पर सीओ मितौली प्रदीप सिंह, प्रभारी निरीक्षक नीमगांव अशोक कुमार, चौकी इंचार्ज बेहजम जगपाल सिंह, चौकी इंचार्ज सिकन्द्राबाद केके यादव दलबल के साथ मौके पर पहुंच गए। सीओ मितौली ने मौका मुआयना कर अधीनस्थों को आरोपियों की गिरफ्तार के आदेश दिए हैं।

18 साल की युवती से था किशोर का प्रेम प्रसंग

बेहजम-खीरी। ग्रामीणों की मानें तो 16 साल के मृतक जुनेद का प्रेम प्रसंग जामिद की 18 साल की बहन से चल रहा था। हत्या के बाद से पूरे परिवार के साथ उसकी बहन भी फरार है। बताया जाता है कि इसी विवाद के चलते किशोर को परिजनों ने मजदूरी करने हरियाणा भेज दिया था।


बकरी के पीछे हुआ था विवाद : मां

ग्रामीण जहां एक तरफ प्रेम प्रसंग में किशोर की हत्या होना बता रहे हैं वहीं जुनैद की मां हलीमा इससे इंकार कर रही हैं। हलीमा ने बताया कि एक महीने पहले बकरी चराने को लेकर जुनेद और हामिद में मारपीट हुई थी। जिसके बाद उसने अपने बेटे को न केवल डांटा-फटकारा था बल्कि विवाद टालने के लिए उसे हरियाणा मजदूरी करने भेज दिया था। उसे नहीं पता था कि विवाद के बाद से जामिद के सिर पर खून सवार है और वह उसके बेटे की हत्या कर देगा।

 

तो इसलिए आरोपी के पिता को नहीं किया नामजद

 

जुनेद की हत्या में जामिद व उसके दो सहयोगियों के खिलाफ तहरीर दी गई है। हालांकि यह सहयोगी कौन हैं इसका खुलासा पुलिस नहीं कर रही। मां की मानें तो तहरीर आरोपी व हत्या में सहयोग देने वाले परिवार के ही दो लोगों के खिलाफ दी गई है। वहीं पुलिस एक नामजद सहित दो अज्ञात बता रही है। मां ने हत्यारोपी के पिता मुश्ताक को आरोपों से बरी रखा। उसकी वजह यह रही कि जब जामिद अपने साथियों के साथ हत्या की वारदात को अंजाम दे रहा था। उस वक्त चीख-पुकार सुनकर आरोपी का पिता निकल आया। जब उसने बेटे की हरकत देखी तो उस ने जुनेद को बचाने के लिए दरवाजा खोल दिया जिसके बाद वह भाग सका। बताया जाता है कि मृतक हत्यारोपी के पिता को नाना कहता था।


न यूपी 100 काम आई और न ही 108एम्बुलेस घायल बेटे को बचाने के काम

बेहजम-खीरी। मृतक की मां हलीमा का आरोप है कि बेटे की मौत के बाद मदद के लिए यूपी 100 पुलिस व 108 एम्बुलेंस को फोन किया गया। लेकिन घंटा भर से अधिक का समय बीतने के बाद भी पुलिस व एम्बुलेंस मौके पर नहीं आई। मां का आरोप है कि यदि पुलिस या एम्बुलेंस मौके पर आ जाती तो शायद उसके बेटे की जान बच सकती थी।

Ruchi Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned