दुधवा नेशनल पार्क के हाथियों से लोगों में दहशत, डर से ग्रामीणों ने खेतों में काम करना किया बंद

दुधवा नेशनल पार्क के हाथियों के एक झुंड़ ने रविवार को जमकर तांडव कर सात लोगों को बुरी तरह जख्मी कर दिया

By: Karishma Lalwani

Updated: 18 Dec 2018, 05:07 PM IST

लखीमपुर खीरी. दुधवा नेशनल पार्क के हाथियों के एक झुंड़ ने रविवार को जमकर तांडव कर सात लोगों को बुरी तरह जख्मी कर दिया। हाथियों के अटैक से बुरी तरह घायल एक बुजुर्ग किसान ने दम तोड़ दिया। उसे इलाज के लिए ले जाया जा रहा था लेकिन उसने रास्ते में ही दम तोड़ दिया। हाथियों द्वारा किये गए उत्पाद से तराई क्षेत्र के लोगों मे दहशत बनी है। हाथियों के डर से ग्रामीणों ने खेतों पर काम करने जाना बंद कर दिया है। हालांकि, घटना के बाद से सक्रिय हुई वन विभाग की टीम लगातार काम्बिंग कर झुंड़ को वापस जंगल की ओर ले जाने का प्रयास कर रही है।

किसी तरह बचाई जान

दक्षिण वन क्षेत्र के बंगलहा तकिया के जंगल में दरेरी गांव के रहने वाले दिलीप कुमार, सोबरन लाल, रामसनेही समेत कई लोगों पर आए हाथियों के एक झुंड ने हमला बोल कर चार लोगों को घायल कर दिया। यही नहीं बल्कि अपने खेत में गन्ना छीनने वाले गोपी और रामेश्वर प्रसाद (58) पर भी हाथियों ने अटैक किया। गन्ना छीलने वाले गोपी को हाथियों ने रौंदने का प्रयास किया लेकिन किसी तरह से उसने अपनी जान बचाई।

हाथियों के आतंक से परेशान

इस बात की सूचना गोपी ने अपने गांव में दी। सूचना पर पहुंचे वन विभाग सहित गांव वालों ने रामेश्वर को सीएचसी में भर्ती कराया था। हाथियों के उत्पाद से जख्मी हुए छह लोगों को जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया था। जिसमें रामेश्वर प्रसाद की रास्ते मे मौत हो गई। वहीं दूसरी ओर बाइक से जा रहे जोगेंद्र सिंह फौजी पर भी हाथियों ने अटैक किया कर उसकी बाइक तोड़ डाली। घटना के बाद पहुंची विभाग की टीम ने झुंड़ की निगरानी शुरू कर दी।

जंगल से आए हाथियों ने पहुंचाया काफी नुकसान

गांव के रहने वाले पलटू राम ने बताया कि कर्तनीया जंगल से आए हाथियों के झुंड ने काफी नुकसान किया है। देर शाम उन्हें वापस जंगल छोड़ दिया गया था। इस संबंध में जिले पहुंचे पार्क कर्मचारियों, टाइगर रिजर्व फील्ड डारेक्टर रमेश पांडेय व नार्थ डीएफओ अनिल पटेल की अगुवाई में सोमवार को भी टीम ने पूरे दिन क्षेत्र में काम्बिंग कर लोगों को सचेत रहने व समूह में खेतों पर जाने की सलाह दी। इसके अलावा मृतक किसान के परिवार वालो से मुलाकात कर उन्हें हर सम्भव मदद दिलाने का अस्वासन दिया।

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned