वर्चस्व को लेकर खनन माफियाओं में मारपीट, 151 में चालान

वर्चस्व को लेकर खनन माफियाओं में मारपीट, 151 में चालान
वर्चस्व को लेकर खनन माफियाओं में मारपीट, 151 में चालान

Akansha Singh | Updated: 11 Oct 2019, 10:59:50 AM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

प्रदेश में भाजपा सरकार बनने के बाद जहां सीएम से लेकर मंत्री तक परिवर्तन की बात कर रहे हैं,

लखीमपुर-खीरी. प्रदेश में भाजपा सरकार बनने के बाद जहां सीएम से लेकर मंत्री तक परिवर्तन की बात कर रहे हैं, वही सिंगाही थाना क्षेत्र में अभी भी कुछ ऐसे दबंग है जिनके ऊपर सत्ता परिवर्तन का कोई असर नहीं पड़ा। इन दबंगों पर सत्ता के साथ ही हाईकोर्ट के प्रतिबंध का भी डर नहीं, तभी तो प्रतिबंध के बाद भी वह खुलेआम अवैध खनन में लगे हुये हैं।


थाना क्षेत्र सिंगाही के मोतीपुर के भौकाघाट, खैरीगढ़, सिंगाहा, सिंहोना, मांझा घाट खैरीगढ़, सिंगाही देहात, करीब डेढ़ दर्जन घाटों पर खनन किया जा रहा है, लेकिन प्रशासन इस ओर कार्रवाई करने में नाकाम साबित हो रहा है। नदी से होने वाले लगातार बालू खनन को रोक पाने में प्रशासन असफल साबित हो रहे हैं, जबकि नदियों से बड़े पैमाने पर बालू का अवैध खनन किया जा रहा है और रोजाना सैकड़ों ट्राली बालू निकाल कर बेची जा रही है। वहीं पुलिस अवैध खनन से अंजान बनी हुई। गुरूवार को खनन माफियाओं के बीच मारपीट जीती जागती मिसाल कायम हुई। बालू के अवैध कारोबार में वर्चस्व को लेकर गांव मोतीपुर के पास बह रही जौरहा नदी पर खनन माफियाओं में बालू भरने को लेकर मारपीट हो गयी, जिसमें सूचना पर पहुंची पुलिस ने पप्पू वर्मा निवासी सिंगाहा कलां रविन्द्र, खुशीराम आदि निवासी तकियापुरवा को ट्रैक्टर ट्रॉली सहित पकड़ कर थाने ले आई। मारपीट कर रहे खनन माफियाओं को महज 151 में पाबंद करते हुये उनका चालान कर पकड़े गए ट्रैक्टर-ट्रालियों को सीज कर दिया गया है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned