महिलाओं व स्कूली बच्चों के लिए वरदान साबित होगी लैम्प योजना, सरकार ने शुरू की नई योजना

मुख्य विकास अधिकारी रवि रंजन की अध्यक्षता में 70 लाख की सौर ऊर्जा लैम्प योजना के अन्तर्गत जिला स्तरीय बैठक का आयोजित हुई।

लखीमपुर-खीरी. सोमवार को विकास भवन सभागार में मुख्य विकास अधिकारी रवि रंजन की अध्यक्षता में 70 लाख की सौर ऊर्जा लैम्प योजना के अन्तर्गत जिला स्तरीय बैठक का आयोजित हुई। बैठक की अध्यक्षता करते हुए मुख्य विकास अधिकारी रवि रंजन ने कहा कि यह योजना जिले के समूहों की महिलाओं और विद्यालय जाने वाले बच्चों के लिये वरदान साबित होगी। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन का भरपूर सहयोग आईआईटी मुम्बई की टीम को मिलेगा। उन्होनें समूहों द्वारा सोलर लैम्प के निर्माण की प्रगति पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि असैम्बली एवं डिस्ट्रीब्यूशन केन्द्र जहां भी स्थापित किये जायें वह जगह मॉडल बनायी जाये।

बताते चलें कि सोलर लैम्प योजना की शुरूआत प्रथम चरण में ब्लाक निघासन एवं पलिया में की जा चुकी है अब ब्लाक लखीमपुर में शुरू होगी। इस योजना के हेड आईआईटी मुम्बई की तरफ से देख रहे उप्र राज्य परियोजना प्रबन्धक शैलेन्द्र द्विवेदी ने बताया कि 70 लाख सौर ऊर्जा लैम्प योजना चलायी जा रही हैं। ये योजना भारत सरकार के नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय एवं आईआईटी मुम्बई, ईईएसएल उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के संयुक्त तत्वाधान में चलायी जा रही है। इस योजना के अन्तर्गत समूह की महिलाए असेम्बली एवं डिस्ट्रीब्यूशन, रिपयेरिंग, सौर उद्यमी का कार्य करेगी। इस योजना का उद्देश्य यह है कि महिलाओं को रोजगार एवं स्कूल जाने वाले ग्रामीण बच्चों को स्वच्छ प्रकाश मिले।

भारत सरकार के नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय के द्वारा जारी इस योजना का उद्देश्य भारत के सभी गरीब प्रारम्भिक से माध्यमिक स्तर 1-12, तक छात्र छात्राओं को पढ़ाई करने के लिये स्कूल में लैम्प वितरण 100 रुपए में किया जायेगा, जबकि इस लैम्प की वास्तविक मूल्य 700 रुपए है। इस लैम्प को असेम्बल करने में 12 रुपए प्रति लैम्प एवं वितरण करने वाली महिलाओं को 17 रुपए प्रति लैम्प दिया जायेगा। जिसमें महिलायें एक दिन में लगभग 300 से 400 रुपए तक आमदनी कर सकती हैं। महिला सशक्तिकरण को समर्पित आजीविका मिशन के विविध कदमों में एक महत्वपूर्ण पहल महिलाओं को रोजगार के साधनों से जोड़ते हुये उनके परिवार को समाजिक सुरक्षा उपलब्ध कराना है।

आकांक्षा सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned