एसपी ने की बड़ी कार्रवाई, दरोगा और दो सिपाही को किया निलंबित

अधीनस्थों को चेतावनी देने के बावजूद उनकी कार्यप्रणाली में परिवर्तन देखने को नहीं मिल रहा था।

By: आकांक्षा सिंह

Published: 24 Jul 2018, 07:52 AM IST

लखीमपुर खीरी. खीरी पुलिस अधीक्षक द्वारा लगातार अपने अधीनस्थों को चेतावनी देने के बावजूद उनकी कार्यप्रणाली में परिवर्तन देखने को नहीं मिल रहा था। जिसको लेकर एसपी ने एक दरोगा और दो सिपाहियों को निलंबित कर दिया। एसपी ने यह कार्रवाई ग्रामीणों की शिकायत पर की। बताते चलें कि थाना ईसानगर क्षेत्र के एक ग्रामीण को मारपीट कर रुपए छीनने के मामले में एसपी रामलाल वर्मा को ग्रामीण ने लिखित शिकायत की थी। इस पर आरोपी दरोगा व दो सिपाही पर निलंबित की गाज गिरी।इतना ही नही इस मामले में पीड़ित ने डीएम से शिकायत भी की थी। इसके बाद यह कार्रवाई हुई।

यह भी पढ़ें - जब सीएम योगी की सुरक्षा में सभी थे बिजी, जेल के अंदर राठी से इनकी हो रही थी मुलाकात, जेल डीआईजी के बड़े कारनामे से मचा हड़कंप

दरअसल थाना ईसानगर क्षेत्र के ग्राम गुलरिया निवासी कमलेश पुत्र किशोर लाल बीते जून माह में क्षेत्र में ही कुछ सेमर के पेड़ खरीदे थे। कमलेश ने बताया कि इन पेड़ों को काटने के लिए उसे सुविधा शुल्क के तौर पर ईशा नगर थाने के सिपाही विनोद कुमार पांडे ने दस हजार लिए थे। इसके बाद 1 जुलाई को जब कमलेश पेड़ कटवाने गया था। तो वहां उसी थाने में तैनात दरोगा दिनेश कुमार और सिपाही रोशन लाल ने मारपीट कर 17000 रुपये छीन लिये। इस पर कमलेश ने इसकी शिकायत पुलिस से की लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। तब उसने 17 जुलाई को डीएम शैलेंद्र कुमार से लिखित पत्र दिया। डीएम ने मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच करवाई। जांच में पीड़ित के आरोप सही पाए गए। एसपी ने बताया कि मामला प्रथम दृष्ट्या सत्य पाया गया। इस पर उपरोक्त तीनों पुलिसकर्मियों के दुर्व्यवहार एवं भ्रष्टाचार का कृत्य प्रदर्शित करता है। तीनों पुलिसकर्मियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें - पुलिस का शराबियों के खिलाफ अभियान, सड़क किनारे शराब पी रहे युवकों को पकड़ कर की कानूनी कार्रवाई

Show More
आकांक्षा सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned