जुलूस निकालकर किन्नरों ने दरगाह पर की चादरपोशी, मांगी दुआएं

जुलूस निकालकर किन्नरों ने दरगाह पर की चादरपोशी, मांगी दुआएं

Ashish Pandey | Publish: Jan, 13 2018 10:51:19 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

निकले तो उन्हें देखने के लिए भी शहर की भीड़ उमड़ पड़ी।

लखीमपुर खीरी. एक हफ्ते से शहर के कृष्णा मैरिज लॉन में रुके किन्नरों ने शनिवार को एक बार फिर सड़कों पर ज़ोरदार जुलूस निकाला। गाते-बजाते फिल्मी गानों की धुन पर थिरकते ये किन्नर कृष्णा मैरिज लान से प्रमुख मार्गो पर निकले तो उन्हें देखने के लिए भी शहर की भीड़ उमड़ पड़ी। सुनहरी मस्जिद स्थित दरगाह पर चादर चढ़ाने आए थे।शनिवार को कृष्णा मैरिज लान से इमली चौराहा होते हुए फिर पुराने एसपी बंगले होकर जंगली नाथ मंदिर से विलोबी मैदान के सामने से होते हुए, सुनहरी मस्जिद तक जुलूस निकाला सजे हुए करीब आठ रथो पर बैठे, किन्नर भी नृत्य कर रहे थे, वही जुलूस के आगे भी काफी संख्या में डीजे की धुन पर थिरकते हुए किन्नरों ने जाकर दरगाह पर चादरपोशी की ओर दुआएं कीं।

अलग-अलग जिलों में सम्मेलनों का आयोजन किया जाता है

आपको बता दें कि हिंदू-मुस्लिम एकता को लेकर किन्नरों द्वारा समय-समय पर अलग-अलग जिलों में सम्मेलनों का आयोजन किया जाता है। इसी कड़ी में 55 वर्षों के अंतराल के बाद लखीमपुर खीरी के कृष्णा मैरिज हाल में हिंदू-मुस्लिम एकता को लेकर किन्नरों ने एक सम्मेलन का आयोजन किया। इस सम्मेलन में दिल्ली, राजस्थान जयपुर , पंजाब, हरियाणा समेत कई राज्यों के किन्नरों ने भाग लिया।

पहले तो पूजा-पाठ की

किन्नरों ने शहर के भुईफोरवानाथ मंदिर में जाकर पहले तो पूजा-पाठ की। करीब एक हफ्ते से आनंद टॉकीज रोड स्थित कृष्णा मैरिज लान में देशभर के कोने कोने से आए किन्नरों का सम्मेलन चल रहा है।जिसमें इन किन्नरों ने जहां देश में एकता और सौहार्द की बात की है। वही यह अपने संगठन को मजबूत करने की बात भी कर रहे हैं। करीब चार रोज पहले इन्होंने कृष्णा मैरिज लॉन से भूइँफोरवा नाथ मंदिर के लिए विशाल जुलूस निकालकर वहां घंटा चढ़ाकर पूजा इत्यादि की थी। शनिवार को कृष्णा मैरिज लान से इमली चौराहा होते हुए फिर पुराने एसपी बंगले होकर जंगली नाथ मंदिर से विलोबी मैदान के सामने से होते हुए, सुनहरी मस्जिद तक जुलूस निकाला सजे हुए करीब आठ रथो पर बैठे, किन्नर भी नृत्य कर रहे थे, वही जुलूस के आगे भी काफी संख्या में डीजे की धुन पर थिरकते हुए किन्नरों ने जाकर दरगाह पर चादरपोशी की ओर दुआएं कीं।

Ad Block is Banned