स्कूली बच्चों की जिंदगी से कर रहे खिलवाड़, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने उठाई आवाज

यातायात के नियमों को ताक पर रखकर बेहद लापरवाही से चलायी जाती है स्कली वाहन

By: Mahendra Pratap

Published: 24 Jul 2018, 04:45 PM IST

ललितपुर. जनपद में जिस तरह प्राइवेट स्कूल प्रशानिक मानकों को ताक पर रखकर चलाए जा रहे हैं। उसी प्रकार उन्हीं प्राइवेट कुछ स्कूलों के स्कूली वाहन भी यातायात नियमों को ताक पर रखकर चलाए जा रहे हैं। इससे स्कूल जाने वाले छोटे-छोटे मासूम बच्चों को खतरा उत्पन्न हो गया है। यह स्कूली वाहन बड़ी ही तेजी व लापरवाही के साथ चलाय जाते है, जिससे कभी-कभी वह अनियंत्रित होकर पलट ही जाते हैं।

लापरवाही से वाहन चलाए जाते हैं

ताजा मामला कोतवाली महरौनी क्षेत्र का है, जहां सनराइज गोल्डन कान्वेंट स्कूल संचालित है। यही स्कूल अपने निजी वाहन लगाकर आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों से स्कूली बच्चों को ले आने और ले जाने का काम करता है। जिसकी एक निश्चित फीस लेकर यह सुविधा छात्रों को दी जाती है। मगर यह स्कूली वाहन बहुत ही लापरवाही से चलाए जाते हैं। इन स्कूली वाहन चालकों द्वारा ज्यादा बच्चा लाने के चक्कर में छोटे-छोटे छात्रों को वाहन के ऊपर बैठा दिया जाता है। यातायात नियमों का पालन बिलकुल नहीं किया जाता बल्कि नियमों को ताक पर रखकर यह वाहन संचालित किए जाते हैं, जिस पर स्कूल प्रशासन द्वारा भी कोई ध्यान नहीं दिया जाता।

गाय को बचाने के चक्कर में पलटी गाड़ी

हाल ही में इसी स्कूल का एक वाहन विगत दिवस दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। बताया गया है कि सनराइज गोल्डन कान्वेंट स्कूल का एक वाहन ग्रामीण क्षेत्र से स्कूली बच्चों को लेकर तेज गति से भागता हुआ आ रहा था। तभी ग्राम खिरिया लटकन जू के पास अचानक एक गाय सड़क पर आ गई। गाय को बचाने के चक्कर में तेजी से भागता हुआ स्कूली वाहन अनियंत्रित होकर सड़क किनारे खाई में पलट गयी थी। लेकिन इस दुर्घटना में किसी बच्चे को चोट नहीं आई। स्कूली वाहनों की लापरवाही को लेकर ग्रामीणों ने सड़क पर जाम भी लगाया था। उसके बाद भी यह स्कूली वाहन अपनी कार्यप्रणाली से बाज नहीं आ रहे।

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने उठाई आवाज

इस बात से परेशान अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने जिला अधिकारी मानवेन्द्र सिंह को एक ज्ञापन देकर ऐसे वाहनों पर कार्यवाही करने की मांग उठाई है। इस ज्ञापन के माध्यम से अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने जिलाधिकारी मानवेंद्र सिंह को अवगत कराया कि स्कूली वाहन छोटे-छोटे छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। बच्चों को वाहनों के ऊपर छत पर बिठाकर लाया जाता है। स्कूल प्रशासन भी इस पर कोई कार्यवाही नहीं करता और न ही ऐसे वाहनों पर परिवहन विभाग ध्यान देता है। इस ज्ञापन के माध्यम से उन्होंने मांग की है कि स्कूली वाहनों पर कार्यवाही कर बड़े हादसों को रोका जा जाए और अगर जिला प्रशासन इस मामले को संज्ञान में नहीं लेता, तो ऐसी स्थिति में विद्यार्थी परिषद स्कूल प्रशासन के खिलाफ मोर्चा खोल कर प्रदर्शन करेगी। इस ज्ञापन पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के नगर संयोजक राहुल राजपूत नगर मंत्री सुरेंद्र कुशवाहा कौशल प्रताप छोटू बुंदेला नरेंद्र राजा अवधेश राजपूत समेत दो दर्जन सदस्यों के हस्ताक्षर बने हुए हैं।

Mahendra Pratap Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned