नर्सिंग होम में संचालक और डॉक्टरों की बड़ी लापरवाही उजागर

हिला के पति की हालत बिगड़ने लगी तब डॉक्टरों ने उसके पति को अधमरी हालत में कोरोना पॉजिटिव बताकर उसे 16 अप्रैल, 2021 को अपने नर्सिंग होम से बाहर निकाल दिया और झांसी रेफर कर दिया

By: Karishma Lalwani

Updated: 21 Apr 2021, 01:23 PM IST

Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

ललितपुर. थाना जखौरा क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम लागोन निवासी मरीज देवीसिंह की पत्नी बालकुअंर ने जिला अधिकारी के नाम एक शिकायती पत्र देकर अवगत कराया कि उसने अपने पति देवी सिंह को बीमारी का इलाज कराने के लिए गुरु नानक देव हॉस्पिटल मल्टी स्पेशलिटी केयर सेंटर सदन शाह रोड नई तहसील के सामने स्थित नर्सिग होम के बेड नम्बर 8 पर वहां मौजूद डॉक्टरों की सलाह पर 27 मार्च 2021 को भर्ती किया गया था। जहां जांच के बाद वहां मौजूद डाक्टरों ने उसे अपेंडिक्स की बीमारी बताई और ऑपरेशन करने की बात कही। इस ऑपरेशन के लिए उशने सवा लाख रुपये दिए। डॉक्टरों ने करीब तीन बार ऑपरेशन किया लेकिन ऑपरेशन सफल नहीं हुआ। महिला के पति की हालत बिगड़ने लगी तब डॉक्टरों ने उसके पति को अधमरी हालत में कोरोना पॉजिटिव बताकर उसे 16 अप्रैल, 2021 को अपने नर्सिंग होम से बाहर निकाल दिया और झांसी रेफर कर दिया। किसी तरह वह अपने पति को झांसी लेकर पहुंची तो वहां तमाम अस्पतालों में दिखाने के बाद उसकी गंभीर हालत को देखते हुए किसी भी डॉक्टर ने उस पर हाथ रखने से परहेज करते हुए उसका इलाज करने से मना कर दिया। इसके बाद पति को ललितपुर नर्सिंग होम लाते वक्त बीच रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। परिजनों ने शव को कलेक्ट्रेट चौराहे पर रखकर जमकर प्रदर्शन किया व जिला अधिकारी को एक शिकायती पत्र देकर मामले में अस्पताल प्रशासन और दोषी डॉक्टरों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की मांग उठाई है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned