उमस भरी गर्मी व खराब मौसम से संक्रमक बीमारियां फैलने का बढ़ा खतरा

Abhishek Gupta

Publish: Sep, 16 2017 10:28:15 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
उमस भरी गर्मी व खराब मौसम से संक्रमक बीमारियां फैलने का बढ़ा खतरा

स्वास्थ विभाग ने हालातों से निपटने के लिए कसी कमर, सीएमओ ने कहा वर्तमान स्तिथि कंट्रोल में.

ललितपुर. आजकल मौसम लगातार करवटें ले रहा है। कभी थोड़ी बहुत बरसात हो जाती है तो मौसम कुछ समय के लिए ठंडा हो जाता है और उसके बाद जब तेज धूप निकलती है तो उमस भरी गर्मी से लोगों का हाल बेहाल होने लगता है। इस मौसम के चलते जनपद में संक्रमक बीमारियों के फैलने का खतरा मंडरा रहा है। पिछले साल ऐसे ही मौसम के चलते जनपद के ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रामक बीमारियां फैल रही थीं जिसमें कई लोगों की मौतें भी हुई थी। हालांकि वक्त और मौसम की नजाकत को भांपते हुए स्वास्थ विभाग ने बीमारियों से निपटने के लिए अपनी तैयारियां पूर्ण कर ली हैं। बरसात कम होने से जनपद में गर्मी बहुत पड़ रही है। जिसके चलते बीमारियां फैलने का खतरा लगातार बना हुआ है। जनपद के ग्रामीण क्षेत्रो में स्वास्थ्य को लेकर स्थिति ज्यादा खराब है। ग्रामीण क्षेत्रों में गंदगी और जल अभाव के कारण काफी मात्रा में मच्छरों के पनपने से बीमारियां फैलने का खतरा ज्यादा बना रहता है। जिसके लिए भी स्वास्थ्य विभाग ने ठोस कदम उठाने की बात कही है।

जिला अस्पताल में बढ़ रही है मरीजो की संख्या-
जिला अस्पताल में खराब मौसम के चलते मरीजों की संख्या काफी बढ़ रही है । इस अस्पताल में रोजाना सैकड़ों मरीज अपना इलाज कराने के लिए आते हैं। संक्रामक बीमारियों की चपेट में आने का खतरा बच्चों में ज्यादा बना रहता है। जिला अस्पताल में ज्यादातर मरीज सर्दी खांसी जुखाम व बुखार के आ रहे हैं। यहां आए मरीजों की पूर्ण रूप से जांच की जा रही है कि उन्हें कहीं कोई घातक डेंगू या स्वाइनफ्लू जैसी बीमारियां तो नहीं है।

अस्पताल के वार्डों में नहीं हैं पलंग खाली-

जिला अस्पताल में जितने भी बार्ड बने हैं उनमें मरीज निर्धारित संख्या से कहीं अधिक हैं। अस्पताल का हाल यह है कि वार्डों में जमीन पर गद्दों को बिछाकर मरीजों को लिटाया जा रहा है और इससे भी ज्यादा खराब हालात बच्चा वार्ड की है क्योंकि सबसे ज्यादा मौसमी बीमारियों का असर बच्चों पर देखा जा रहा हैं। बच्चा बाढ़ की हालत तो यह है कि एक पलंग पर दो-दो बच्चे भर्ती हैं।

सीएमओ का क्या है कहना-

सीएमओ डॉ प्रताप का कहना है कि स्वास्थ विभाग ने सभी प्रकार की संक्रमक बीमारियों से निपटने के लिए कमर कस ली है। हमारे पास पर्याप्त संसाधन उपलब्ध हैं जिससे हम संक्रामक बीमारियों को रोकने में सक्षम है। डेंगू तथा स्वाइन फ्लू जैसी जानलेवा और खतरनाक बीमारियों से निपटने के लिए हमने पूर्ण रुप से तैयारियां कर ली है। हमारे पास पर्याप्त दवाएं एवं संसाधन उपलब्ध हैं जिससे इन बीमारियों को रोका जा सकता है। फिलहाल अभी जनपद में खतरे की कोई बात नहीं है। इन बीमारियों की सूचना देने के लिए हमने एक कंट्रोल रूम स्थापित किया है जो लगातार ग्रामीण क्षेत्रों में अपनी नजर बनाये हुये है और जैसे ही कहीं कोई संक्रामक बीमारी फैलने की शिकायत मिलती है वहां पर हमारी टीम त्वरित कार्यवाही करने के लिए तैयार हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned