चार वर्षीय बीएड की मान्यता प्रक्रिया एनसीटीई ने रोकी

चार वर्षीय बीएड की मान्यता प्रक्रिया एनसीटीई ने रोकी

Karishma Lalwani | Publish: Dec, 24 2018 04:21:51 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

एनसीटीई ने 2019-20 में शुरू होने वाले चार वर्षीय एकीकृत अध्यापक शिक्षा कार्यक्रम की मान्यता प्रक्रिया स्थगित कर दी गई है

ललितपुर. राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) ने 2019-20 में शुरू होने वाले चार वर्षीय एकीकृत अध्यापक शिक्षा कार्यक्रम (आईटीईपी-बीएड) की मान्यता प्रक्रिया स्थगित कर दी गई है। 3 दिसंबर से शुरू हुई यह प्रक्रिया 31 दिसंबर तक चलनी थी। चार साल के बीएड कोर्स का उत्तर प्रदेश स्ववित्तपोषित महाविद्यालय ने विरोध किया है, जिसे एसोसिएशन कोर्ट के आदेश का उल्लंघन माना है।

25 हजार कॉलेज हो सकते हैं प्रभावित

दो वर्षीय कोर्स की शुरुआत काफी अध्ययन के बाद की गई थी। एनसीटीई का मानना था कि चार वर्षीय कोर्स की मान्यता उन्हें नहीं मिलेगी। आगे कॉलेजों को बंद करने की नौबत आ सकती है। अगर ऐसा होता है तो देश के 25 हजार बीेड कॉलेज बंदी की कगार पर आ जाएंगे।

2014 के बाद से हुआ दो वर्ष का

बीएड कोर्स 2014 के पहले एक साल का होता था। लेकिन 2014 से यह दो साल बीएड कोर्स की शुरुआत हो गई। यह दो वर्षीय कोर्स सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर रिटायर जज जस्टिस वर्मा की अध्यक्षता में गठित कमेटी की संस्तुति पर शुरू किया गया था।

यह हो सकती है परेशानी

आईटीईपी की मान्यता सिर्फ उन संस्थानों को दी जानी है जहां बीएससी, बीए और बीकॉम की क्लासेस चलती हैं। मान्यता के लिए आवेदन संयुक्त शिक्षण संस्थानों से मांगे गए हैं। एसोसिएशन अध्यक्ष के मुताबिक एगर दो साल के कोर्स बंद होते हैं, तो 25 हजार ऐसे कॉलेजों के अध्यापक बेरोजगार तक हो सकते हैं। इससे करोड़ों के इंफ्रास्ट्रक्चर का नुकसान भी होगा। एनसीटीई ने अपनी वेबसाइट पर चार वर्षीय आईटीईपी कोर्स की प्रक्रिया अग्रिम आदेश तक स्थगित करने की जानकारी दी है। इसके कारण नहीं बताए गए हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned