निर्दयी ससुर और पति ने महिला को निर्वस्त्र कर की पिटाई

निर्दयी ससुर और पति ने महिला को निर्वस्त्र कर की पिटाई
beating of Women

Shatrudhan Gupta | Updated: 10 Dec 2017, 09:33:31 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

देश में भले ही नारी सुरक्षा सप्ताह मनाया जा रहा हो, लेकिन महिलाएं सुरक्षित नहीं है।

ललितपुर. जहां एक ओर प्रदेश सरकार महिलाओं की सुरक्षा को लेकर भले ही कड़े कानून बना महिलाओं की सुरक्षा की बात करती हो हाल ही में पुलिस प्रशासन महिलाओं की सुरक्षा को लेकर कई कार्यक्रम कर रही हो, मगर महिलाओं की सुरक्षा खतरे में नजर आ रही है। महिलाओं के साथ मारपीट करने वालों को कानून का डर नहीं है। वहीं, देश में भले ही नारी सुरक्षा सप्ताह मनाया जा रहा हो, लेकिन महिलाएं सुरक्षित नहीं है। ताजा मामला ललितपुर में सामने आया है, जहां पति और ससुर ने हैवानियत की सारी हदें पार कर दीं। पति और ससुर ने विवाहिता को निर्वस्त्र कर पहले जमकर पीटा।

यह है पूरा मामला

हाल ही में ताजा मामला ललितपुर सदर कोतवाली क्षेत्र खिरकापुरा का है, जहां काशीराम कॉलोनी में निवास करने वाली वर्षा राजा पत्नी अक्षय राजा को अपने ही ससुराल वालों से डर लगने लगा है, जो दहेज की मांग पूरी न करने पर मारते पीटते हैं और अतिरिक्त दहेज की मांग कर रहे हैं।

यहां भी कोई मुझे देखने के लिए नहीं आया

पीडि़त वर्षा राजा ने बताया कि शराब पीकर हमारा पति अक्षय आया। मैंने शराब पीने को मना किया तो उसने मुझे मारना शुरू कर दिया। साथ ही ससुर हरपाल सिंह भी आ गए, मगर उन्होंने मुझे बचाया तो नहीं, बल्कि वह भी मुझे मारने लगे। सभी लोगों ने मेरे कपड़े फाड़ कर मुझे निर्वस्त्र कर दिया। मुझे बुरी तरह पटक-पटक कर पीटा। किसी तरह मैं उनके चुंगल से छुटी और थाने पहुंची। पुलिस को मैंने घटना की जानकारी दी। उसके बाद मुझे जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया। यहां भी कोई मुझे देखने के लिए नहीं आया।

मामले को देखा जाएगा और कार्रवाई की जाएगी

वहीं पीडि़ता वर्षा राजा की मां का आरोप है कि हमने बेटी की शादी में पूरा दहेज दिया एवं अभी 15 हजार रुपए भी दिए थे। उसके बाद भी मारपीट करते हैं। पहले भी मारा था और आज फिर बुरी तरह हमारी बेटी को मारा है। इस मारपीट की शिकायतें कई बार महिला थाने में भी की गईं, मगर उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई। वही इस मामले में क्षेत्राधिकारी सदर हिमांशु गौरव का कहना है कि मामला संज्ञान में आया है। लिखित रूप से शिकायत मिलने पर आरोपियों के खिलाफ मामला पंजीकृत कर कार्रवाई जरूर की जाएगी। क्योंकि यह मामला महिला सुरक्षा से जुड़ा हुआ है, इसलिए प्राथमिक तौर पर भी इस मामले को देखा जाएगा और कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned