दोषी ग्राम प्रधान के विरुद्ध कराई एफआईआर दर्ज, सहायक विकास अधिकारी एवं ग्राम सचिव को किया निलम्बित

दोषी ग्राम प्रधान के विरुद्ध कराई एफआईआर दर्ज, सहायक विकास अधिकारी एवं ग्राम सचिव को किया निलम्बित

Akanksha Singh | Publish: Oct, 13 2018 02:16:11 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

दो दिन पूर्व ग्राम सतरवांस, विकास खण्ड बिरधा में निर्माणाधीन प्रवेश द्वार पर काम कर रहे मजदूर की कार्य के दौरान गिरकर मौत हो गई थी।

ललितपुर. दो दिन पूर्व ग्राम सतरवांस, विकास खण्ड बिरधा में निर्माणाधीन प्रवेश द्वार पर काम कर रहे मजदूर की कार्य के दौरान गिरकर मौत हो गई थी। मामले में बड़ी कार्रवाई करते हुए जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह ने ग्राम प्रधान के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराने तथा जेई, सहायक विकास अधिकारी एवं ग्राम सचिव को निलम्बित करते हुए विभागीय कार्रवाई प्रारम्भ कराने के निर्देश जारी किये। उक्त प्रकरण के सम्बन्ध में जिलाधिकार द्वारा वीडियो से जांच आख्या मांगी गई थी। जिसमें उन्होंने अवगत कराया कि जांच के समय विकासखण्ड के अवर अभियंता आरईडी पीएन अहिरवार, प्रभारी एडीओ पंचायत श्रीकृष्ण सहरिया, ग्राम सतरवांस के प्रधान पति प्रतिनिधि संतोष राजा एवं कुछ ग्रामवासी मौजूद थे। उपस्थित ग्रामवासी एवं प्रधान प्रतिनिधि द्वारा अवगत कराया गया कि उक्त प्रवेश द्वारा पर दिनांक 10 अक्टूबर के दोपहर में गोकुल कुशवाहा निवासी ग्राम मसौराकलां जो कि इस कार्य पर ठेकेदार राजमिस्त्री का कार्य कर रहे थे तथा उनके साथ पांच अन्य मजदूर भी कार्य कर रहे थे।

प्रवेश द्वारा के दोनों पिलर का निर्माण हो चुका था तथा पिलर के ऊपर स्लैव डालने का कार्य दिनांक 10 अक्टूबर को प्रारम्भ हुआ था, जिसमें राम सहाय पुत्र गजाधर राय द्वारा बीच के पाड़ पर चढ़कर लगी ईटों में से एक ढीर्ली इंट को हटाकर नई ईंट लगाने के प्रयास में पूरी पाड़ गिर पड़ी तथा श्री राम सहाय भी तकरीबन 05 मीटर की ऊंचाई से सिर के बल गिर पड़े, जिस कारण उनकी मौके पर ही मौत हो गई। मौके पर स्लैव डालने हेतु प्रयोग की जा रही अप्रयुक्त सामग्री भी अवशेष पायी गई तथा कुछ सामग्री ऊपर स्लैव पर भी आधे हिस्से में पड़ी पायी गई। स्लैव की सटरिंग बीच का सर्पोट गिर जाने के कारण धनुषाकार अवस्था में पायी गई। अवर अभियंता के अनुसार सटरिंग में 10 एमएम के सरिया का इस्तेमाल किया जा रहा था।

एडीओ पंचायत के द्वारा अवगत कराया गया कि उक्त कार्य का अंकन ग्राम पंचायत सतरवांस की वित्तीय वर्ष 2018-19 की राज्य वित्त चैदहवां वित्त की वार्षिक कार्य योजना में सम्मिलित नहीं है। न ही उक्त कार्य का किसी प्रकार का कोई प्राक्कलन बनाया गया अथवा स्वीकृत किया गया है। प्रधान द्वारा अपने व्यक्तिगत स्तर से उक्त कार्य को अवैध तरीके से कराया जा रहा था, जिसमें उनके द्वारा अपने स्तर से ही गोकुल पुत्र स्व0 गुल्ले कुशवाहा निवासी ग्राम मसौराकलां, विकासखण्ड जखौरा को उक्त कार्य हेतु ठेका दिया गया था। प्रधान प्रतिनिधि संतोष राजा द्वारा उक्त के सम्बंध में लिखित रुप से अवगत कराया गया है कि सचिव महेश विश्वकर्मा को उक्त कार्य की पूरी जानकारी थी तथा उनके द्वारा ही ठेकेदार तय किया गया था तथा कुछ धनराशि का भी भुगतान किया गया है।


उक्त कार्य की मौके पर जांच एव अन्य साक्ष्यों से स्पष्ट है कि ग्राम पंचायत सतरवासं की ग्राम प्रधान श्रीमती गुलाबराजा एवं उनके पति प्रतिनिधि संतोष राजा द्वारा नियम विरुद्ध ढंग से बिना वार्षिक कार्य योजना में शामिल किये अथवा तकनीकि प्राक्कलन एवं स्वीकृति के उक्त्त प्रवेश द्वार पर कार्य अनाधिकृत रुप से कराया जा रहा था, जिसकी जानकारी सचिव को भी थी, परन्तु उनके द्वारा अनाधिकृत कार्य को रोकने का कोई प्रयास नहीं किया गया। उक्त स्थिति में दुर्घटना से उत्पन्न अप्रिय परिस्थियों के निवर्हन में लापरवाही बरती गई है।


अतः उक्त प्रकरण को गम्भीरता से लेते हुए जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह ने बगैर स्वीकृति एवं बगैर किसी कार्ययोजना में शामिल किये हुये कार्य कराये जाने पर ग्राम प्रधान के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराने, जे0ई0, सहायक विकास अधिकारी एवं ग्राम सचिव को निलम्बित करते हुए विभागीय कार्यवाही प्रारम्भ कराने के आदेश जारी किये हैं। साथ ही उन्होंने निर्देश दिये कि पूरे जनपद में कोई भी श्रमिक जब तक विभाग में पंजीकृत न हो तब तक जनपद के निर्माण कार्यों को नहीं करेगा। यदि अपंजीकृत श्रमिकों द्वारा इस प्रकार से कार्य लिया जा रहा है तो इसके लिए बी0डी0ओ0 तथा कार्यदायी संस्थाएं जिम्मेदार होंगी।

Ad Block is Banned