कोटेदार द्वारा अपमानित किये जाने से क्षुब्ध होकर राशन लेने आए युवक ने की आत्महत्या

कोटेदार द्वारा अपमानित किये जाने से क्षुब्ध होकर राशन लेने आए युवक ने की आत्महत्या

Abhishek Gupta | Publish: Sep, 11 2018 11:05:14 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

खाद्यान मांगने पर गांव वालों के सामने गाली देकर किया था अपमानित, पीड़ित ने अपने खेत पर जहरीली दवा पीकर त्यागे प्राण.

ललितपुर. जहां एक ओर सरकारें कोटेदारों द्वारा गांव में पात्र व्यक्तियों को खाद्यान सामग्री इसलिए बंटवाती है तो उन्हें समय पर भोजन मिल सके, तो दूसरी ओर कोटेदार खाद्य सामग्री लेने वालों के साथ छलावा पूर्ण व्यवहार करते हैं। कोटेदार द्वारा पात्र व्यक्तियों के हक पर डाका डाला जाता है और खाद्य सामग्री को बाजारों में ब्लैक किया जाता है। इसी तरह ही प्रदेश में एक खाद्यान घोटाला उजागर हुआ था। जो एक बड़े खाद्यान घोटाला साबित हुआ है। ऐसे ही एक मामले में जब शैलेन्द्र ग्राम विजयपुरा में स्थित गांव की राशन की दुकान पर कोटेदार के यहां खाद्य सामग्री लेने गया तो वहां कोटेदार दशरथ पुत्र नत्थू द्वारा उसे खाद्य सामग्री तो नहीं दी गई बल्कि उसके साथ दुर्व्यवहार किया गया।

गांव वालों के सामने उसको गाली गलौज कर अपमानित किया गया, जिससे क्षुब्ध होकर उसने अपने घर आकर जहरीली दवाई का सेवन कर लिया और अपने प्राण त्याग दिए । जिसके सम्बन्ध में मृतक के पिता फूलचंद पाल ने सदर कोतवाली पुलिस को एक तहरीर देकर पूरे मामले से अवगत कराया इस मामले में फूलचंद ने बताया कि जब मेरा बेटा कोटेदार की राशन सामग्री लेने गया तो कोटेदार ने उसे राशन सामग्री नहीं दी बल्कि उसे सार्वजनिक रूप से गाली गलौज कर अपमानित किया जिससे मेरे बेटे ने घर आकर यह बात बताई और खेत पर चला गया जहां उसने फसलों में डालने वाली दवाई को पीकर आत्महत्या कर ली। आपको बताते चलें कि कोटेदारों की आत्महत्या की कहानी बहुत लंबी है यह पात्र व्यक्तियों के लिए सरकार द्वारा भेजे जाने वाले खाद्यान्नों में से उनके हक का काफी खाद्यान्न बचाकर उसकी ब्लैक मार्केटिंग कर अपनी जेब भर लेते है और पात्र व्यक्तियों को उनका हक नहीं मिल पाता ।

इस मामले में पुलिस अधीक्षक ओपी सिंह का कहना है कि मामला संज्ञान में आया था कि कोटेदार के अपमान से क्षुब्ध होकर किसी व्यक्ति ने जहरीली दवाई पीकर आत्महत्या कर ली । इस मामले की जांच कराई जा रही है और जांच में जो दोषी पाए जाएंगे उनके खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

Ad Block is Banned