भाजपा के स्वच्छता मैराथन दौड़ में नहीं दिखी भीड़

भाजपा के स्वच्छता मैराथन दौड़ में नहीं दिखी भीड़
Swachhata Marathon Race

Shatrudhan Gupta | Publish: Oct, 02 2017 06:30:54 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

मैराथन दौड़ में भाग लेने वाले धावक और प्रतिभागी समय पर नहीं पहुंचे, इसलिए कार्यक्रम लगभग डेढ़ घंटे देर से शुरू हो सकी।

ललितपुर. स्वच्छता का पाठ पढ़ाने वाले राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती पर ललितपुर शहर के तुवन मंदिर प्रांगण से स्वच्छता मैराथन दौड़ का आयोजन भारतीय जनता पार्टी ने किया था। इस मैराथन दौड़ में भाग लेने वाले धावक और प्रतिभागी समय पर नहीं पहुंचे, इसलिए कार्यक्रम लगभग डेढ़ घंटे देर से शुरू हो सकी। खास बात यह रही की प्रदेश की सत्तारूढ़ भाजपा द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में उम्मीद से काफी कम भीड़ दिखी। इससे जिला ईकाई के पदाधिकारी चिंतित नजर आए।

कार्यकर्ताओं ने नहीं दिखाई रुचि

स्वच्छता मैराथन दौड़ का आयोजन भारतीय जनता पार्टी एवं स्वच्छ ललितपुर सुंदर ललितपुर के सानिध्य में किया गया था, मगर यहां के लोगों ने इसमें अपनी रुचि नहीं दिखाई। यह मैराथन दौड़ शुरू हुई तो इसमें लगभग एक सैकड़ा व्यक्तियों एवं कार्यकर्ताओं ने ही भाग लिया, जिसमें से लगभग 25 से 30 स्कूली छात्र थे। पार्टी सूत्र बताते हैं कि अगर पार्टी के पूरे कार्यकर्ता इस दौड़ में शामिल हो जाते तो यह संख्या बहुज ज्यादा हो जाती। मगर पार्टी के इस कार्यक्रम में कार्यकर्ता ही नहीं पहुंचे, जिस कारण गांधी जयंती पर आयोजित यह कार्यक्रम फीका रहा। मैराथन दौड़ में सांसद प्रतिनिधि प्रदीप चौबे, सदर विधायक रामरतन कुशवाहा के साथ भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता एवं शहर के गणमान्य नागरिक मौजूद रहे। यह दौड़ ऐतिहासिक तुवन मंदिर से प्रारंभ होकर घंटाघर होती हुई सावरकर चोक तालाबपुरा से वापस तुवन मंदिर पहुंचकर समाप्त हुआ।

स्वच्छता के नाम पर दिखी महज खानापूर्ति

गांधी जयंती स्वच्छता दिवस के रूप में मनाया जा रहा है, मगर शहर के बीचोंबीच पुरानी तहसील के पास, तालावपुरा चोराहे पर एवर्णी जैन कॉलेज के आगे अम्बेडकर छात्रावास के पास लगे कूड़े के ढेर ने स्वच्छता दिवस की पोल खोल दी। अधिकतर जगहों पर स्वच्छता के नाम पर महज खानापूर्ति नजर आई। शहर के अंदर कई ऐसे स्थान है, जिनमें हमेशा गंदगी का साम्राज्य हमेशा बना रहता है, मगर प्रशासन द्वारा उस पर ध्यान नही दिया जाता। जिला अस्पताल के शव गृह व पोस्टमार्टम ग्रह के समीप गन्दगी के अंबार है। यहां पर तामिरदार दुर्गंध की वजह से खड़े भी नहीं हो पाते, जिसकी शिकायतें कई बार प्रशासन से की गई मगर स्थिति जस की तस है। जिला अस्पताल में बने शव गृह के पास तो पूरे जिला अस्पताल का कचरा फेंका जाता है और वहीं पर खड़े होकर मृतकों के परिजनों से पंचनामा भरवाया जाता है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned