मकर सक्रांति पर्व पर पतंग महोत्सव को प्रशासन ने नहीं दी अनुमति

Ruchi Sharma

Publish: Jan, 14 2018 01:41:10 PM (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
मकर सक्रांति पर्व पर पतंग महोत्सव को प्रशासन ने नहीं दी अनुमति

आयोजन समिति के साथ साथ आम जन मानस में फूटा आक्रोश

ललितपुर. मकर संक्रांति के शुभ अवसर पर पतंग उड़ाने का रिवाज है और इसको लेकर पिछले कई वर्षों से पतंग महोत्सव का आयोजन होता रहा है। मगर गत वर्षों से गोविंद सागर बांध पर मकर संक्रांति के दिन 15 जनवरी को होने वाला पतंग महोत्सव अब खटाई में पड़ता दिखाई दे रहा है।

जिला प्रशासन ने नहीं दी अनुमति

पतंग महोत्सव के आयोजन को लेकर जहां आयोजन समिति में खुशी की लहर दौड़ रही थी वही आम जनमानस के लिए भी यह महोत्सव किसी उत्सव से कम नहीं था। मगर जिला प्रशासन ने पतंग महोत्सव के लिए आयोजन समिति को इजाजत नहीं दी है।

अधिशाषी अभियंता ने उठाई आपत्ति

पतंग महोत्सव के आयोजन की मनाही प्रशासन ने राजघाट निर्माण खंड के अधिशासी अभियंता जिनके अधीन गोविंद सागर बांध आता है। उनकी आपत्ति के बाद प्रशासन ने यह कदम उठाया। अधिशासी अभियंता ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि पिछले वर्ष बांध की पट्टी पर चढ़कर और बांध के गेटों के पास लोग पतंग उड़ाते देखे गए। जिसमें एक तरफ लोगों की जान का खतरा और दूसरी तरफ बांध की सुरक्षा को देखते हुए उन्होंने पतंग महोत्सव पर आपत्ति दर्ज कराई और अधिशासी अभियंता की रिपोर्ट पर प्रशासन ने पतंग महोत्सव समिति को कार्यक्रम करने की इजाजत देने से इंकार कर दिया।

आम जन मानस में छाई नाराजगी

फिलहाल शहर के युवाओं में इस कार्यक्रम को लेकर भारी उत्सुकता थी और लोगों ने इस कार्यक्रम के लिए जमकर पतंग और डोर भी खरीदी थी। मगर इस महोत्सव की आयोजन को लेकर जिला प्रशासन का रुख आने के बाद आम जनमानस में मायूसी छा गई है। लोगों का कहना है कि इस महोत्सव से किसी को कोई नुकसान नहीं था बल्कि आम जनमानस का मनोरंजन हो जाया करता था एवं पतंग उड़ाने का भी जोश भी पूरा हो जाया करता था। अब देखना होगा पतंग महोत्सव समिति का अगला कदम क्या होता है।

इनका कहना है

पतंग महोत्सव की अनुमति ना मिलने से आयोजक मंडल में काफी नाराजगी देखी गई। इस कार्यक्रम के संयोजक संजीव बाजाज ने बताया कि विगत बरसो की भांति इस वर्ष भी पतंग महोत्सव कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा।

Ad Block is Banned