जिनको पीट-पीट कर किया मरणासन्न, उन्हीं पर पुलिस ने लिख दिया मुकदमा

- पुलिस ने दबंगों के दिया अभय दान
- दबंगों ने घायलों के लेने आई 108 के स्टाफ के साथ भी की मारपीट
- जमीन पर अबैध कब्जा करने से रोकने को लेकर दबंगों ने पूरे परिवार के साथ की थी जमकर मारपीट

By: Abhishek Gupta

Published: 13 Jun 2020, 10:53 PM IST

Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

ललितपुर. जहां एक ओर देश कोरोना वायरस की महामारी से जूझ रहा है तो वहीं दूसरी ओर गांव के दबंग पुलिस से मिलकर जमीनों पर अबैध रूप से कब्जा करने में लगे हुए हैं। हैरानी की बात यह है कि दबंगों ने जमीन के मालिक और उसके परिवार को मार मार कर अधमरा कर दिया और पुलिस ने दबंगों को अभयदान देकर पीड़ितों पर ही संगीन धाराओं में मुकदमा लिख दिया। यही नहीं, पीड़ित पक्ष के 8 लोगों को गिरफ्तार भी कर लिया गया। जबकि पीड़ित पक्ष के कई लोग ग्वालियर में भर्ती होकर गंभीर हालत में अपना इलाज करा रहे हैं और जिंदगी और मौत की जंग लड़ रहे हैं। इतना ही नहीं जब घायलों को ले जाने के लिए 108 एंबुलेंस को फोन किया गया और 108 एंबुलेंस गांव में आई तब दबंगों ने घायलों को 108 एंबुलेंस से ले जाने नहीं दिया एवं 108 पर तैनात स्टाफ के साथ ही गाली गलौज कर अभद्रता भी की।

मामला कोतवाली तालबेहट क्षेत्र के गूगर गांव का है। कोतवाली में तैनात कोतवाल मनोज कुमार वर्मा ने जमीन के मालिक पीड़ितों को ही अपराधी बनाकर पेश कर दिया। इतना ही नहीं दबंगों की मारपीट में घायलों पर ही मुकदमा लिख दिया जो न्यायालय में जमानत कराते फिर रहे हैं, तो पीड़िता के पति और पुत्र सहित कई लोग ग्वालियर में इलाज करा रहे हैं। कोतवाल ने जब दबंगों के खिलाफ कार्यवाही करने से इंकार कर दिया, तब पीड़ित की पत्नी गांव बालों और प्रधान के साथ के साथ एसपी की चौखट पर गुहार लगाने पहुंची तो एसपी ने मिलने से इनकार कर दिया और कह दिया कि कोतवाली वापस जाओ। वहीं तुम्हारी सुनवाई होगी, मैं फोन कर दूंगा। तो साहब सुन लीजिए कि अगर कोतवाल ने कार्यवाही की होती तो करो उन्हें आप की चौखट पर नाक रगड़ने की जरूरत क्या थी आपने पीड़ितों से मिलने की जहमत तक नहीं उठाई। क्या यही कहता है आप का शासनादेश कि पीड़ित अगर आपकी चौखट पर व्यथा सुनाने आए तो उसे खाली हाथ ही वापस लौटना पड़े।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned