scriptPreparations to celebrate anti-mosquito day in Lalitpur before rain | ललितपुर में मच्छर रोधी दिवस मनाने की तैयारी, बारिश से पहले बीमारियों से बचाव को सतर्क | Patrika News

ललितपुर में मच्छर रोधी दिवस मनाने की तैयारी, बारिश से पहले बीमारियों से बचाव को सतर्क

उत्तर प्रदेश के ललितपुर जिले के जून माह में बारिश से होने वाले मौसम परिवर्तन के कारण डेंगू व मलेरिया जैसी बीमारी फैलने की आशंका बढ़ जाती है। इसे ध्यान में रखते हुए मलेरिया रोधी माह मनाया जा रहा है। इस माह में मच्छर जनित बीमारियों के प्रति लोगों को जागरूक किया जा रहा है।

ललितपुर

Updated: June 09, 2022 07:15:45 pm

ललितपुर जिले के मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ अजय भाले ने बताया कि एक जून से जागरूकता अभियान की शुरूआत हो गई है,जो 30 जून तक चलेगा। इस माह के दौरान विभिन्न जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। इनके माध्यम से लोगों को मलेरिया व डेंगू जैसी बीमारियो की रोकथाम के उपाय बताए जाएंगे। आशा कार्यकर्ताओं को इस काम में लगाया गया है,वह घर घर जाकर लोगों को मच्छरजनित बीमारियों के प्रति जागरूक कर रही हैं।
symbolic pics of Lalitpur Hospital Awareness programe on Rain
Symbolic pics of Lalitpur Awareness Programe on Mosquito
जिला मलेरिया अधिकारी डॉ एम सी पॉल ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की टीमें गांव-गांव जाकर मच्छर से होने वाली विभिन्न बीमारियों के बारे में बता रही है। अभियान में पंपलेट्स का भी सहारा लिया जा रहा है। सहायक मलेरिया अधिकारी अजब सिंह ने बताया कि एनाफिलीज मादा मच्छर से मलेरिया होता है। इससे बचने के उपाय व बीमारी होने पर लोगों को उपचार के लिये जागरूक किया जा रहा है। शहर में नगर पालिका परिषद और ग्रामीण क्षेत्रों में पंचायती राज विभाग की ओर से जगह-जगह साफ सफाई कराई जा रही है। जागरूकता बढ़ने से मलेरिया के केसों में कमी आई है। वर्ष 2021 में 15 केस निकले थे। वहीं, इस साल इनकी संख्या घटकर 7 रह गई है।
ऐसे रूकेंगे संचारी रोग
घर के अंदर और घर के आस पास जल जमाव न होने दें। मच्छरों से बचने के लिए रुके हुए पानी के स्थानों को मिट्टी से भर दे। गमला, छत पर पड़े पुराने टायर प्रयोग में न आने वाली सामग्री में पानी को एकत्र न होने दें, प्रत्येक रविवार कूलर का पानी बदले, सोते समय मच्छरदानी, क्रीम व स्प्रे आदि का प्रयोग करें, संभव हो तो पूरी आस्तीन के कपड़े पहने, जिससे शरीर के अधिक से अधिक हिस्से को ढक कर रखा जा सके।
न करें नजरंदाज:-

मादा मच्छर एनाफिलीज के काटने के बाद 14 से 21 दिन के अंदर बुखार आता है। बुखार प्रतिदिन आता है और निश्चित समय के बाद उतर जाता है। इस दौरान थकान, चक्कर आना, शारीरिक कमजोरी बढ़ जाती है। सहायक मलेरिया अधिकारी ने बताया कि जनपद की समस्त चिकित्सा इकाइयों में मलेरिया बुखार की जांच निःशुल्क होती है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

राजस्थान में इंटरनेट कर्फ्यू खत्म, 12 जिलों में नेट चालू, पांच जिलों में सुबह खत्म होगी नेटबंदीनूपुर शर्मा पर डबल बेंच की टिप्पणियों को वापस लिया जाए, सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस के समक्ष दाखिल की गई Letter PettitionENG vs IND Edgbaston Test Day 1 Live: ऋषभ पंत के शतक की बदौलत भारतीय टीम मजबूत स्थिति मेंMaharashtra Politics: महाराष्ट्र बीजेपी अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने देवेंद्र फडणवीस के डिप्टी सीएम बनने की बताई असली वजह, कही यह बातजंगल में सर्चिंग कर रहे जवानों पर नक्सलियों ने की फायरिंगपंचायत चुनाव: दो पुलिस थानों ने की कार्रवाई, प्रत्याशी का चुनाव चिन्ह छाता तो उसने ट्राली भर छाता बंटवाने भेजे, पुलिस ने किए जब्तMonsoon/ शहर में साढ़े आठ इंच बारिश से सडक़ों पर सैलाब जैसा नजारा, जन जीवन प्रभावित2 जुलाई को छ.ग. बंद: उदयपुर की घटना का असर छत्तीसगढ़ में, कई दलों ने खोला मोर्चा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.