क्लास में सवाल का जवाब देने पर प्रिंसिपल ने की छात्र की पिटाई, स्कूल से बाहर करने की दी धमकी

Karishma Lalwani | Updated: 26 Jul 2019, 07:05:10 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

- 10वीं के छात्र की पिटाई

- कक्षा में बात करने पर हुई पिटाई

- बेहोशी की हालत में पहुंचा घर

ललितपुर. कक्षा में आपस में बात करने की सजा स्कूल के मिशनरी फादर ने एक छात्र को इस तरह से दी जैसी कोई हिस्ट्रीशीटर बदमाश पुलिस के हत्थे चढ़ा हो और पुलिस लॉकअप में उसकी जबरदस्त पिटाई हुई हो। हालांकि, एसडीएस स्कूल प्रशासन द्वारा छात्र के साथ मारपीट का यह कोई पहला मामला नहीं है इसके पहले भी स्कूल प्रशासन में कई छात्रों के साथ क्लास रूम में मारपीट की है। उक्त एसडीएस स्कूल कभी छात्रों के उत्पीड़न को लेकर सुर्खियों में रहता है, तो कभी फीस बढ़ाने, किताबें बदलने, ड्रेस बदलने और एक ही दुकान से स्कूल का सामान खरीदने जैसी कामों को लेकर भी विवाद में रहा है।

कमरे में लाकर पीटा

ललितपुर के प्रतिष्ठित विद्यालय एसडीएस कान्वेंट स्कूल में 10वीं के छात्र अभय तिवारी को विद्यालय के प्रधानाचार्य फादर पॉल ने अपने कमरे में ले जाकर बहुत बुरी तरह पीटा जैसे उसने कोई बहुत बड़ा संगीन अपराध किया हो। उसका अपराध केवल इतना था कि उसके आगे बैठे छात्र ने उससे कुछ पूछा और उसने जबाब दे दिया। इसकी उसे ऐसी सजा मिली जैसे उसने कोई बहुत बड़ा अपराध किया हो। छात्र अभय तिवारी ने बताया कि उनके आगे बैठने वाले छात्र आपस में बात कर रहे थे। इस पर प्रिंसिपल ने उन्हें पहले डांटा फिर क्लास से बाहर किया और फिर कमरे में ले जाकर मारपीट की धमकी दी। साथ ही टीसी काटने, पिता को धमकी देने और स्कूल से बाहर करने की बात कही।

ये भी पढें: दिव्यांग बच्चों को निशुक्ल बाटी जाएंगी ये चीजें, राज्य परियोजना कार्यालय ने दिया निर्देश

मारपीट से बेहोश हुआ छात्र

छात्र के पिता का रामगुलाम का कहना है कि उनका बेटा स्कूल से आने के बाद बेहोश हो गया। होश में आने पर पता लगा प्रिंसिपल फादर ने उसके साथ बुरी तरह मारपीट की। शरीर पर मारपीट के निशान भी हैं। पीड़ित छात्र के पिता ने सदर कोतवाली पुलिस को स्कूल प्रशासन के खिलाफ एक शिकायती पत्र देकर पूरे मामले से अवगत कराया। पुलिस विद्यालय प्रशासन के पास पहुंची लेकिन तब वहां कोई स्कूली स्टाफ मौजूद नहीं था। फादर ने स्कूल की छुट्टी कर सारे स्टाफ को वहां से चलता कर दिया। छात्र की पिटाई के बाद छात्र संगठनों में रोष है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned