महिला से छेड़छाड़ करने वाला सिपाही किया गया बर्खास्त, शराब के नशे में धुत किशोरी से की छेड़छाड़

विगत 2 दिन पहले रात्रि लगभग 10:00 बजे के करीब उस समय कोतवाली परिसर में हंगामा खड़ा हो गया।

By: आकांक्षा सिंह

Published: 25 Jan 2018, 12:23 PM IST

Lucknow, Uttar Pradesh, India

ललितपुर. विगत 2 दिन पहले रात्रि लगभग 10:00 बजे के करीब उस समय कोतवाली परिसर में हंगामा खड़ा हो गया था, जब एक नशे में धुत सिपाही को कुछ लोग पकड़ कर पीटते हुए सदर कोतवाली लाए थे। एक महिला ने सिपाही विनोद कुमार यादव पर जबरन घर में घुसकर शराब पीकर छेड़छाड़ करने का आरोप लगाया था महिला की तहरीर के आधार पर उक्त सफाई पर संगीन धाराओं में मामला पंजीकृत कर लिया गया था। इस मामले को पुलिस अधीक्षक सलमान ताज पाटिल ने संजीदगी से लिया और वर्दी की प्रतिष्ठा को तार तार करने वाले इस सिपाही को पुलिस अधीक्षक ने उसके क्रियाकलापों एवं पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार देखते हुए तत्काल प्रभाव से उसकी निलंबन पर कार्यवाही की एवं उसको तत्काल प्रभाव से बर्खास्त कर दिया गया।

 

दिनांक 23-1-18 को आरक्षी 83 PNO 062480804 विकाश यादव, पुलिस लाइन ललितपुर द्वारा गुरमीत कौर पुत्री चरनजीत सिंह कौर के घर में शराब के नशे में रात्रि 21:00 बजे घुस कर अभद्र व्यवहार और गाली गलौज किया और पीड़िता को धमकी दी, गुरुमीत कौर की तहरीर पर उक्त आरक्षी के विरुद्ध दिनांक 23-1-18 को मुकदमा अपराध संख्या 66/18 धारा 452, 354(क),504,506 IPC पंजीकृत कर दिनांक 24-1-18 को जेल भेजा गया हैं।


उक्त आरक्षि ने जनपद फतेहगढ़ से 10-2-14 में निलंबन की अवधि में ललितपुर पुलिस लाइन में अपनी आमद कराई थी, 28-2-15 में बहाल हुआ था पुनः 15-7-15 में निलंबित हुआ फिर 12-10-15 में बहाल हुआ, पुनः 12-8-16 में निलंबित हुआ और 17-8-16 में बहाल हुआ, दिनांक 17-4-17 में निलंबित हो कर 17-1-18 को बहाल हुआ था, उक्त अरक्षि शराब पीने का आदी है , आरक्षी को पूर्व में 18 लघु दंड, 1 दीर्घ दंड और 4 छुद्र दंड से दण्डित किया जा चुका है।


आरक्षी के उपरोक्त कृत्यों को देखते हुए उसे सेवा से बर्खास्त करने का निर्णय लिया गया है। जबकि पुलिस के सिपाही को पकड़कर सदर कोतवाली लाया गया था तब इसका कहना था कि मैं पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह का रिश्तेदार हूं जो बिगाड़ना है बिगाड़ लेना। यह बात जब जनपद की पुलिस अधीक्षक सलमान ताज पाटिल के पास पहुंचे तब उन्होंने पूरे मामले को संज्ञान में लिया और उक्त सिपाही के खिलाफ कार्रवाई कर जनपद में एक नजीर पेश की कि पुलिस का कोई भी अधिकारी या कर्मचारी हो अगर वह गलत गतिविधियों में संलिप्त पाया जाता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई तय है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned