Facebook Data Leak: भारत सरकार ने जारी किया नोटिस, 7 अप्रैल तक जबाव दे कंपनी

भारत सरकार ने कंपनी से 7 अप्रैल तक जबाव मांगा है।

By: manish ranjan

Published: 28 Mar 2018, 07:34 PM IST

नई दिल्ली। ब्रिटेन में फेसबुक और कैम्ब्रिज एनालिटिका विवाद के बाद भारत सरकार ने भी लोगों के डाटा विवाद को देखते हुए फेसबुक को नोटिस जारी किया है। भारत सरकार ने कंपनी से 7 अप्रैल तक जबाव मांगा है।

सरकार ने किए 5 सवाल
फेसबुक को नोटिस जारी करते हुए 5 सवालों के जबाव मांगे हैं। जिसमें भारतीय वोटरों के डाटा के दुरुपयोग, आगे इसको लेकर क्‍या कदम उठाए और क्‍या भारतीय इलेक्‍शन प्रोससे पर इसका असर पड़ा जैसे सवाल किए गए हैं। सरकार ने कहा है फेसबुक को 7 अप्रैल तक इसका जबाव देने का समय दिया गया है।

क्रैम्ब्रिज एनालिटिका को पहले ही नोटिस

इससे पहले इसी मामले में पिछले हफ्ते सरकार ने क्रैम्ब्रिज एनालेटिका को नोटिस जारी किया था। इसमें उससे कई सवाल पूछे गए थे, जिसमें भारतीय यूजर्स का डाटा का चुनाव में इस्‍तेमाल हुआ या नहीं यह भी पूछा गया है। कंपनी को 31 मार्च तक इस नोटिस का जबाव देने को कहा गया है, हालांकि अभी तक सरकार को कंपनी न कोई जबाव नहीं दिया है।

भारत में इतने हैं ग्राहक
आपको बता दें कि फेसबुक की इतनी बड़ी कंपनी बनने में भारत का बहुत बड़ा योगदान है। क्योंकि फेसबुक के सबसे ज्‍यादा यूजर इस वक्‍त भारत में ही हैं। नोटिस में सरकार ने फेसबुक से कहा है कि इसलिए जरूरी है कि यूजर्स का डाटा सुरक्षित और गोपनीयता रखी जाए। सरकर ने साफ साफ कहा है कि फेसबुक और इसकी सहयोगी कोई भी नेटवर्किंग साइट्स पर डेटा का गलत इस्‍तेमाल नहीं होना चाहिए।

ऐसे सुरक्षित रखें अपनी जानकारी
फेसबुक यूजर्स की जानकारियों को उनकी मर्जी के अनुसार ही लेता है। फेसबुक इंस्टॉल करते वक्त कंपनी आपसे कुछ चीजों की इजाजत मांगता है, आप चाहें तो उन चीजों के लिए राजी हो सकते हैं या फिर मना सकते हैं। फेसबुक ऐप इंस्टॉल करके खोलने के बाद 3 ऑप्शन नजर आएंगे। पहला Turn On दूसरा Not Now और तीसरा Learn More। आप जैसे ही Turn On पर क्लिक करते हैं तो फेसबुक मैसेंजर आपकी जानकारी रखने लगता है।आप चाहते हैं कि फेसबुक आपकी जानकारी नहीं रखे तो Not Now पर क्लिक कीजिए।

manish ranjan Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned