जापानियों के ऑफर ठुकरा कर इस भारतीय ने रचा इतिहास, आज अपनी कंपनी से चला रहे हैं 6000 लोगों का परिवार

  • विदेशियों के 7000 करोड़ के ऑफर को ठुकराया
  • OLA ने ऐसे खड़ी की बिजनेस एंपायर
  • सॉफ्टबैंक के प्रस्ताव को कर दिया मना

By: manish ranjan

Updated: 10 Apr 2019, 05:56 PM IST

नई दिल्ली। कहते हैं इरादे बुलंद हो तो इंसान कुछ भी हासिल कर सकता है। कुछ ऐसा ही किया केवल Ola के मालिक भाविश अग्रवाल ने। केवल 33 साल के भाविश ने जापान के सॉफ्ट बैंक को साफ मना कर दिया कि उन्हें किसी तरह की फंडिंग नही चाहिए। आपको बता दें कि जापान की सॉफ्ट बैंक भाविश की OLA में करीब 7 हजार करोड़ का निवेश करना चाहती थी। लेकिन भाविश ने विदेशियों के पैसे के बदले अपने दम पर कंपनी को खड़ा करना चाहा और अपने सपने को पूरा किया।

OLA से चलता है 6000 लोगों का परिवार

भाविश की मेहनत रंग लाई और देखते ही OLA का रेवेन्यु 758 करोड़ के पार पहुंच गया। OLA के दम पर आज करीब 6000 लोगों का परिवार चलता है। 33 वर्षीय भाविश अग्रवाल ने 2011 में अपने इंजीनियरिंग स्कूल के दोस्त अंकित भाटी के साथ मिलकर Ola की शुरुआत की थी। फिलहाल इस प्लेटफॉर्म पर देश के 100 से ज्यादा शहरों में 13 लाख ड्राइवर हैं। इसके अलावा कंपनी अब फूड बिजनेस में भी उतर चुकी है।

क्यों ठुकराया इतना बड़ा ऑफर

दरअसल जापान की सॉफ्टबैंक ola में अपनी हिस्सेदारी 40 फीसदी करना चाहती थी। लेकिन भाविश कंपनी पर अपना हक नहीं खोना चाहते थे। लिहाजा उन्होंने ये ऑफर ठुकरा दिया। और अपने दम पर कंपनी को नये सिरे से खड़ा करने की सोची। इसी साल उन्होंने Hyundai Motor Co. से 2,082 करोड़ रुपए और Flipkart के को-फाउंडर सचिन बंसल से 624 करोड़ रुपए जुटाए।

 

Business जगत से जुड़ी अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार,फाइनेंस,इंडस्‍ट्री,अर्थव्‍यवस्‍था,कॉर्पोरेट,म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

manish ranjan Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned