मुकेश अंबानी का नया दांव, PayTm समेत इन कंपनियों की बढ़ेगी मुसीबत

मुकेश अंबानी का नया दांव, PayTm समेत इन कंपनियों की बढ़ेगी मुसीबत

Manish Ranjan | Publish: May, 05 2019 08:16:50 AM (IST) | Updated: May, 05 2019 08:16:52 AM (IST) कॉर्पोरेट

  • नोटबंदी के बाद पेटीएम के बढ़ते वर्चस्त को खत्म कर सकता है मुकेश अंबानी का नया प्लान।
  • पेटीएम ही नहीं, बल्कि दिग्गज ई-कॉमर्स कंपनियों की भी उड़ी नींद।
  • पेटीएम भी टक्कर देने के लिए उठा सकता है बड़ा कदम

नई दिल्ली। नोटबंदी के ठीक बाद ई-वॉलेट कंपनी Paytm को सबसे अधिक फायदा मिला था। नोटबंदी में कैश की किल्लत से बचने के लिए चाय वाले, अंडे वाले, दूध वाले से लेकर हर आदमी के मोबाइल में PayTm गया था। इसका फायदा लोगों को तो मिला ही लेकिन कंपनी ने भी जमकर मुनाफा कमाया। देखते ही देखते PayTm हर आदमी की पहली पसंद बन गया। इसके बाद कंपनी ने PayTm मॉल का आगाज किया। जब पेटीएम मॉल का आगाज हुआ था तो उसे अपने निवेशक अलीबाबा ग्रुप से संकेत मिला था और उसका मकसद सबके लिए एक डिजिटल दुनिया बनना था। आरंभिक पेशकश के रूप में कंपनी ने ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए कैशबैक देना शुरू किया। जिसका फायदा कंपनी ने भी खूब उठाया। लेकिन, अब इसी कंपनी की मुसीबत बढ़ाने के लिए देश के सबसे बड़ी कंपनी के मालिक मुकेश अंबानी अब नया दांव खेलने जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें - इन खूबियों से लैस होगा Honda Activa 6G, जानें कब होगा लॉन्च

कम मार्जिन और ई-कॉमर्श में बड़ी नकदी के संकट से जूझ रही पेटीएम मॉल (PayTm Mall ) ने छोटे विक्रेताओं के लिए ऑनलाइन से ऑफलाइन (ओ-टू-ओ) मंच बनने के लिए अपनी रणनीति बदलना शुरू कर दिया। उधर, इस क्षेत्र में रिलायंस के उरतने की घोषणा वास्तव में पेटीएम ( PayTm ) और उसके मालिकों के लिए चिंता का सबब बन गई। पिछले साल नवंबर में मेक इन ओडिशा सम्मेलन में रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी ( Mukesh Ambani ) ने कहा, "रिलायंस दुनिया का सबसे बड़ा ऑनलाइन-टू-ऑफलाइन न्यू कॉमर्स प्लेटफॉर्म बनाने पर विचार कर रही है। रिलायंस रिटेल के पूरे भारत में 10,000 आउटलेट हैं जिसका रिलायंस को अवश्य लाभ मिलेगा और यह रिटेल क्षेत्र की अन्य कंपनियों के लिए चिंता का सबब होगी।

यह भी पढ़ें - लॉन्चिंग से पहले ही Hyundai Venue ने मचाया तहलका, पहले ही दिन बुकिंग 2000 के पार

क्या है मुकेश अंबानी का प्लान

रिलायंस के पास पूंजी, असीमित क्षमता, व्यापक रिटेल आउटलेट, और संसाधन हैं, जिससे वह प्रतिस्पर्धा को ही समाप्त कर सकती है। मुकेश अंबानी का मकसद देश में रिटेल क्षेत्र में शीर्ष स्थान हासिल करना है और वह यह काम उसी तरह आसानी से कर सकते हैं जिस तरह उन्होंने रिलायंस जियो के लिए किया।

यह भी पढ़ें - लोकसभा चुनाव 2019 पांचवां चरण: 184 करोड़पति और 126 अपराधी, कुछ ऐसे हैं इस बार आपके उम्मीदवार

PayTm के पास अब क्या है उपाय

साइबर मीडिया रिसर्च के प्रमुख व सीनियर वाइस प्रेसिडेंट थॉमस जॉर्ज ने एक कदम आगे बढ़कर कहा, "मुझे इस बात में कोई हैरानी नहीं होगी कि भारत में ई-कॉमर्स बाजार में अवसर बनाए रखने के लिए रिलायंस या अलीबाबा का लक्ष्य पेटीएम का अधिग्रहण करना होगा।"अलीबाबा ( Alibaba ) ने कभी भारत के ई-कॉमर्स क्षेत्र में लंबी अवधि की संवृद्धि नहीं देखी इसलिए उन्होंने पैर पसारते डिजिटल भुगतान पर अपना दाव खेला। गूगल ( Google ) और बोस्टन कंसल्टिंग ग्रुप के अनुसार, भारत का डिजिटल भुगतान क्षेत्र 2020 तक 500 अरब डॉलर का हो जाएगा। पेटीएम के संस्थापक और सीईओ विजय शेखर शर्मा ने ऐसा नहीं सोचा, जिसका नतीजा सामने है। रिलायंस, अमेजन और वालमार्ट-फ्लिपकार्ट को पीछे छोड़ शीर्ष स्थान पर जाने की जुगत में है। उसके मुकाबले में पेटीएम मॉल एक छोटा-सा प्रतियोगी है।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें Patrika Hindi News App.

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned