जेट एयरवेज को बचाने के लिए आगे आए नरेश गोयल, एतिहाद ने भी लगाई बोली

जेट एयरवेज को बचाने के लिए आगे आए नरेश गोयल, एतिहाद ने भी लगाई बोली

Shivani Sharma | Updated: 13 Apr 2019, 09:57:17 AM (IST) कॉर्पोरेट

  • जेट एयरवेज को बचाने के लिए आगे आए नरेश गोयल
  • एतिहाद ने भी लगाई बोली
  • वित्तीय संकट से जूझ रही जेट एयरवेज को बचाने के लिए नरेश गोयल ने बोली लगाई

नई दिल्ली। वित्तीय संकट से जूझ रही जेट एयरवेज को बचाने के लिए नरेश गोयल ने बोली लगाई है। जेट एयरवेज में हिस्सेदारी खरीदने के लिए 7 कंपनियों ने एक्सप्रेशन ऑफ इंट्रेस्ट (ईओआई) सबमिट किया है और लोगों का मानना है कि इसमें नरेश गोयल का नाम भी शामिल है। इसके अलावा इस बोली में कैलिफॉर्निया स्थित इन्वेस्टमेंट फर्म टीपीडी, फीनिक्स में मौजूद प्राइवेट इक्विटी फर्म इंडिगो पार्टनर्स, रेडक्लिफ और थिंक इक्विटी और जेट के एग्जिक्यूटिव वाइस प्रेजिडेंट शामिल हैं।


SBI ने दी जानकारी

आपको बता दें कि एसबीआई कैप को ईओआई सबमिट करने की डेडलाइन शुक्रवार शाम 6 बजे तक की ही थी। वहीं, जानकारों ने बताया कि गोयल ने अपनी निविदा डेडलाइन खत्म होने के ठीक पहले पेश की थी। जेट के सीईओ विनय दुबे ने जानकारी देते हुए बताया कि शुक्रवार रात कर्मचारियों को मेल भेजा जिसमें लिखा था, 'ईओआई लेने की प्रक्रिया शुक्रवार को समाप्त हुई और मैं यह मान रहा हूं सार्थक रुचि दिखाई गई और विश्वसनीय ईओआई प्राप्त हुई है। बैंक रुचि दिखाने वाले पक्षों से बातचीत कर रही है और मुझे उम्मीद है कि अगले सप्ताह इस पर चीजें और स्पष्ट होंगी।'


वित्तीय संकट से गुजर रही कंपनी

उल्लेखनीय है कि जेट एयरवेज फिलहाल बड़े वित्तीय संकट की दौर से गुजर रही है। इस विमान कंपनी को लगातार अपनी उड़ानें रद्द कर रही है। हाल ही में कंपनी अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को भी रद्द करने का फैसला लिया है। कंपनी ने यह कदम नियामकीय फाइलिंग में विमानों के पट्टे की भुगतान नहीं कर पाने के बारे में जानकारी देने के बाद उठाया है।


जेट एयरवेज पर है करीब 1 अरब डॉलर का कर्ज

1990 तक भारत में सरकारी विमान कंपनी एअर इंडिया लिमिटेड ( air india ) का ही वर्चस्व था जिसके बाद जेट एयरवे ने प्राइवेट सेक्टर के विमानन क्षेत्र में आगाज किया था। इसके देश के विमान क्षेत्र में इस कंपनी ने भी अपना लोहा मनवाया। जेट एयरवेज के बाद ही भारत में प्राइवेट विमान कंपनियों का रास्ता खुला और कई किफायती कंपनियों ने बाजार में अपनी मौजूदगी दर्ज कराई। नरेश गोयल ( naresh goyal ) द्वारा शुरू की गई जेट एयरवेज पर करीब 1 अरब डॉलर का कर्ज है। बीते दिनों में कंपनी लगातार बैंकों, कर्मचारियों और पट्टे कंपनियों को भुगतान करने में नाकाम रही है।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार,फाइनेंस,इंडस्‍ट्री,अर्थव्‍यवस्‍था,कॉर्पोरेट,म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned