कश्मीर में एक लाख करोड़ के निवेश से 100 होटल बनाने की तैयारी

कश्मीर में एक लाख करोड़ के निवेश से 100 होटल बनाने की तैयारी

Saurabh Sharma | Updated: 03 Sep 2019, 06:38:38 PM (IST) कॉर्पोरेट

  • ओवरसीज सिटीजन ऑफ इंडिया के एक लाख करोड़ का होगा निवेश
  • फोरम निवेशक और कश्मीर के भू संपदा मालिकों से हो चुकी है चर्चा
  • 370 को हटाने से पहले ही मई में ही इस पर शुरू हो चुका था काम

नई दिल्ली। कश्मीर में पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से ओवरसीज सिटीजन ऑफ इंडिया ( ओसीआई ) इंवेस्टर फोरम के माध्यम से वहां एक लाख करोड़ रुपए के निवेश से 100 पांच सितारा होटल बनाने की तैयारी चल रही है। एक होटल के निर्माण में एक हजार करोड़ रुपए का निवेश किया जाएगा।

यह भी पढ़ेंः- अमरीका और चीन के ट्रेड वॉर से बढ़ा भारत में शादियों का खर्च

ओसीआई इन्वेस्टर फोरम के अध्यक्ष एवं उद्योगपति बीके मोदी ने मंगलवार को यह घोषणा करते हुए कहा कि इसके लिए उनका फोरम निवेशक और कश्मीर के भू संपदा मालिकों से चर्चा कर चुका है। अब योजना को अंतिम रूप देने की तैयारी चल रही है। इसके लिए इंडोनेशिया के बाली में अक्टूबर में बैठक होगी, जिसमें वैश्विक स्तर के निवेशक और कश्मीर में पांच एकड़ से अधिक के प्लॉट के मालिक मिलकर इस परियोजना को अंतिम रूप देंगे। इसके तहत कश्मीर में 100 ग्लोबल वेलनेस होटल बनाने की योजना है।

यह भी पढ़ेंः- 6 लाख रुपए की कमाई पर नहीं देना होगा टैक्स, सरकार बदलने जा रही है नियम!

उन्होंने कहा कि उनके संगठन ने सरकार के जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाने से पहले ही मई में ही इस पर काम शुरू कर दिया था। अब तक कश्मीर में दो बैठकें हो चुकी हैं। मालिक भूमि देने के लिए तैयार हो चुके हैं और अब वे निवेशकों के साथ मिलकर इसको अंतिम रूप देंगे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के पूरी दुनिया में फैले भारतीय मूल के लोगों के देश में निवेश करने के आग्रह के मद्देनजर यह फोरम बनाया गया है जिसमें अमेरिका, यूरोप सहित 200 से अधिक देशों में रह रहे विदेशी पासपोर्टधारक शामिल हैं। इसमें प्रवासी भारतीय या भारतीय मूल के लोगों को शामिल नहीं किया गया है।

यह भी पढ़ेंः- बैंक मर्जर और रुपए में गिरावट का दिखा असर, सेंसेक्स 770 अंक टूटा, निफ्टी 2 फीसदी गिरकर बंद

मोदी ने कहा कि उनके फोरम ने सरकार से ओसीआई लोगों के लिए अलग से नियम बनाने की अपील की है क्योंकि वे जहां के मूल निवासी हैं वहां वे आयकर देने सहित सभी नियमों का पालन कर रहे हैं। इसके मद्देनजर भारत में उन्हें कुछ छूट देने की मांग की गई है। उन्होंने कहा कि यदि ओसीआई भारत में निवेश करना शुरू करेंगें तो देश की अर्थव्यवस्था में जबरदस्त तेजी आ सकती है क्योंकि उनके फोरम ने पांच साल में 100 अरब डॉलर निवेश का प्रस्ताव तैयार किया है।

यह भी पढ़ेंः- सोना हुआ एक बार फिर से 40 हजारी, 595 रुपए का इजाफा, चांदी भी उच्चतम स्तर पर

उन्होंने कहा कि ओसीआई वैश्विक स्तर पर भारतीय होटल व्यवसाय, चिकित्सा, आईटी, शिक्षा सहित विभिन्न क्षेत्रों में बड़ी भूमिका निभा रहे हैं और वे भारत में निवेश करने के लिए तैयार हैं। उन्होंने कहा कि ओसीआई की इस पहल के तहत 'न्यू इंडिया' को 50 खरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने में सहायता की जाएगी, जो वैश्विक भारतीयों को अपनी मातृभूमि को कुछ लौटाने का अवसर प्रदान करने के मंच के रूप में काम कर रहा है।

यह भी पढ़ेंः- मंदी की मार से गुजरात में इंडक्शन फर्नेस उद्योग में 7000 बेरोजगार

ओसीआई को किसी भी राजनीतिक दल को दान देने की अनुमति नहीं है, इस वजह से वह राजनीतिक रूप से सबसे ज्यादा उपेक्षित समुदाय है। ओसीआई अपना निवेश बढ़ाएं, अधिक लाभदायक भारतीय उद्यम विकसित करें और देश के आर्थिक विकास में भाग लें तो उन्हें देश में अधिक समय बिताने की अनुमति दी जानी चाहिए।

यह भी पढ़ेंः- ऑटो सेक्टर बेहाल, लेकिन इस ऑटो कंपनी ने निवेशकों को किया मालामाल

मोदी ने कहा कि फोरम ने ओसीआई की स्थिति प्रभावित किए बिना उन्हें भारत में रहने की अवधि को बढ़ाकर 270 दिन करने की सिफारिश की है। वर्तमान में ओसीआई भारत के बाहर अर्जित वैश्विक आय पर कर दिये बिना 182 दिन देश में रह सकते हैं।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned