2 सालों में नई ऊंचाईयों पर पहुंचेगी RIL, 200 अरब डॉलर के मार्केट कैप की पहली इंडियन कंपनी बनेगी

  • रिलायंस का मार्केट कैप 200 अरब डॉलर का हो सकता है
  • अमरीकी बैंक मेरिल लिंच ने इस संबध में जानकारी दी

By: Shivani Sharma

Updated: 17 Oct 2019, 12:24 PM IST

नई दिल्ली। देश की दिग्गज कंपनी रिलायंस को जल्द ही भारतीय बाजार में बड़ी सफलता मिल सकती है। रिटेल और ब्रॉडबैंड जैसे कारोबार में कदम रखने के बाद आरआईएल अगले 24 महीनों में 200 अरब डॉलर के मार्केट कैप वाली पहली कंपनी बन सकती है। बता दें कि इस समय शेयर बाजार में कंपनी का मार्केट कैप लगभग 122 अरब डॉलर का है।


बैंक मेरिल लिंच ने दी जानकारी

आपको बता दें कि अमरीकी बैंक मेरिल लिंच ने इस संबध में जानकारी दी है। रिलांयस जियो को लॉन्च करने के बाद से कंपनी ऊंचाइयों की ओर बढ़ती जा रही है। इसके साथ ही कंपनी ने शेयर बाजार में अपनी अलग ही पैठ बना रखी है।


कंपनी का मार्केट कैप 122 अरब डॉलर

ब्रोकरेज ने रिपोर्ट में कहा कि मौजूदा 122 अरब डॉलर के मार्केट कैप से 200 अरब डॉलर तक पहुंचने के लिए असंगठित किराना स्टोर्स में मोबाइल पॉइंट ऑफ सेल लगाकर रिटेल कारोबार पर पकड़, माइक्रोसॉफ्ट के साथ एसएमई सेक्टर में एंट्री और जियो फाइबर ब्रॉडबैंड कारोबार की अहम भूमिका होगी।


कंपनी का बढ़ा रेवेन्यू

रिपोर्ट में कहा गया है कि मुकेश अंबानी की कंपनी को टेलिकॉम कारोबार में प्रति मोबाइल फोन यूजर से मिलने वाला रेवेन्यू वित्त वर्ष 2022 तक मौजूदा 151 रुपये से बढ़कर 177 रुपये हो जाएगा। 1 करोड़ किराना स्टोर्स कंपनी को M-PoS इस्टॉल करने के लिए प्रतिमाह 750 रुपये का भुगतान करेंगे। 2 साल में ब्रॉडबैंक यूजर्स की संख्या 1.20 करोड़ हो सकती है, इनमें से 60 फीसदी प्रतिमाह औसतन 840 रुपये देंगे।


बड़ी संख्या में जोड़े ग्राहक

उल्लेखनीय है कि रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड भारत की सबसे बड़ी पेट्रोकेमिकल और दूसरी सबसे बड़ी ऑइल रिफाइनिंग कंपनी है। कंपनी के निवेश का बड़ा हिस्सा टेलिकॉम, कंज्यूमर रिटेल और मीडिया कारोबार में भी है। इसकी टेलिकॉम सब्सिडियरी, जियो तेजी से आगे बढ़ रही है और इसने बड़ी संख्या में ग्राहकों को अपने साथ जोड़ा है, जिससे कंपनी को अच्छी कमाई हो रही है।

Show More
Shivani Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned