9 लाख रोहिंग्याओं की मदद के लिए आगे बढ़ा संयुक्त राष्ट्र, मांगे 92 करोड़ डॉलर

9 लाख रोहिंग्याओं की मदद के लिए आगे बढ़ा संयुक्त राष्ट्र, मांगे 92 करोड़ डॉलर

Shivani Sharma | Updated: 16 Feb 2019, 04:09:13 PM (IST) कॉर्पोरेट

संयुक्त राष्ट्र की सहायता एजेंसियों एवं साझेदारों ने म्यांमार से भाग कर बांग्लादेश आए 9,00,000 से ज्यादा रोहिंग्याओं की सख्त जरूरतों को पूरा करने के लिए 92 करोड़ डॉलर देने की अपील की है।

नई दिल्ली। संयुक्त राष्ट्र की सहायता एजेंसियों एवं साझेदारों ने म्यांमार से भाग कर बांग्लादेश आए 9,00,000 से ज्यादा रोहिंग्याओं की सख्त जरूरतों को पूरा करने के लिए 92 करोड़ डॉलर देने की अपील की है। म्यांमार के अशांत क्षेत्र रखाइन प्रांत में हुई हिंसा के बाद ये रोहिंग्या वहां से भाग कर बांग्लादेश आ गए थे।


देश का सबसे बढ़ा संकट

आपको बता दें कि इस मामले ने विश्व का सबसे बड़ा शरणार्थी संकट पैदा कर दिया है। संयुक्त राष्ट्र के अनुमान के मुताबिक करीब 7,00,000 अल्पसंख्यक रोहिंग्या मुस्लिम भाग कर बांग्लादेश चले आए हैं, जहां वे उन 2,00,000 लोगों के साथ शामिल हो गए जो पहले से ही पिछले साल 25 अगस्त से वहां शरण लेकर रह रहे थे जब सेना ने म्यांमार में एक सैन्य कार्रवाई शुरू की थी।


करेगा 92 करोड़ डॉलर की मदद

रोहिंग्या मानवीय संकट से निपटने के लिए 2019 की संयुक्त कार्रवाई योजना के तहत 92 करोड़ डॉलर जुटाने का प्रयास किया जाएगा ताकि म्यांमार के 9,00,000 से ज्यादा शरणार्थियों एवं उन्हें शरण दे रहे 3,30,000 से अधिक बांग्लादेशियों की मदद हो सके।


फिलिप्पो ग्रांडी ने दी जानकारी

संयुक्त राष्ट्र में शरणार्थी मामलों के उच्चायुक्त फिलिप्पो ग्रांडी ने कहा कि हमारी मानवीय अनिवार्यता आज बेघर रोहिंग्या शरणार्थियों एवं उन्हें पनाह देने वाले बांग्लादेशियों की स्थिति को स्थिर करना है। इस साल की अपील के लक्ष्यों को हासिल करने के लिए हम समय पर, अनुमानित एवं लचीले योगदान की उम्मीद कर रहे हैं। इस साल के वित्तपोषण की जरूरतों में महत्त्वपूर्ण सहायता एवं भोजन, जल, स्वच्छता एवं आश्रय जैसी सेवाओं के लिए सबसे अधिक चंदा जुटाने का लक्ष्य रखा गया है। इसके अलावा स्वास्थ्य, शिक्षा, बाल संरक्षण एवं यौन एवं ***** आधारित हिंसा को संबोधित करने जैसे मुद्दे शामिल हैं।

(ये कॉपी भाषा से ली गई है।)

Read the Latest Business News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले Business News in Hindi की ताज़ा खबरें हिंदी में पत्रिका पर

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned