Titanic जहाज बनाने वाली कंपनी हो रही है दिवालिया, कभी 35 हजार लोग करते थे काम

Titanic जहाज बनाने वाली कंपनी हो रही है दिवालिया, कभी 35 हजार लोग करते थे काम

Saurabh Sharma | Publish: Aug, 07 2019 01:08:36 PM (IST) कॉर्पोरेट

  • हार्लेंड एंड वोल्फ शिपयार्ड का है करीब 158 साल पुरा इतिहास
  • टाइटैनिक के अलावा सेकंड वल्र्ड वॉर के लिए बनाए थे युद्घपोत
  • मौजूदा समय में कंपनी में बचें हैं सिर्फ 135 कर्मचारी

नई दिल्ली। टाइटैनिक ( Titanic ) यह सिर्फ एक फिल्म का टाइटल नहीं है। एक सच्चाई है। जाे करीब 100 साल पहले आइसबर्ग के टकराने से समुद्र में समा गया था। 1500 से ज्यादा लोग समुद्र के गर्भ में दम तोड़ गए थे। आज हम इस जहाज की बात नहीं करेंगे। बल्कि इस जहाज को बनाने वाली करीब 150 साल पुरानी कंपनी हार्लेंड एंड वोल्फ शिपयार्ड के बारे में चर्चा करेंगे। जल्द ही यह कंपनी दिवालिया होने जा रही है। आपको यह जानकर ताज्जुब होगा कि कभी इस कंपनी में 35 हजार लोग काम करते थे।

यह भी पढ़ेंः- आरबीआर्इ की बैठक से पहले शेयर बाजार सपाट, आर्इबीएचएफ के शेयरों में 8 फीसदी की गिरावट

टाइटैनिक डूबने के बाद भी कंपनी गढ़ रही थी सफलता की कहानी
टाइटैनिक डूबने का अनुभव भले ही कंपनी के लिए अच्छा ना रहा हो, लेकिन कंपनी ने उसके बाद भी कभी पीछे मुढ़कर नहीं देखा। कंपनी की सफलता लगातार आसमान छू रही थी। कहानी दूसरे विश्व युद्घ के बाद खराब हुई। जब ट्रांस-अटलांटिक एयर ट्रैवल बढऩे की वजह से शिप बिल्डिंग इंडस्ट्री सिमटने लगी। 1975 में हार्लेंड एंड वोल्फ नेशनलाइज्ड हुआ। 1989 में नार्वेजियनऑफशोर ड्रिलिंग कंपनी फ्रेड ओल्सन एनर्जी ने इसे खरीदा था। उस समय इस कंपनी में 10,000 लोग काम कर रहे थे। कंपनी का नाम डॉल्फिन ड्रिलिंग हो गया था। जिसने इसी साल की शुरुआत में दिलाविया प्रक्रिया के लिए फाइल किया है।

यह भी पढ़ेंः- आरबीआई ने लगातार चौथी बार घटार्इ ब्याज दरें, अब कम हाे जाएंगी होम और पर्सनल लाेन की किस्त

कभी 35 हजार लोग करते थे काम
अगर समय का पहिया थोड़ा पीछे की ओर घुमाएं तो 1935 यानी सेकंड वल्र्ड वॉर से पहले हार्लेंड एंड वोल्फ शिपयार्ड में करीब 35,000 कर्मचारी काम करते थे। अब मौजूदा समय में कंपनी दिवालिया प्रकिया ये गुजर रही है तो यहां पर सिर्फ 123 कर्मचारी ही काम कर रहे हैं।

यह भी पढ़ेंः- अपने पीछे 30 करोड़ रुपए की संपत्ति छोड़ गर्इ पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज

सिर्फ टाइटैनिक ही नहीं बल्कि युद्घपोतों का भी किया निर्माण
कंपनी की उपलब्धि सिर्फ टाइटैनिक तक ही सीमित नहीं है। कंपनी ने उसके बाद सेकंड वल्र्ड वॉर के लिए 150 से ज्यादा युद्धपोतों का भी निर्माण किया। 2003 के बाद से कंपनी ने एक भी जहाज या फिर युद्घपोत नहीं बनाया। कंपनी के बंद होने से पहले अक्षय उर्जा जैसे ऑफशोर विंड और ट्राइडल टर्बाइन पर काम कर रही थी।

यह भी पढ़ेंः- Petrol Diesel Price Today: पेट्रोल की कीमत में कटौती का सिलसिला थमा, डीजल के दाम भी स्थिर

कुछ ऐसा है टाइटैनिक का इतिहास
टाइटैनिक जहाज के बारे में वैसे तो बताने की जरुरत नहीं है। फिर भी इसका निर्माण 1909 में हुआ था और 1912 में बनकर पूरी तरह से तैयार हो गया था। टाइटैनिक अपनी पहली ही यात्रा में आइसबर्ग से टकराकर समुद्र में समा गया था। यह दुर्घटना समुद्री इतिहास के सबसे भीषण दुर्घटनाओं में से एक मानी जाते हैं। टाइटैनिक जहाज पर सवार 2,223 यात्रियों में से 1,517 यात्री मर गए थे।

 

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned