scriptHow celebrated Diwali in Bengal | जानिए कैसी होती है बंगाल की दिवाली क्या है चौदह शाक खाने की है परंपरा | Patrika News

जानिए कैसी होती है बंगाल की दिवाली क्या है चौदह शाक खाने की है परंपरा

दिवाली तो पूरी दुनिया में मनाई जाती है लेकिन बंगाल में दिवाली मनाने की परंपरा कुछ और है | दिवाली से एक दिन पहले भूत चतुर्दशी के दिन 14 प्रकार के साग का उपयोग करके यह व्यंजन तैयार किया जाता है |और इसको खाकर दिवाली मनाई जाती है |

नई दिल्ली

Published: November 03, 2021 08:42:45 pm

नई दिल्ली 16वीं शताब्दी में लि‍खी गई रघुनंदन ठाकुर की किताब “कृत्य-तत्व” में पहली बार भूत चतुर्दशी के दिन चौदह शाक खाने की परंपरा का जिक्र किया गया था |इसमें बताया गया था कि जो लोग कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को 14 प्रकार के साग खाते हैं उन्हें प्रेतों की छाया छू भी नहीं सकती | ऐसी भी मान्यता है कि शाक चतुर्दशी मनाने की शुरुआत साकलद्वीपी ब्राह्मणों ने ही की थी. महाभारत में भी इस चौदह शाक का जिक्र है | हैं इसलिए लोग उपलब्धता के अनुसार 14 प्रकार के साग का उपयोग यह व्यंजन बनाने के लिए करते हैं | चौदह शाक में जिन साग का उपयोग किया जाता है वे हैं सूरन के पत्ते, बथुआ साग केउ साग कसोंदी साग सरसों साग नीम जयंती गरुंडी गुरुचि परवल के पत्ते लसोड़ा हिंग्चा साग घेंटू साग और सुशनी साग हालांकि वर्तमान में इनमें से कई प्रकार के शाक आसानी से नहीं मिल पाते हैं
How celebrated  Diwali in Bengal
क्या है चौदह शाक खाने की है परंपरा
इस तरह बनाया जाता है चौदह शाक

सामग्री

14 प्रकार के साग 500 ग्राम, सरसों का तेल 4 चम्मच, सूखी लाल मिर्च, कलौंजी 1 चम्मच, लहसुन 4 टुकड़ी अदरक आधा इंच प्याज 1 हरी मिर्च 2 हल्दी पाउडर आधा चम्मच पोस्तो 1 चम्मच सरसों 1 चम्मच नमक स्वादानुसार
बनाने की विधि

कड़ाही में तेल गरम करके उसमें सूखी लाल मिर्च और कलौंजी डालें. कुछ देर बाद बारीक कटा हुआ लहसुन और बारीक कटा हुआ प्याज डालकर तब तक भूनें जब तक प्याज हल्का पारदर्शी न हो जाए | अब इसमें कटे हुए शाग डालकर 2 मिनट तक पकाएं |इसके बाद बारीक कटे हुए अदरक पिसे हुए पोस्तो हल्दी पाउडर पिसी हुई सरसों पिसी हुई हरी मिर्च और नमक डालकर साग को 5 मिनट तक पकाएं |अब इसमें आधा कप पानी डालें और ढककर धीमी आंच पर पकने दें | 15 मिनट बाद ढक्कन हटाकर आंच तेज कर दें और पानी कम होने तक पकाएं |ध्यान रहे कि शाक में पानी इतना ही बचे कि इससे रस टपके नहीं और ज्यादा सूखा भी ना हो अब इसे गरमागरम चावल के साथ परोसें |
तो बंगाल में लोग इस तरह का शाक पकाकर खाते हैं दिवाली के दिन 

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहचुनावी तैयारी में भाजपा: पीएम मोदी 25 को पेज समिति सदस्यों में भरेंगे जोशखाताधारकों के अधूरे पतों ने डाक विभाग को उलझायाकोरोना महामारी का कहर गुजरात में अब एक्टिव मरीज एक लाख के पार, कुल केस 1000000 से अधिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.