script Bhopal : Property rate hike because of collector guideline | महंगा हुआ सस्ते घर का सपना, इन इलाकों में मनमर्जी से बढ़ा दी गईं प्रॉपर्टी की कीमतें | Patrika News

महंगा हुआ सस्ते घर का सपना, इन इलाकों में मनमर्जी से बढ़ा दी गईं प्रॉपर्टी की कीमतें

भोपाल

Published: December 04, 2015 10:23:45 am


भोपाल। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सबको सस्ते घर का सपना संजोए हुए हैं। सरकारें इन ओर बढ़ भी रहीं हैं, पर प्रशासन की मनमर्जी सस्ते घर के सपने को दूर करती नजर आ रही है। दरअसल राजस्व बढ़ाने के चक्कर में गाइडलाइन के जरिए जमीन के रेट तो बढ़ा दिए गए, पर आज स्थिति ये है कि बिल्डरों को मकान बेचने के लिए खरीदार ही नहीं मिल रहे। इस बढ़ते रेट को लेकर कई बार आपत्तियां दर्ज कराई गई, पर प्रशासन सुनने को तैयार ही नहीं। आलम ये है कि कई इलाकों में पिछले पांच साल में प्रॉपर्टी की कीमतें पांच गुना अधिक हो चुकी हैं।

कीमतों में एेसे आया पांच गुना तक अंतर
क्षेत्र 2010-11 2012-13 2015-16
गांधी नगर 4500 15000 20000
भोपाल-इंदौर रोड 18000 35000 60000
सुल्तानिया, हमीदिया रोड 25000 50000 60000
बैरसिया रोड 15000 30000 50000
जवाहर चौक 25000 50000 72000
नेहरू नगर 15000 40000 50000
लिंक रोड नंबर-1 30000 70000 88000
शिवाजी नगर, तुलसी नगर 18000 35000 60000
एमपी नगर 25000 65000 80000
10 नंबर मार्केट 35000 70000 85000
अरेरा कॉलोनी ई1 से ई5 28000 50000 85000
ई-8 मेन रोड 13000 50000 60000
होशंगाबाद रोड 9000 40000 50000
रायसेन रोड 15000 30000 40000
नोट: सभी दरें आवासीय भूखंड के लिए रुपए प्रति वर्ग मीटर में

कीमतों में यहां है विसंगति
क्षेत्र गाइडलाइन दर वास्तविक मूल्य
बैरागढ़ कलां, भैंसाखेड़ी 11 हजार 7 हजार
लाउखेड़ी, बेहटा 8 हजार 5 हजार
गोंदरमउ, सिंगारचोली 20 हजार 8 हजार
हिनोतिया, सुहागपुर 18 हजार 10 हजार
खजूरी खुर्द 18 हजार 10 हजार
नोट: सभी दरें आवासीय भूखंड के लिए रुपए प्रति वर्ग मीटर में

इनका कहना है...

25 फीसदी घटें दाम
कलेक्टर गाइडलाइन में प्रॉपर्टी के रेट इतने बढ़ा दिए है कि प्रॉपर्टी बिकना बंद हो गई है। हमें विश्वास में नहीं लिया गया। सभी को मकान चाहिए तो कलेक्टर गाइड लाइन के रेट में 25 फीसदी की कमी करनी चाहिए।
- सुनील मूलचंदानी, एमडी चिनार ग्रुप

हम कर रहे विरोध
कलेक्टर गाइड लाइन के रेट को लेकर हम तो शुरू से ही विरोध कर रहे हैं। जहां वास्तविक से ज्यादा मूल्य है, वहां इसको कम करना चाहिए। सरकार से निवेदन है कि आने वाले समय में इसमें कोई वृद्घि न करे।
- अजय मोहगांवकर, चेयरमैन, क्रेडाई

आपत्ति दर्ज कराएं
गाइडलाइन के रेट बाजार मूल्य के आधार पर ही तय किए जाते हैं। इनमें विसंगतियों पर दावे-आपत्तियां बुलाए जाते हैं। यदि किसी को कोई आपत्ति है तो गाइडलाइन जारी होने के पहले अपनी आपत्ति दर्ज करा सकता है।
- डीएन दोहरे, वरिष्ठ जिला पंजीयक

मांग में काफी अंतर
कलेक्टर गाइडलाइन को मार्केट में एमआरपी बना दिया है। इससे कम में प्रॉपर्टी बेच ही नहीं सकते। जब बाजार बढ़ रहा था, तब और अब मांग में काफी अंतर है।
- वासिक हुसैन, अध्यक्ष, क्रेडाई भोपाल

रेट बढऩे से परेशानी
- वास्तविक से कई गुना अधिक कीमत पर स्टांप ड्यूटी देनी पड़ रही है।
- जमीनों की खरीद फरोख्त में लेनदेन से अधिक राशि पर आयकर देना पड़ रहा है। 
- प्रॉपर्टी टैक्स भी ज्यादा देना पड़ रहा है। 
- कई क्षेत्रों में प्रॉपर्टी फ्रीहोल्ड कराने के लिए दिया जाने वाला लीज रेंट भी बढ़ गया है। एक प्रतिशत राशि फ्रीहोल्ड के लिए जमा करानी होती है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

संसद में फिर फूटा कोरोना बम, बजट सत्र से पहले सभापति नायडू समेत अब तक 875 कर्मचारी संक्रमितRepublic Day 2022 parade guidelines: बिना टीकाकरण और 15 साल से छोटे बच्चों को परेड में नहीं मिलेगी इजाजतकोरोना ने टीका कंपनियों को लगाई मुनाफे की बूस्टरदेश में कोरोना के बीते 24 घंटे में 3 लाख से ज्यादा नए मामले, जानिए कुल एक्टिव मरीजों की संख्यासुप्रीम कोर्ट में 6000 NGO के FCRA लाइसेंस रद्द करने के खिलाफ याचिका पर सुनवाई आजMarriage की खुशियों के बीच मौत का तांडव: दूल्हा दुल्हन को ले जा रही कार ट्रक में घुसी, कई मौतेंAnganwadi Recruitment 2022 : दिल्ली में आंगनबाड़ी में कई पदों पर भर्ती, जानिए वैकेंसी डिटेलBSP ने जारी की स्टार प्रचारकों की लिस्ट, यह हैं बसपा के स्टार प्रचारक, इन पदाधिकारियों को नहीं मिली जगह
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.