3 January आज का Horoscope : आज है गुरु प्रदोष व्रत जाने क्या होता हैं जीवन पर इसका असर, मेष ,कन्या, कर्क पर इसका प्रभाव

आज के दिन का महामंत्र और खास उपाय

By: Mahendra Pratap

Updated: 03 Jan 2019, 03:02 PM IST

Ritesh Singh
लखनऊ , आज का दिन बहुत ही महत्वपूर्ण हैं आज गुरुप्रदोष का आज के दिन भगवान् विष्णु के साथ भगवान् शिव की भी पूजा अर्चना करनी चाहिए। पंडित शक्ति मिश्रा ने बतायाकि प्रदोष व्रत हर महीने की दोनों पक्षों की त्रियोदशी को यह व्रत किया जाता हैं। इस व्रत के करने से हर मनोकामना पूरी होती हैं। उन्होंने कहाकि हर प्रदोष व्रत की महिमा अलग अलग होती हैं। जैसे की आज के दिन पड़ने वाला प्रदोष व्रत पौष का गुरु प्रदोष व्रत हैं इसकी महिमा और महत्व और भी ज्यादा होती हैं।

आज के दिन का महामंत्र और खास उपाय

> ॐ नमो भगवते रुद्राय मंत्र का 11 माला जप करें।

> भगवान् शिव जी को पीले फूल अर्पित करें।

> आज के दिन शत्रु और विरोधियों के शांत हो जाने की प्रार्थना करें

> प्रदोष काल में भगवान शिव की उपासना जरूर करनी चाहिए करें

> रात को भगवान् शिव के समीप घी दीपक जलाए और ॐ नमः शिवाय मन्त्र का जप करें।

> आज रात में आठ दिशाओं में आठ दीपक जलाएँ।


त्रयोदशी, कृष्ण पक्ष
पौष""""समाप्ति काल)

तिथि----------त्रयोदशी27:20:52 तक
पक्ष ----------------------------कृष्ण
नक्षत्र----------अनुराधा11:02:41
योग----------------गण्ड25:46:23
करण--------------गरज14:42:14
करण-----------वाणिज27:20:52
वार---------------------------गुरूवार
माह------------------------------पौष
चन्द्र राशि--------------------वृश्चिक
सूर्य राशि------------------------धनु
रितु निरयन---------------------हेमंत
रितु सायन--------------------शिशिर
आयन---------------------उत्तरायण
संवत्सर----------------------विलम्बी
संवत्सर (उत्तर)----------विरोधकृत
विक्रम संवत-----------------2075
विक्रम संवत (कर्तक)-------2075
शाका संवत------------------1940

वृन्दावन
सूर्योदय-----------------07:11:31
सूर्यास्त------------------17:35:43
दिन काल---------------10:24:11
रात्री काल--------------13:36:01
चंद्रास्त------------------15:36:12
चंद्रोदय------------------29:28:30

लग्न----धनु18°15' , 258°15'

सूर्य नक्षत्र------------------पूर्वाषाढा
चन्द्र नक्षत्र------------------अनुराधा
नक्षत्र पाया----------------------ताम्र

पद, चरण

ने----अनुराधा 11:02:41

नो----ज्येष्ठा 17:27:49

या----ज्येष्ठा 23:54:34

यी----ज्येष्ठा 30:22:54

ग्रह गोचर

ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद

सूर्य=धनु 18°14 ' पू oषा o, 2 धा
चन्द्र =वृश्चिक 14°39 ' अनुराधा ' 4 ने
बुध=वृश्चिक 02 ° 49' मूल' 1 ये
शुक्र=तुला 01 ° 30, विशाखा , 4 तो
मंगल=मीन 07°13 ' उ o भा o' 2 थ
गुरु=वृश्चिक 18°07 ' ज्येष्ठा , 1 नो
शनि=धनु 17°18' पू o षा o ' 2 धा
राहू=कर्क 03 ° 23 ' पुष्य , 1 हु
केतु=मकर 03 ° 23' उo षाo, 3 जा

शुभ मुहूर्त

राहू काल 13:42 - 14:59अशुभ
यम घंटा 07:12 - 08:30अशुभ
गुली काल 09:48 - 11:06अशुभ
अभिजित 12:03 -12:44शुभ
दूर मुहूर्त 10:40 - 11:21अशुभ
दूर मुहूर्त 14:49 - 15:31अशुभ

गंड मूल11:03 - अहोरात्रअशुभ

चोघडिया, दिन
शुभ 07:12 - 08:30शुभ
रोग 08:30 - 09:48अशुभ
उद्वेग 09:48 - 11:06अशुभ
चाल 11:06 - 12:24शुभ
लाभ 12:24 - 13:42शुभ
अमृत 13:42 - 14:59शुभ
काल 14:59 - 16:18अशुभ
शुभ 16:18 - 17:36शुभ

चोघडिया, रात
अमृत 17:36 - 19:18शुभ
चाल 19:18 - 20:59शुभ
रोग 20:59 - 22:42अशुभ
काल 22:42 - 24:24अशुभ
लाभ 24:24 - 26:06शुभ
उद्वेग 26:06- 27:48अशुभ
शुभ 27:48 - 29:30शुभ
अमृत 29:30 - 31:12शुभ

होरा, दिन
बृहस्पति 07:12 - 08:04
मंगल 08:04 - 08:56
सूर्य 08:56 - 09:48
शुक्र 09:48 - 10:40
बुध 10:40 - 11:32
चन्द्र 11:32 - 12:24
शनि 12:24 - 13:16
बृहस्पति 13:16 - 14:08
मंगल 14:08 - 14:59
सूर्य 14:59 - 15:52
शुक्र 15:52 - 16:44
बुध 16:44 - 17:36

होरा, रात
चन्द्र 17:36 - 18:44
शनि 18:44 - 19:52
बृहस्पति 19:52 - 20:59
मंगल 20:59 - 22:08
सूर्य 22:08 - 23:16
शुक्र 23:16 - 24:24
बुध 24:24 - 25:32
चन्द्र 25:32 - 26:40
शनि 26:40 - 27:48
बृहस्पति 27:48 - 28:56
मंगल 28:56 - 30:04
सूर्य 30:04 - 31:12

नोट : दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है।
प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है।
चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार ।
शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥
रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार ।
अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥
अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें ।
उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें ।
शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें ।
लाभ में व्यापार करें ।
रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें ।
काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है ।
अमृत में सभी शुभ कार्य करें ।

दिशा शूल ज्ञान----दक्षिण
परिहार-आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा केशर युक्त दही खाके यात्रा कर सकते है l
इस मंत्र का उच्चारण करें

शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l
भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll

अग्नि वास ज्ञान
यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,
चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।
दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,
नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।।महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्
नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।
15 + 13 + 5 + 1= 34 ÷ 4 = 2 शेष
आकाश लोक पर अग्नि वास हवन के लिए अशुभ कारक है l

शिव वास एवं फल

28 + 28 + 5 = 61 ÷ 7 = 5 शेष

ज्ञानवेलायां = कष्ट कारक

भद्रा वास एवं फल -

रात्रि 27:20 से प्रारम्भ

स्वर्ग लोक = शुभ कारक

प्रदोष व्रत (शिव पूजन)

तादृशी जायते बुध्दिर्व्यवसायोऽपि तादृशः ।
सहायास्तादृशा एव यादृशी भवितव्यता ।।

सर्व शक्तिमान के इच्छा से ही बुद्धि काम करती है, वही कर्मो को नियंत्रीत करता है. उसी की इच्छा से आस पास में मदद करने वाले आ जाते है.

गीता ज्ञान

यस्त्विन्द्रियाणि मनसा नियम्यारभतेऽर्जुन ।,
कर्मेन्द्रियैः कर्मयोगमसक्तः स विशिष्यते ॥,

किन्तु हे अर्जुन! जो पुरुष मन से इन्द्रियों को वश में करके अनासक्त हुआ समस्त इन्द्रियों द्वारा कर्मयोग का आचरण करता है, वही श्रेष्ठ है॥

दैनिक राशिफल ( Daily Horoscope)

देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके।
नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।।
विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे।
जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।।

मेष (Aries)
वाहन व मशीनरी के प्रयोग में सावधानी रखें। जरा सी लापरवाही से अधिक हानि हो सकती है। पुराना रोग बाधा का कारण बन सकता है। वाणी पर नियंत्रण रखें। अपेक्षित कार्यों में विलंब हो सकता है। चिंता तथा तनाव रहेंगे। पार्टनरों से मतभेद संभव है। व्यवसाय ठीक चलेगा। समय नेष्ट है।

वृष (Taurus)
पारिवारिक चिंता बनी रहेगी। अनहोनी की आशंका रहेगी। शत्रुभय रहेगा। कानूनी अड़चन दूर होगी। जीवनसाथी से सहयोग प्राप्त होगा। कारोबार में वृद्धि होगी। नौकरी में अधिकारी प्रसन्न रहेंगे। रुके हुए कार्यों में गति आएगी। घर-बाहर सभी अपेक्षित कार्य पूर्ण होंगे। दूसरों के कार्य की जवाबदारी न लें।

मिथुन (Gemini)
प्रतिद्वंद्विता में वृद्धि होगी। जीवनसाथी से अनबन हो सकती है। स्थायी संपत्ति खरीदने-बेचने की योजना बन सकती है। परीक्षा व साक्षात्कार आदि में सफलता प्राप्त होगी। कारोबार में वृद्धि होगी। नौकरी में अधिकार बढ़ सकते हैं। छोटे भाइयों का सहयोग प्राप्त होगा। प्रसन्नता रहेगी। संचित कोष में वृद्धि होगी। प्रमाद न करें।

कर्क (Cancer)
लाभ के अवसर हाथ आएंगे। विद्यार्थी वर्ग सफलता हासिल करेगा। व्यापार में अधिक लाभ होगा। यात्रा मनोरंजक रहेगी। किसी आनंदोत्सव में भाग लेने का अवसर प्राप्त होगा। मनपसंद भोजन का आनंद प्राप्त होगा। लेन-देन में सावधानी रखें। शत्रुओं का पराभव होगा। विवाद को बढ़ावा न दें। भय रहेगा। प्रमाद न करें।

सिंह( Leo )
पारिवारिक समस्याओं में इजाफा होगा। चिंता तथा तनाव बने रहेंगे। भागदौड़ रहेगी। दूर से बुरी खबर मिल सकती है। विवाद को बढ़ावा न दें। बनते कामों में बाधा हो सकती है। दूसरों से अपेक्षा न करें। व्यवसाय ठीक चलेगा। आय में निश्चितता रहेगी। मातहतों से अनबन हो सकती है। कुसंगति से हानि होगी।

कन्या (Virgo)
पुराने किए गए प्रयासों का लाभ मिलना प्रारंभ होगा। मित्रों की सहायता कर पाएंगे। सामाजिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। नौकरी में अधिकारी प्रसन्न रहेंगे। किसी बड़े काम करने की योजना बनेगी। व्यवसाय लाभप्रद रहेगा। भाइयों का सहयोग मिलेगा। भाग्य का साथ मिलेगा। प्रसन्नता रहेगी।

तुला (Libra)
दूर से शुभ समाचार प्राप्त होंगे। आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। सुख के साधन जुटेंगे। पराक्रम बढ़ेगा। घर में मेहमानों का आगमन होगा। व्यय होगा। किसी पारिवारिक आयोजन का हिस्सा बन सकते हैं। निवेश शुभ रहेगा। व्यापार ठीक चलेगा। प्रसन्नता रहेगी। शत्रु परास्त होंगे।

वृश्चिक (Scorpio)
शारीरिक कष्ट से बाधा संभव है। प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। अप्रत्याशित लाभ हो सकता है। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। नौकरी में उच्चाधिकारी की प्रसन्नता प्राप्त होगा। आय में वृद्धि होगी। निवेश शुभ रहेगा। पार्टनरों का सहयोग प्राप्त होगा। लेन-देन में जल्दबाजी न करें।

धनु ( Sagittarius)
यात्रा में सावधानी रखें। जल्दबाजी से हानि होगी। अप्रत्याशित खर्च सामने आएंगे। चिंता तथा तनाव रहेंगे। पुराना रोग उभर सकता है। वाणी पर नियंत्रण रखें। दूसरों के कार्य में दखल न दें। अपेक्षित कार्यों में विलंब होगा। आय में निश्चितता रहेगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। प्रमाद न करें। लाभ बढ़ेगा।

मकर ( Capricorn )
कोई बड़ी बाधा आ सकती है। राजभय रहेगा। जल्दबाजी से काम बिगड़ेंगे। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। किसी के व्यवहार से स्वाभिमान को चोट पहुंच सकती है। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। नौकरी में अनुकूलता रहेगी। व्यापार में वृद्धि होगी।

कुंभ (Aquarius)
नई योजना बनेगी जिसका लाभ तुरंत नहीं मिलेगा। सामाजिक कार्य करने में रुचि रहेगी। प्रतिष्ठा बढ़ेगी। शारीरिक कष्ट संभव है। चिंता तथा तनाव हावी रहेंगे।
सभी तरफ से सफलता प्राप्त होगी। नौकरी में प्रभाव बढ़ेगा। व्यापार में वृद्धि होगी। आय बढ़ेगी। घर में प्रसन्नता रहेगी। ऐश्वर्य पर व्यय हो सकता है।

मीन (Pisces)
पूजा-पाठ में मन लगेगा। कोर्ट व कचहरी के काम बनेंगे। अध्यात्म में रुचि बढ़ेगी। व्यापार लाभदायक रहेगा। नौकरी में चैन रहेगा। निवेश शुभ रहेगा। किसी वरिष्ठ व्यक्ति का सहयोग प्राप्त होगा। बेचैनी रहेगी। चोट व रोग से बचें। विवेक से कार्य करें। लाभ में वृद्धि होगी। मान-सम्मान मिलेगा। प्रसन्नता रहेगी।

Show More
Mahendra Pratap Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned