UP: कानपुर मुठभेड़ के बाद यूपी के इन 33 बड़े माफियाओं को पकड़ने की तैयारी तेज, निशाने पर आए ये माफिया

- यूपी के हर जिले में टॉप 10 अपराधियों की तलाश शुरू

- योगी सरकार ने तैयारी की यूपी के 33 बड़े माफियाओं की लिस्ट

- भदोही में पुलिस और बदमाशों में भिड़ंत, 50 हजार का इनामी अपराधी रवि ढेर

- मुख्तार के 100 लोगों पर गैंगस्टर एक्ट, अतीक पर भी शिकंजा

By: Karishma Lalwani

Updated: 07 Jul 2020, 04:29 PM IST

लखनऊ. कानपुर मुठभेड़ (Kanpur Encounter) में दर्दनाक हमले के बाद यूपी सरकार ने अपराधियों के खिलाफ शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने अपराधियों को पकड़ने के लिए बड़ा अभियान चलाने की तैयारी शुरू कर दी है। मुख्यमंत्री के कड़े निर्देश के बाद उत्तर प्रदेश में टॉप 10 अपराधियों की सूची नए सिरे से बनाई जा रही है। इस काम में एडीजी जोन को भी शामिल किया गया है। हर थाने में जिले के टॉप 10 अपराधियों की सूची को अपडेट किया जाएगा। साथ ही उनकी हर गतिविधियों पर कड़ी नजर रखी जाएगी। दरअसल, कोरोना काल के कारण यूपी पुलिस अपराधियों की सूची को अपडेट नहीं कर पा रही थी। पर कानपुर में हुए हत्याकांड की घटना के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने तत्काल अपराधियों की सूची अपडेट करने के निर्देश दिए हैं।

कानपुर हत्याकांड के बाद योगी सरकार ने अपराधियों और माफियाओं पर सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। योगी सरकार ने 33 बड़े माफियाओं की लिस्ट तैयार की है। उनमें बाहुबली पूर्व सांसद अतीक अहमद, बीएसपी पार्षद बच्चा पासी, सपा नेता पूर्व ब्लॉक प्रमुख दिलीप मिश्रा और बीएसपी से जुड़े छोटा राजन गिरोह के सदस्य राजेश यादव समेत कई के नाम शामिल हैं। 14 हजार से अधिक अपराधी और 25 से ज्यादा माफिया अब पुलिस के सीधे निशाने पर होंगे।

जेल के टॉप 10 थाने होंगे सूचीबद्ध

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर हर जिले के जेल में बंद टॉप 10 अपराधियों को सूचीबद्ध करने के साथ ही उनकी गतिविधियों पर कड़ी निगाह रखने को कहा गया है। जेलों में बंद कई कुख्यात पहले से ही पुलिस के रडार पर रहे हैं। अब इनकी गतिविधियों पर और बारीकी से नजर रखे जाने को कहा गया है।

33 माफियाओं की लिस्ट तैयार

कानपुर घटना के बाद माफियाओं पर बुरी तरह नाराज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जारी ऑपरेशन क्लीन के तहत 33 बड़े माफियाओं की सूची तैयार की है। इनमें फतेहगढ़ जेल में बंद माफिया के अलावा लिस्ट में कई राजनेता व शूटर शामिल हैं जिन पर पुलिस को नये सिरे से काम करने के लिए निर्देश दिये गये हैं। इसके अलावा बाहुबली पूर्व सांसद अतीक अहमद, ध्रुव कुमार सिंह, मंडौली जेल में बंद मुनीर, सुभाष ठाकुर, लखनऊ में बंद खान मुबारक, त्रिभुवन सिंह उर्फ पवन, मोहम्मद सलीम, मोहम्मद सोहराब, मोहम्मद रूस्तम, ओम प्रकाश सिंह बबलू, ब्रजेश कुमार सिंह ऐसे तमाम माफिया हैं जिनके नामों की लिस्ट शासन ने मांगी थी।

पुलिस पर फिर हमला

कानपुर में पुलिस पर दर्दनाक हमले के बाद भदोही में पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़ हो गयी। जिले के सुरियावां थाना क्षेत्र के चकिया तिराहे पर पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़ हो गयी। मुठभेड़ में जेल से फरार 50 हजार का इनामी बदमाश दीपक गुप्ता उर्फ रवि मारा गया। जबकि उसका एक साथी मौके से भागने में सफल रहा। इस मुठभेड़ में बदमाशों की तरफ से की गयी फायरिंग में स्वाट प्रभारी अजय सिंह सेंगर के पैर में गोली लग गयी। जबकि एक कांस्टेबल के बुलेटप्रूफ जैकेट में भी गोली लगी।

मुख्तार के 100 लोगों पर गैंगस्टर एक्ट

कानपुर एनकाउंटर के बाद यूपी में ऑपरेशन क्लीन शुरू किया गया है। यूपी के मोस्ट वांटेड की सूची तैयार की गई है, जिसमें मुख्तार अंसारी का नाम सबसे ऊपर है। मुख्तार अंसारी की 50 अवैध संपत्तियां जब्त हो चुकी हैं। उसके अवैध कारोबार को नेस्तनाबूद किया गया है। वहीं मुख्तार अंसारी के 100 लोगों पर गैंगस्टर एक्ट भी लगाया गया है।

ये भी पढ़ें: मुख्तार अंसारी को लेकर आई बड़ी खबर, यूपी पुलिस के एक्शन क्लीन में लिया गया बहुत बड़ा एक्शन

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned