सावन में भूल से भी न करें ये पांच काम, शिव जी हो जाएंगे नाराज

इस बार सावन का महीना 28 जुलाई से शुरू हो रहा है।

By: आकांक्षा सिंह

Published: 20 Jul 2018, 08:57 AM IST

लखनऊ. इस बार सावन का महीना 28 जुलाई से शुरू हो रहा है। सावन के महीने में हम भगवान शिव की आराधना करते हैं। इस महीने में युवतियां, महिलाएं भगवान शिव के लिए व्रत रखती हैं जिसे सावन का सोमवार नाम से जाना जाता है। सावन का महीना भगवान शिव की आराधना के लिए जाना जाता है। यह माना जाता है कि सावन के सोमवार का व्रत रखने से लड़कियों को उनका मनचाहा साथी मिलता है। शादी- शुदा महिलाएं अपने पति की लंबी आयु के लिए सोमवार का व्रत रखती हैं। आज आपकों लखनऊ इंदिर नगर के रहने वाले आचार्य अशोक कुमार त्रिपाठी बताएंगे कि सावन में क्या क्या सावधानियां बरतनी चाहिए जिससे कि भगवान भोलेनाथ खुश हो सकें।

मांस मदिरा से बचें

सावन के महीने में नॉनवेज खाने से बचना चाहिए इसके अलावा इस महीने में शादी जैसे शुभ काम भी नहीं किए जाते हैं बल्कि इस समय ब्रह्मचर्य व्रत के नियमों का पालन करना चाहिए। सावन के महीने में एक व्रती को हरी सब्जियां और साग नहीं खाना चाहिए। शरीर पर तेल नहीं लगाना चाहिए और न ही कांस के बर्तन में खाना-खाना चाहिए। पूजा के समय में शिवलिंग पर हल्दी न चढ़ाएं।

दूध का सेवन न करें
सावन के महीने में दूध का सेवन बिल्कुल भी न करें क्योंकि हम सावन में भगवान शिव का दूध से अभिषेक करते हैं। बता दें कि इससे वात संबंधी दोष से बचाव होता है। सावन के महीने में दिन के समय नहीं सोना चाहिए। कहा जाता है कि इस महीने बैंगन नहीं खाना चाहिए। बैंगन को अशुद्ध माना गया है इसलिए द्वादशी, चतुर्दशी के दिन और कार्तिक मास में भी इसे खाने की मनाही होती है।

सांड आये तो..
इस सावन के महीने में अगर अपका सामना सांड से होता है तो उसे कुछ खाने को दें। सांड को घर से भगाना शिव की सावारी नंदी का अपमान माना जाता है। सावन के महीने में शिव भक्तों का अपमान न करें। भगवान शिव के भक्तों का सम्मान शिव की सेवा के समान फलदायी होता है।

क्रोध न करें
सावन के महीने में क्रोध नहीं करना चाहिए। घर के बड़े बुजुर्गों का सम्मान करें। जीवनसाथी के साथ भी किसी भी तरह के विवाद नहीं करना चाहिए। इन दिनों शिव पार्वती की पूजा से दांपत्य जीवन में प्रेम और तालमेल बढ़ता है, इसलिए किसी बात से मन मुटाव की आशंका होने पर शिव पार्वती की पूजा करनी चाहिए।

शिव का जलाभिषेक करें
सावन के महीने में रोज भगवान शिव का जलाभिषेक करना चाहिए। इससे कई जन्मों के पाप कम हो जाते हैं। शास्त्रों में बताया गया है सावन में सूर्योदय से पूर्व उठकर स्नान ध्यान करके भगवान शिव का अभिषेक करना चाहिए। देर तक सोने से यह अवसर हाथ से चला जाता है और ऐसे लोग शिव की कृपा से वंचित रह जाते हैं।

 

Show More
आकांक्षा सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned