5 वर्षों में महिला उत्पीडऩ की घटनाओं में 61 फीसदी इजाफा: कैग

5 वर्षों
में महिला उत्पीडऩ की घटनाओं में 61 फीसदी
इजाफा: कैग
Female oppression

Ritesh Singh | Updated: 24 Aug 2016, 04:56:00 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

महिलाओं की स्थित पर हुए कई ख़ुलासे  

लखनऊ, प्रदेश में 2010.11 से 2014.15 वित्तीय वर्ष के बीच महिलाओं के विरुद्ध अपराध की घटनाओं में 61 फीसदी की वृद्धि हुई। राज्य विधानसभा में पेश किये गये नियंत्रक महालेखा परीक्षक कैग की रिपोर्ट से यह तथ्य उभरकर सामने आये। रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2013.14 की तुलना में पिछले वर्ष बलात्कार के प्रकरणों में 43 और अपहरण की घटनाओं में 81 फीसदी की वृद्धि हुई। रिपोर्ट में कहा गया है कि राज्य में पुलिस जनशक्ति में 55 फीसदी की कमी है।

इसे यदि जल्दी पूरा नहीं किया गया तो आगे आपराधिक घटनाओं पर नियंत्रण में मुश्किल हो सकती है। कैग ने महिला पुलिसकर्मियों की कम संख्या पर भी चिन्ता जतायी है। रिपोर्ट में कहा गया है कि केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने सितम्बर 2009 में ही प्रदेश में कुल पुलिसकर्मियों की संख्या में 33 फीसदी महिलाओं की जरुरत बतायी थी लेकिन राज्य पुलिस में केवल 455 प्रतिशत ही महिलायें हैं।

बलात्कार पीडित महिलाओं को मदद पहुंचाने में शिथिलता बरते जाने की बात करते हुए रिपोर्ट में कहा गया है कि उच्चतम न्यायालय के आदेश पर केन्द्र सरकार ने बलात्कार पीडितों को वित्तीय सहायता एवं समर्थन सेवायें, न्याय को पुनव्र्यस्थित करने हेतु योजना, शुरु की थी ।

केन्द्र ने इस योजना के तहत 2010.12 के लिए अन्तरिम रुप से निर्धारित 1503 करोड रुपये की राशि राज्य द्वारा प्रयुक्त ही नहीं की गयी। रिपोर्ट में कहा गया है कि मार्च 2015 तक राज्य में केवल 42 जिलों में ही स्वाधार गृह स्थापित किये गये। लेखा परीक्षक में लिंग समानता में महिलाओं के विरुद्ध भेदभाव को कम करने के लिए 42 संस्तुतियां की गयी हैं। संस्तुतियों में कहा गया है कि इससे महिलाओं को काफी मदद मिल सकती है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned