खुशखबरी! सरकारी कर्मचारियों के लिए वित्त मंत्रालय ने लिया बड़ा फैसला

खुशखबरी! सरकारी कर्मचारियों के लिए वित्त मंत्रालय ने लिया बड़ा फैसला
MOney

Abhishek Gupta | Updated: 08 Jul 2017, 06:20:00 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

खुशखबरी- सरकार की इस योजना से 48 लाख कर्मचारियों को होगा बंपर फायदा

लखनऊ. सरकारी कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी है। वित्त मंत्रालय ने 48 लाख कर्मचारियों को बड़ा गिफ्ट देते हुए गुरुवार को 7वें वेतन आयोग की सिफारिशों के मुताबिक भत्तों की लिस्ट को नोटिफाई कर दिया है। इसमें उन 34 संशोधनों को शामिल किया गया है जिन्हें 28 जून को कैबिनेट की बैठक में मंजूरी दी गई। बढ़ाए गए भत्ते इसी महीने की एक जुलाई से देय होंगे।



सरकार पर बढ़ेगा करोड़ो का बोझ-
सरकार के इस कदम ने लाखों कर्मचारियों का लंबा इंतजार खत्म होगा लेकिन सरकारी खजाने पर 30 हजार 748 करोड़ का बोझ बढ़ेगा। सरकार ने निर्णय लिया था कि अलग-अलग शहरों में एचआरए एक्स, वाय और जेड श्रेणी के शहरों के लिए क्रमशः 5400 रुपये, 3600 रुपये और 1800 रुपये न्यूनतम होगा। केन्द्र सरकार ने जून 2016 में सातवें वेतन आयोग को लागू करने की मंजूरी देते हुए केन्द्रीय बजट में 84,933 करोड़ (वित्त वर्ष 2016-17) के साथ-साथ वित्त वर्ष 2015-16 में दो महीने के एरियर का प्रावधान कर दिया था।


ऐसे बढ़ेगा भोज-
केन्द्रीय कैबिनेट ने वेतन, भत्ते और पेंशन में बदलावों को मंजूरी देते हुए फैसला लिया था कि किए गए बदलाव 1 जनवरी 2016 से लागू होंगे। गौरतलब है कि केन्द्र सरकार ने इसी तारीख से 7वें वेतन आयोग की सिफारिशों को लागू किया था। इस फैसले से केन्द्र सरकार के खजाने पर 1,76,071 करोड़ रुपये का बोझ सिर्फ रिटायर्ड केन्द्रीय कर्मचारियों को वार्षिक पेंशन देने से पड़ेगा।


आपको बता दें कि इससे पहले मई में ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में हुई केन्द्रीय कैबिनेट की बैठक में सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों में प्रस्तावित सैलरी और पेंशन में अहम बदलाव को मंजूरी दे दी गई थी।
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned