लोकसभा चुनाव 2019 : आचार संहिता हुई लागू, जानें क्या है आचार संहिता (Aachar Sanhita) और कैसे काम करती है, देखें वीडियों

लोकसभा चुनाव 2019 : आचार संहिता हुई लागू, जानें क्या है आचार संहिता (Aachar Sanhita) और कैसे काम करती है, देखें वीडियों

Neeraj Patel | Publish: Mar, 06 2019 03:14:06 PM (IST) | Updated: Mar, 13 2019 06:14:07 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

लोकसभा चुनाव २०१९ की तारीखों का ऐलान होते ही उत्तर प्रदेश (यूपी) के सभी प्रत्याशियों को करना होगा आचार संहिता के नियमों का पालन, जानें कितने दिनों (आचार संहिता की अवधि) तक जारी रहेंगे आचार संहिता के नियम

 

यूपी. लोकसभा चुनाव २०१९ की तारीखों का ऐलान होते ही उत्तर प्रदेश में आचार संहिता (Aachar Sanhita) चुनाव समिति द्वारा आचार संहिता लागू कर दी जाएगी। इसके साथ ही सभी राजनीतिक पार्टियों को आचार संहिता के सभी नियमों का पालन करना होगा। अगर किसी पार्टी का कोई उम्मीदवार आचार संहिता के सभी नियमों का पालन नहीं करता है तो चुनाव आयोग उस पार्टी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई कर सकता है। यहां कि उसे लोकसभा चुनाव लड़ने से भी रोका जा सकता हैं।

आचार संहिता क्या होती है?

आचार संहिता (Code of Conduct) किसी राजनैतिक दल (पार्टी) के प्रत्याशी या फिर किसी संगठन के लिए सामाजिक व्यवहार को बनाए रखने के लिए निर्धारित नियमों को कहते हैं। आचार संहिता को अंग्रेजी में code of conduct कहते हैं।

आचार संहिता कैसे काम करती है, वीडियो जरूर देखें

आचार संहिता वीडियो - Click Here

आचार संहिता कब से लागू होगी/आचार संहिता की अवधि-

आप यहां से जान सकते हैं कि लोकसभा चुनाव में आचार संहिता कितने दिन पहले लगती है। आचार संहिता लोकसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान के साथ ही लागू कर दी जाती है और यह तब तक जारी रहती है जब तक लोकसभा चुनाव के परिणामों का ऐलान नहीं हो जाता है। आचार संहिता की अवधि लोकसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान होने के साथ से परिणाम आने तक की होती है। अगर इस बीच किसी भी पार्टी का उम्मीदवार कोई आचार संहिता के नियमों को नहीं मानता है तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी, यहां तक कि उसे लोकसभा चुनाव लड़ने से भी रोक दिया जाएगा। इसके साथ ही उस पर एफआईआर दर्ज कर जेल भी भेजा जा सकता है।

आचार संहिता क्यों होती है लागू

आचार संहिता सभी राजनैतिक पार्टियों पर लागू की जाती है। ताकि लोकसभा चुनाव में पार्टियों के बीच कोई मतभेद न हो। आचार संहिता लागू करके पार्टियों के बीच मतभेद टालकर, शांतिपूर्ण रूप से चुनाव कराया जाता है। आचार संहिता लागू होने के बाद कोई राजनैतिक पार्टी अपने अधिकारिक पदों का अपने लाभ के लिए इस्तेमाल नहीं कर सकता है।

आचार संहिता कब लगती है?

अगर आप जानना चाहतें हैं कि आचार संहिता कब लगती है तो आपको बता दें कि आचार संहिता तब लगती है जब लोकसभा चुनाव, विधानसभा चुनाव या फिर किसी भी चुनाव की घोषणा होती है। जैसे ही चुनाव की घोषणा होती है वैसे ही आचार संहिता लग जाती है।

Aachar Sanhita 2019 Date Kab se Hogi Lagoo Aur Iske Niyam Kya Hai

ये हैं आचार संहिता के नियम

१. सभी पार्टियों के उम्मीदवारों को प्रतिद्वंदी दलों के प्रत्याशियों का सम्मान करना चाहिए।
२. प्रतिद्वंदी दलों के उम्मीदवारों को उनके घर के सामने रोड शो या प्रदर्शन कर उन्हें परेशान न करें।
३. किसी पार्टी का कोई उम्मीदवार लाउड स्पीकर के माध्यम से प्राचर प्रसार करना चाहता है तो वह स्थानीय अधिकारियों से अनुमति जरूर लें।
४. प्रत्याशी अगर कोई अभियान कर रहा है तो उससे पहले पुलिस प्रशासन को सूचिक करें। जिससे सुरक्षा व्यवस्था की जा सके।
५. अगर पार्टी का कोई उम्मीदवार रैली आयोजित कर रहा है तो उससे यातायात व्यवस्था प्रभावित न हों।
६. मतदान के दिन कोई उम्मीदवार अपने चुनाव चिन्ह को पोलिंग बूथ के आस-पास नहीं दिखा सकते हैं।
७. पोलिंग बूथ पर पार्टी के जिन लोगों को तैनात किया जाएगा उनको चुनाव समिति द्वारा एक पास दिया जाएगा।
८. कोई भी व्यक्ति बिना पास के पोलिंग बूथ पर नहीं जा पाएगा।

लोकसभा चुनाव के दौरान सभी पार्टियों के उम्मीदवारों को आचार संहिता के इन नियमों को विशेष रूप से ध्यान रखना चाहिए ताकि लोकसभा चुनाव में उन्हें किसी प्रकार की कोई परेशानी न हो।

 

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned