रिव्यू पिटीशन पर एआईएमपीएलबी का बड़ा फैसला, जिलानी ने कहा सुन्नी वक्फ बोर्ड का निर्णय नहीं करेगा प्रभावित

बोर्ड के सचिव व वकील जफरयाब जिलानी ने कहा हम दिसंबर के पहले हफ्ते में रिव्यू पिटीशन दायर करेंगे

By: Abhishek Gupta

Published: 27 Nov 2019, 05:26 PM IST

लखनऊ. ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) ने दिसंबर के पहले सप्ताह में रिव्यू पिटीशन दायर करने का फैसला किया है। यह जानकारी बोर्ड ने अपने ट्विटर अकाउंट पर दी।

बोर्ड के सचिव व वकील जफरयाब जिलानी ने कहा हम दिसंबर के पहले हफ्ते में रिव्यू पिटीशन दायर करेंगे। मामले को आगे बढ़ाने के लिए सुन्नी वक्फ बोर्ड का निर्णय कानूनी रूप से हमें प्रभावित नहीं करेगा। सभी मुस्लिम संगठन हमारे साथ हैं।

बता दें कि जिलानी अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट में सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के भी वकील थे। लेकिन, फैसला आने के बाद उन्होंने खुद को सुन्नी वक्फ बोर्ड से अलग कर दिया। जिलानी ने कहा- मुस्लिम संगठन पर्सनल लॉ बोर्ड के साथ खड़े हैं। उन्होंने यह भी कहा कि जो पुनर्विचार याचिका का विरोध कर रहे हैं, वे किसी एक शहर में जाकर मुसलमानों का जलसा बुलाएं और उनकी राय सुनें। ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड अयोध्या केस में वादी नहीं था।

शरीयत के खिलाफ है दूसरी जगह जमीन लेने का फैसला

सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर असंतुष्टि जताते हुए जिलानी ने कहा था कि वे इसे आखिरी फैसला नहीं मानते और रिव्यू पिटीशन दायर करेंगे। उन्होंने कहा था कि पांच एकड़ जमीन दूसरी जगह लेना शरीयत के खिलाफ है। इस्लामी शरीयत इसकी इजाजत नहीं देता। सुप्रीम कोर्ट मस्जिद की जमीन को बदल नहीं सकता। अनुच्छेद 142 के मुताबिक वह किसी संस्थान के खिलाफ नहीं जा सकता।

ये भी पढ़ें: अदिति सिंह के बाद पंखुड़ी पाठक रचाएंगी शादी, अखिलेश के करीबी नेता संग लेंगी सात फेरे, वायरल हुआ शादी का कार्ड

Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned