scriptAkhilesh Yadav asked questions to BJP government regarding Farm Laws | भाजपा सरकार ने किसानों को हर मौके पर किया अपमान :अखिलेश यादव | Patrika News

भाजपा सरकार ने किसानों को हर मौके पर किया अपमान :अखिलेश यादव

आंदोलन की सफलता के लिए किसानों, नौजवानों को बधाई दी। भाजपा से सावधान रहने को चेतावनी देते हुए कहा कि तीनों कृषि कानूनों की वापसी भाजपा के अहंकार की हार और लोकतंत्र की जीत है। भाजपा सरकार को किसानों के हित से कोई मतलब नहीं। चुनाव में अपनी हार को सुनिश्चित जानकर ही भाजपा ने यह फैसला लिया है। इनका कोई भरोसा नहीं है, वह उत्तर प्रदेश चुनावों के बाद दोबारा से यह कानून ला सकते हैं।

लखनऊ

Published: November 19, 2021 06:44:57 pm

लखनऊ , समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि केन्द्र सरकार ने समाजवादी पार्टी को उत्तर प्रदेश में मिल रहे किसानों और जनता के भारी जनसमर्थन से घबराकर तीन काले कृषि कानूनों को वापस लिया है। भाजपा सरकार ने किसानों को हर मौके पर अपमानित किया है। सैकड़ों किसानों की सच्ची मौत के आगे झूठी माफी नहीं चलेगी। उन्होंने कहा कि भाजपा की नीयत साफ नहीं है, उसकी नज़र वोटो पर है। किसान और जनता इन्हें माफ नहीं करेगी। अब भाजपा का सफाया तय है।
भाजपा सरकार ने किसानों को हर मौके पर किया अपमान :अखिलेश यादव
भाजपा सरकार ने किसानों को हर मौके पर किया अपमान :अखिलेश यादव
अखिलेश यादव आज यहां समाजवादी पार्टी मुख्यालय में प्रेस कांफ्रेन्स में मीडिया से बात करते रहे थे। उन्होंने आंदोलन की सफलता के लिए किसानों, नौजवानों को बधाई दी। भाजपा से सावधान रहने को चेतावनी देते हुए कहा कि तीनों कृषि कानूनों की वापसी भाजपा के अहंकार की हार और लोकतंत्र की जीत है। भाजपा सरकार को किसानों के हित से कोई मतलब नहीं। चुनाव में अपनी हार को सुनिश्चित जानकर ही भाजपा ने यह फैसला लिया है। इनका कोई भरोसा नहीं है, वह उत्तर प्रदेश चुनावों के बाद दोबारा से यह कानून ला सकते हैं।

उन्होंने कहाकि लखीमपुर में किसानों को टायरों से कुचल दिया गया उनकी हत्या हुई, इसकी जिम्मेदारी से सरकार कैसे बच सकती है? जिस मंत्री के कारण लखीमपुर की घटना हुई, उसकी जिम्मेदारी से सरकार कैसे बच सकती है। घटना का जिम्मेदार मंत्री अभी भी केन्द्रीय मंत्रिमण्डल में है। उसको अभी तक क्यों हटाया नहीं गया? किसानों को खाद, कीट नाशक के लिए लाइन लगानी पड़ रही है। पूरे प्रदेश में किसान को कहीं धान की कीमत नहीं मिली। गन्ने का बकाया मूल्य नहीं मिला। डीजल-महंगा है।
अखिलेश यादव ने कहा कि इसका भरोसा कौन दिलाएगा कि भविष्य में ऐसे कानून नहीं लाए जाएंगे, जो किसानों को संकट में डाले। भाजपा ने किसान विरोधी कानून वापस लेने का फैसला धोखा देने के लिए किया है। भाजपा की प्राथमिकता किसान नहीं वोट है।समाजवादी पार्टी किसानों की पार्टी है जिसने हमेशा किसान हित के फैसले लिए हैं। समाजवादी शुरू से किसानों के आंदोलन के साथ रहे हैं। सरकार ने सबसे ज्यादा मुकदमे समाजवादी कार्यकर्ताओं पर लगाए हैं। भाजपा को हटाए बिना किसानों का भला नहीं होगा।
अखिलेश यादव ने कहा कि किसान और नौजवान जिस तरह से समाजवादी पार्टी की विजय यात्रा में सड़क पर निकले उससे लखनऊ ही नहीं, दिल्ली भी हिल गई है। इससे पहले भी भाजपा सरकार ने नोटबंदी की थी उससे अर्थव्यवस्था कहां सुधरी? बैंक की लाइन में जन्में खजांची की फिक्र किसी ने नहीं की। सिर्फ समाजवादी पार्टी उसका जन्मदिन मनाती है। उन्होंने कहा महोबा, हमीरपुर, झांसी, बांदा में मण्डियों को भाजपा सरकार ने फंड नहीं दिया। सरकार ने एमएसपी की अनिवार्यता नहीं लागू की। भाजपा के कानून उद्योगपतियों के लिए बने है। महंगाई बढ़ाकर गरीब को बर्बाद कर दिया। अब किसानों-नौजवानों ने निश्चिय कर लिया है कि भाजपा को फिर सत्ता में नहीं आने देंगे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Subhash Chandra Bose Jayanti 2022: आज इंडिया गेट पर सुभाष चंद्र बोस की होलोग्राम प्रतिमा का PM Modi करेंगे लोकार्पणदिल्ली में जनवरी में बारिश का पिछले 32 साल का रिकॉर्ड ध्वस्त, ठंड से छूटी कंपकंपी, एयर क्वालिटी में सुधारCovid-19 Update: भारत में कोरोना के 3.37 लाख नए मामले, मौत के आंकड़ों ने तोड़े सारे रिकॉर्डUP चुनाव में PM Modi से क्यों नाराज़ हो रहे हैं बिहार मुख्यमंत्री नितीश कुमारU19 World Cup: कौन है 19 साल का लड़का Raj Bawa? जिसने शिखर धवन को पछाड़ रचा इतिहासAjmer Urs : 1 फरवरी को उतरेगा संदल, 2 को खुलेगा जन्नती दरवाजाUP Top News: उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा विभाग शिक्षक पात्रता परीक्षा आज, दो पालियों में परीक्षासरदार पटेल के बाद बीजेपी का फोकस अब सुभाषचंद BOSE पर, मनाएंगे पराक्रम दिवस
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.