कोरोना का खौफः अखिलेश ने भी साइकिल यात्रा समेत रद्द किए सभी आंदोलन व क्षेत्रीय कार्यक्रम, किया बड़ा ऐलान

कोरोना से देश में बन रहे इमेरजेंसी जैसा हालातों के बीच समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी चिंता जाहिर की है।

By: Abhishek Gupta

Published: 19 Mar 2020, 04:54 PM IST

लखनऊ. कोरोना से देश में बन रहे इमेरजेंसी जैसे हालातों के बीच समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी चिंता जाहिर की है। उन्होंने कहा कि कोरोना से निपटने के लिए यूपी के अस्पताल में जरूरी सुविधाएं नहीं हैं। कोरोना की जांच की, इसके इलाज की सुविधा व दवाईयां भी अस्पतालों में नहीं है। सीएम योगी पर हमला करते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि वह इसे महामारी मानने को तैयार नहीं है। गुरुवार को उन्होंने सपा कार्यालय में प्रेस वार्ता की और कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए 22 मार्च को अपनी साइकिल यात्रा को स्थगित करने का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि हमने अपने सभी आंदोलन व क्षेत्रीय कार्यक्रम स्थगित कर दिए हैं। नवरात्रि के बाद ही अब सभी कार्यक्रम किये जायेंगे। इसी के साथ ही उन्होंने कार्यकर्ताओं से कोरोना को लेकर सतर्क रहने के निर्देश दिए हैं। अखिलेश खुद भी एहतियातन प्रेस वार्ता से पूर्व हाथों को सैनिटाइजर करते हुए दिखे। आपको बता दें कि यूपी में कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 19 हो गई।

ये भी पढ़ें- थूक से कोरोना फैलने के डर से यहां पान मसाला व गुटखा की बिक्री पर लगा प्रतिबंध

अखिलेश यादव ने सीएम योगी आदित्यनाथ पर आरोप लगाया कि वह कोरोना को लेकर गंभीर नहीं हैं। वह इसे महामारी मानने को भी तैयार नहीं है। अखिलेश ने चिंता जाहिर करते हुए कहा कि यूपी के किसी भी अस्पताल में कोरोना की जांच की अच्छी सुविधा नहीं है। अस्पतालों में न ही दवाई है ना ही इलाज के बेहतर सुविदा। ऐसे में पीडि़त जनता कोरोना का कैसे मुकाबला करेगी।

22 अप्रैल से होंगे कार्यक्रम-
अखिलेश यादव ने मीडिया को संबोधित करते हुए बताया कि सपा अब नवरात्रि के बाद हीअपने कार्यक्रमों को धार व रफ्तार देगी। अब 22 अप्रैल से सभी स्थगित कार्यक्रम शुरू होंगे। इस दौरान उन्होंने सीएम योगी पर हमला करते हुए कहा कि वह दमदार निर्णय लेने वाली सरकार नहीं है। यह सरकार किसानों के गन्ने के भुगतान को सबसे पहले गिनाती है। प्रदेश में वर्तमान समय में खाद समेत कई चीजें महंगी हुई हैं। किसान बेहाल है। यूपी में सबसे ज्यादा किसानों ने आत्महत्या की है। हमारी पार्टी के विधायकों ने महोबा का दौरा किया है। वहां पर 65 किसानों ने आत्महत्या की है।

coronavirus
Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned